scorecardresearch
 

राहुल गांधी ने RBI को लिखा खत, केरल के किसानों के लिए मांगी राहत

बाढ़ से बेहाल केरल के किसानों के लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांता दास को खत लिखा है. राहुल गांधी ने कहा कि कई सालों के बाद केरल में सबसे विनाशकारी बाढ़ आई है. मैं रिजर्व बैंक से अनुरोध करता हूं कि दिसंबर 2019 तक किसानों के लिए कर्ज की अदायगी की मियाद बढ़ा दी जाए.

राहुल गांधी (फाइल फोटो) राहुल गांधी (फाइल फोटो)

बाढ़ से बेहाल केरल के किसानों के लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांता दास को खत लिखा है. राहुल गांधी ने कहा कि कई सालों के बाद केरल में सबसे विनाशकारी बाढ़ आई है. मैं रिजर्व बैंक से अनुरोध करता हूं कि दिसंबर 2019 तक किसानों के लिए कर्ज की अदायगी की मियाद बढ़ा दी जाए.

राहुल गांधी ने अपने पत्र में लिखा, केरल में बाढ़ के चलते किसानों की फसल का बहुत नुकसान हुआ है. किसानों की फसल नष्ट हो गई है. केरल में किसानों द्वारा आत्महत्या करने के मामले में अचानक बढ़ोत्तरी हुई है.

इससे पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी अपने संसदीय क्षेत्र केरल के वायनाड दौरे पर गए थे. राहुल गांधी ने अपने संसदीय क्षेत्र में बाढ़ से प्रभावित लोगों को सभी प्रकार की मदद मुहैया कराने का आश्वासन दिया था. गांधी ने सोमवार को थिरुवमपदी में एक राहत शिविर में लोगों को संबोधित करते हुए कहा था, "संकट की इस घड़ी में हम सभी आपके साथ हैं. मैं न केवल कांग्रेस कार्यकर्ताओं से, बल्कि सभी से अपील करता हूं कि वे आप लोगों की पीड़ा को कम करने में अपना योगदान दें. आपको अपने भविष्य को लेकर चिंतित होने की जरूरत नहीं है, क्योंकि हम आपके जीवन को दोबारा सामान्य बनाने में मदद करेंगे."

उन्होंने शिविर में मौजूद लोगों से यह भी कहा था कि उन्होंने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात कर केरल में बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए मदद मांगी है. राहुल गांधी ने कहा था, "आज ईद है और मैं जानता हूं कि लोग परेशान हैं लेकिन फिर भी मैं इस अवसर पर आप सभी को ईद पर्व की शुभकामनाएं देता हूं. हम मुश्किलों का सामना कर रहे लोगों की मदद करेंगे."

लगातार हो रही बारिश के कारण आई बाढ़ से केरल में काफी नुकसान हुआ है. राज्य में अभी तक बाढ़ के कारण 77 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है और 2 लाख 87 हजार से अधिक लोगों को अपना घर छोड़कर 1654 से अधिक राहत शिविरों में शरण लेनी पड़ी है. सबसे अधिक, 18 लोगों की मौत वायनाड में हुई है जो वायनाड, कोझीकोड और मलप्पुरम के तीन जिलों में फैला हुआ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें