scorecardresearch
 

पूरे देश में लागू होगा NRC, नागरिकता कानून भी लाएंगे: अमित शाह

असम में NRC लागू किए जाने के बाद पहली बार किसी चैनल को दिए अपने साक्षात्कार में शाह ने कहा कि नरेंद्र मोदी की सरकार का एक चरित्र है. उन्होंने कहा कि हम जो कहते हैं, वह जरूर करते हैं.

गृह मंत्री अमित शाह (फोटोः PTI) गृह मंत्री अमित शाह (फोटोः PTI)

  • कहा- हम जो कहते हैं, वह जरूर करते हैं
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टीम लेगी फैसला

देश में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) को लेकर चल रही बहस के बीच गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि इसे पूरे देश में लागू किया जाएगा. भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह सोमवार को टीवी टुडे नेटवर्क के न्यूज डायरेक्टर राहुल कंवल से बात कर रहे थे.

असम में NRC लागू किए जाने के बाद पहली बार किसी चैनल को दिए अपने साक्षात्कार में शाह ने कहा कि नरेंद्र मोदी की सरकार का एक चरित्र है. उन्होंने कहा कि हम जो कहते हैं, वह जरूर करते हैं. गृह मंत्री ने कहा कि उचित समय आने पर हम देशभर में एनआरसी लागू करेंगे. केंद्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि हम सिटीजन बिल भी लाएंगे.

गृहमंत्री अमित शाह बोले- लोगों की जानें जाएं, इससे अच्छा है कुछ लोग जेल में रहें

सिटीजन बिल कब तक आएगा, इस सवाल का उन्होंने कोई ठोस जवाब नहीं दिया. शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली टीम इस बिल को लेकर फैसला करेगी. उन्होंने कहा कि सिटीजन बिल को लेकर अगर कोई फैसला लिया जाता है तो इसकी सूचना दी जाएगी.

गृह मंत्री अमित शाह की दो टूक- महाराष्ट्र के अगले CM देवेंद्र फडणवीस ही होंगे

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव पर भी शाह ने खुलकर बात की. बीजेपी अध्यक्ष ने दोनों प्रदेशों में दो-तिहाई बहुमत के साथ सरकार बनाने का दावा करते हुए कहा कि महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस और हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर ने अच्छा कार्य किया है. दोनों राज्यों की जनता बीजेपी के साथ है.

संसद सत्र के दौरान हाउस अरेस्ट नहीं थे फारूक अब्दुल्ला: अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री ने इसके अलावा जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने और वर्तमान हालात को लेकर कहा कि प्रदेश में मोबाइल फोन सेवा बहाल हो गई है. अनुच्छेद 370 के कारण 40 हजार लोग मारे गए, यह विकास में बाधक था. नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूख अब्दुल्ला की नजरबंदी पर उन्होंने कहा कि संसद सत्र के दौरान अब्दुल्ला को नजरबंद नहीं किया गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें