scorecardresearch
 

आज लॉन्‍च होगा इनसेट 3DR, जानें क्‍यों है ये खास और कैसे बढ़ेगा हमारा कद

जीएसएलवी-एफ05 के जरिए 2211 किलोग्राम वजन के इनसेट 3 डीआर सैटेलाइट को जियोस्टेशनरी ट्रांसफर ऑर्बिट में लॉन्च किया जाएगा.

श्रीहरिकोटा से जीएसएलवी के जरिए किया जाएगा लॉन्च श्रीहरिकोटा से जीएसएलवी के जरिए किया जाएगा लॉन्च

भारतीय स्पेस एजेंसी-इसरो मौसम विज्ञान के क्षेत्र में महत्वपूर्ण कदम आगे बढ़ाते हुए आज जीएसएलवी के जरिए इनसेट-3 डीआर लॉन्च करने जा रही है. ये एक वेदर सैटेलाइट है और इसे श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से गुरुवार शाम 4 बजकर 10 मिनट पर लॉन्च किया जाएगा. भारत के जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हिकल की ये दसवीं उड़ान होगी और इस उड़ान को जीएसएलवी-एफ05 नाम दिया गया है.

जीएसएलवी-एफ05 के जरिए 2211 किलोग्राम वजन के इनसेट-3 डीआर सैटेलाइट को जियोस्टेशनरी ट्रांसफर ऑर्बिट में लॉन्च किया जाएगा. इनसेट-3 डीआर सैटेलाइट जियोस्टेशनरी ट्रांसफर ऑर्बिट में रखे जाने के बाद अपने रॉकेट सिस्टम को इस्तेमाल करके अंतिम ऑर्बिट में खुद स्थापित होगा. जीएसएलवी-एफ05 की उड़ान में देश में बनाए गए क्रायोजेनिक अपर स्टेज (सीयूएस) इंजन का इस्तेमाल किया जाएगा. क्रायोजेनिक अपर स्टेज का इस्तेमाल करने वाली जीएसएलवी की ये पहली ऑपरेशनल उड़ान होगी. जीएसएलवी -एफ05 को तीनों स्टेजेज के लिए प्लान किया गया है.

बेहतरीन इमेजिंग सिस्टम और एडवांस सिस्टम
इनसेट-3 डीआर एक अत्याधुनिक मौसम सैटेलाइट है, जिसमें बेहतरीन इमेजिंग सिस्टम और एटमॉस्फियर साउंडर लगाया गया है. वैसे तो मौसम की जानकारी के लिए तीन सैटेलाइट कल्पना-1, इनसेट-3ए और इनसेट-3डी पहले से ही जियोस्टेशनरी ऑर्बिट में घूम रहे हैं और मौसम की सटीक जानकारी विभाग को दे रहे हैं. लेकिन इनसेट-3 डीआर इन तीनों सैटेलाइटों से कई मामलों में एडवांस है.

40 स्तरों पर वायुमंडल का तापमान मापने में सक्षम
कल्पना-1 और इनसेट-3ए में ऐसे इमेजिंग सिस्टम हैं जो विजिबिल, नियर-इंफ्रारेड, शॉर्टवेव इंफ्रारेड, वॉटर वैपर और थर्मल इंफ्रारेड बैंड में इमेजिंग कर सकते हैं. साल 2013 में लांच किए गए इनसेट-3डी सैटेलाइट एटमॉस्फियरिक साउंडिग सिस्टम लगा हुआ है. इस सिस्टम के जरिए इनसेट-3डी जमीन से 70 किलोमीटर तक की ऊंचाई तक 40 स्तरों पर वायुमंडल का तापमान और 15 किलोमीटर की ऊंचाई तक 21 स्तरों पर नमी का लेवल सही सही नाप सकता है.

घटेगी विदेशी एजेंसियों पर निर्भरता
इनसेट-3 डीआर सैटेलाइट इनसेट-3 डी का एडवांस वर्जन है. इनसेट 3 डीआर सैटेलाइट मिडिल इंफ्रारेड बैंड की इमेजिंग करने की क्षमता से लैस है और इससे रात के वक्त भी बादलों और कोहरे की सटीक जानकारी मिल सकेगी. ये सैटेलाइट दो थर्मल इंफ्रारेड बैंड में इमेजिंग के जरिए समंदर की सतह के तापमान के सटीक आंकड़े दे सकेगा. इससे विदेशी एजेंसियों पर भारत के मौसम विभाग की निर्भरता काफी हद तक घट जाएगी. इन खूबियों के अलावा इनसेट-3 डीआर डेटा रिले ट्रांसपोडर के साथ-साथ सर्च एंड रेस्क्यू ट्रांसपोडर से भी लैस है. इससे किसी आपदा के वक्त लोगों को ढूंढ़कर बचाने में मदद मिलेगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें