scorecardresearch
 

ISIS के अबूधाबी मॉडयूल की तलाश में हैदराबाद- वर्धा में NIA के छापे, 4 संदिग्धों से पूछताछ

हिरासत में लिए गए लोगों के पास से एनआईए ने भारी मात्रा में डिजिटल उपकरण बरामद किए हैं. बरामद डिजिटल उपकरणों में 13 मोबाइल फोन, 11 सिम कार्ड, 1 आईपैड, 2 लैपटॉप, एक एक्सटर्नल हार्डडिस्क, 6 पेन ड्राइव, 6 एसडी कार्ड और 6 वॉकी टॉकी सेट शामिल हैं.

हैदराबाद में NIA के अधिकारी छापे के बाद एक शख्स को हिरासत में लेते हुए. (फोटो-पीटीआई) हैदराबाद में NIA के अधिकारी छापे के बाद एक शख्स को हिरासत में लेते हुए. (फोटो-पीटीआई)

एनआईए ने आतंकी संगठन ISIS मॉड्यूल से जुड़े एक मामले में शनिवार को महाराष्ट्र और तेलंगाना में छापेमारी की. इस मामले में एनआईए 4 संदिग्धों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ कर रही है. इनके पास से एनआईए ने भारी मात्रा में डिजिटल उपकरण बरामद किए हैं. बरामद डिजिटल उपकरणों में 13 मोबाइल फोन, 11 सिम कार्ड, 1 आईपैड, 2 लैपटॉप, एक एक्सटर्नल हार्डडिस्क, 6 पेन ड्राइव, 6 एसडी कार्ड और 6 वॉकी टॉकी सेट शामिल हैं.

एनआईए ने कहा है कि 2016 के अबू धाबी मॉडयूल मामले की जांच के तहत हैदराबाद और वर्धा में संदिग्धों के ठिकाने पर छापेमारी की गई. एनआईए ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि एनआईए 2016 के एक मामले की जांच कर रही है जिसमें आरोप है कि ISIS के सदस्य एक कथित साजिश में शामिल थे जिसके तहत इस प्रतिबंधित संगठन में शामिल होने के लिए भारतीय युवा मुसलमानों की पहचान करना, उन्हें प्रेरित करना, कट्टर बनाना, भर्ती और प्रशिक्षण देना शामिल था.

एनआईए के मुताबिक हिरासत में लिए गए चार संदिग्धों में 2 महाराष्ट्र के रहने वाले हैं और वर्तमान में हैदराबाद में फलकनुमा थाना क्षेत्र और मैलारदेवपल्ली थाना क्षेत्र में रह रहे थे. दूसरा शख्स हैदराबाद का रहने वाला है.

एनआईए ने जनवरी 2016 में तीन अभियुक्तों शेख अजहर-उल-इस्लाम, अधान हसन और मोहम्मद फरहान शेख के खिलाफ मामला दर्ज किया था और उन्हें अबू धाबी से दिल्ली पहुंचने पर गिरफ्तार कर लिया था. इसके बाद एनआईए ने अगस्त 2018 में ISIS के प्रति सहानुभूति रखने के आरोप में मोहम्मद अब्दुल्ला बासित और मोहम्मद अब्दुल कादिर को हैदराबाद से गिरफ्तार किया था.

रिपोर्ट के मुताबिक इस साल सात फरवरी को एनआईए ने अबूधाबी मॉडयूल मामले में जांच को आगे बढ़ाते हुए दो आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया और इस मॉडयूल के बारे में मिली सुराग के आधार पर नए सिरे छापेमारी की. एनआईए का कहा है कि बासित, आरोपी अदनान हासन और अपने कुछ सहयोगियों के साथ लगातार संपर्क में था. ये लोग ISIS की गतिविधियां बढ़ाने की साजिश रच रहे थे.

एनआईए के मुताबिक हिरासत में लिए गए चार संदिग्धों में 2 महाराष्ट्र के रहने वाले हैं और वर्तमान में हैदराबाद में फलकनुमा थाना क्षेत्र और मैलारदेवपल्ली थाना क्षेत्र में रह रहे थे. दूसरा शख्स हैदराबाद का रहने वाला है.

जांचकर्ताओं ने पाया है कि बासित का संपर्क अमेरिका में रहने वाले मतिन अजीजी नाम के आतंकी से था. मतिन को अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई ने मई 2018 में एक आतंकी साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें