scorecardresearch
 

राष्ट्रपति कोविंद के लिए PAK ने नहीं खोला एयरस्पेस, भारत ने जतायी नाराजगी

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के लिए एयरस्पेस खोलने से पाकिस्तान के इनकार करने पर भारत ने नाजारगी जाहिर की है. पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शनिवार को कहा कि मौजूदा हालात में पाकिस्तान भारत को अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल की इजाजत नहीं दे सकता है.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार

  • राष्ट्रपति कोविंद के लिए पाकिस्तान का एयरस्पेस खोलने से इनकार
  • भारत ने पाकिस्तान के इस कदम पर नाराजगी व्यक्त की

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के लिए एयरस्पेस खोलने से पाकिस्तान के इनकार करने पर भारत ने नाजारगी जाहिर की है. पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शनिवार को कहा कि मौजूदा हालात में पाकिस्तान भारत को अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल की इजाजत नहीं दे सकता है. पाकिस्तान से मिले जवाब पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने नाराजगी व्यक्त की.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, 'हम पाकिस्तान सरकार की ओर से वीवीआईपी विशेष उड़ान के लिए ओवरफ्लाइट क्लीयरेंस से इनकार करने के फैसले पर नाराजगी व्यक्त करते हैं. जो कि किसी भी सामान्य देश की ओर से दी जाती है.'

बता दें कि राष्ट्रपति कोविंद की सोमवार से आइसलैंड, स्विट्जरलैंड और स्लोवेनिया की यात्रा शुरू होगी. इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शनिवार को कहा कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की आइसलैंड की यात्रा के लिए उनके हवाई क्षेत्र से विमान को गुजरने देने संबंधी भारत के अनुरोध को अस्वीकार कर दिया गया है.

कुरैशी ने कहा कि कश्मीर में तनावपूर्ण स्थिति के मद्देनजर प्रधानमंत्री इमरान खान ने यह निर्णय लिया है. राष्ट्रपति कोविंद अपनी यात्रा के दौरान भारत की 'राष्ट्रीय चिंताओं' खासतौर पर इस साल पुलवामा में हुए हमले सहित आतंकवादी घटनाओं से इन देशों के शीर्ष नेतृत्व को अवगत करा सकते हैं.

भारत की ओर से जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के बाद से इमरान सरकार भारत पर प्रतिबंध लगाने को लेकर विपक्ष और कुछ मंत्रियों के दबाव में हैं. अभी तक पाकिस्तान ने हवाई क्षेत्र को पूरी तरह से प्रतिबंधित करने पर फैसला नहीं किया है लेकिन राष्ट्रपति कोविंद के विमान को मंजूरी न देकर उसने अपनी मंशा जाहिर की है.

कश्मीर में पुलवामा आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों के शहीद होने पर भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी शिविरों को नष्ट किया था, जिसके बाद पाकिस्तान ने 26 फरवरी को अपने हवाई क्षेत्र को पूरी तरह से बंद कर दिया था.

हालांकि, 27 मार्च को उसने नई दिल्ली, बैंकॉक और कुआलालंपुर को जाने वाली उड़ानों को छोड़ बाकी के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोल दिया था. 15 मई को पाकिस्तान ने भारत जाने वाले विमानों के लिए प्रतिबंध को 30 मई तक बढ़ा दिया था. पाकिस्तान ने 16 जुलाई को अपने हवाई क्षेत्र को सभी नागरिक विमानों के लिए खोला. लेकिन जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें