scorecardresearch
 

बिजली मंत्री बनाने से नाराज हैं नवजोत सिद्धू? 21 दिन बाद भी नहीं लिया चार्ज

देश में खेती के सीजन के बीच पंजाब के बिजली मंत्री पिछले तीन हफ्तों से अपने दफ्तर नहीं पहुंचे हैं. 6 जून को पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने कैबिनेट में फेर बदल किया था. तब कैप्टन अमरिंदर ने नवजोत सिंह सिद्धू से महत्वपूर्ण माना जाने वाला विभाग ले लिया था और उन्हें बिजली और नयी एवं नवीकरणीय ऊर्जा का प्रभार दिया था.

पंजाब के बिजली मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो) पंजाब के बिजली मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू (फाइल फोटो)

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब का बिजली मंत्री बने हुए 21 दिन हो गए हैं लेकिन सिद्धू ने न तो अब तक चार्ज लिया है और न ही अपने ऑफिस आए हैं. राज्य में इस वक्त धान की बुआई का मौसम है, किसानों को खेतों में रोजाना आठ से दस घंटे तक बिजली चाहिए होती है, लेकिन मंत्री न होने की वजह से किसान परेशान हैं. सिद्धू की गैरमौजूदगी में कैप्टन अमरिंदर सिंह खुद बिजली विभाग के अधिकारियों की मीटिंग ले चुके हैं.

देश में खेती के सीजन के बीच पंजाब के बिजली मंत्री पिछले तीन हफ्तों से अपने दफ्तर नहीं पहुंचे हैं. 6 जून को पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपनी कैबिनेट में फेर बदल किया था. तब कैप्टन अमरिंदर ने नवजोत सिंह सिद्धू से महत्वपूर्ण माना जाने वाला स्थानीय शासन विभाग ले लिया था और उन्हें बिजली और नयी एवं नवीकरणीय ऊर्जा का प्रभार दिया था. माना जाता है कि सिद्धू अपना पोर्टफोलियो छीने जाने से नाराज थे. सिद्धू की ये नाराजगी अभी तक जारी है. 21 दिन गुजर जाने के बाद भी सिद्धू ने बिजली मंत्री का चार्ज नहीं संभाला है.

इस बीच बिजली मंत्री के अभाव में बिजली सप्लाई पर असर पड़ा है. इस वक्त किसानों को खेती के लिए बिजली की जरूरत होती है, लेकिन मंत्री के अभाव में सप्लाई व्यवस्था पर असर पड़ी है. हालांकि दिक्कत दूर करने के लिए सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह खुद बिजली विभाग के अधिकारियों की मीटिंग ले रहे हैं और उन्हें लगातार निर्देश दे रहे हैं.

इस बीच बुधवार को सचिवालय में नवजोत सिंह सिद्धू के ऑफिसर के सामने बिजली मंत्री वाली नेम प्लेट जरूर लगा दी गई. इससे अब उम्मीद जताई जा रही है कि सिद्धू जल्द बिजली महकमे को ज्वाइन कर सकते हैं. मंत्रालय में फेरबदल किये जाने के बाद सिद्ध ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी से मुलाकात की थी. 9 जून को इसकी तस्वीरें उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर भी डाला था. इसके बाद से उनका ट्विटर भी शांत पड़ा हुआ है.

मंत्री महोदय की गैर हाजिरी के बीच बिजली मंत्रालय में काम कराने आने वाले लोगों को परेशान होना पड़ रहा है. कई किसान भी अपनी अर्जी लेकर आ चुके हैं, लेकिन यहां सुनने वाला कोई नहीं है. अब कांग्रेस के विधायक ही सिद्धू को नसीहत दे रहे हैं कि उन्हें अपनी जिद छोड़नी चाहिए और किसानों के हितों को देखते हुए मंत्रालय ज्वाइन कर लेना चाहिए. कांग्रेस विधायक नवतेज चीमा ने कहा कि गर्मी की वजह से किसान और आम जनता दोनों ही परेशान हो रही है, इसलिए उन्हें तुरंत अपना मंत्रालय ज्वाइन करना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें