scorecardresearch
 

गैंगरेप पीड़ित छात्रा ने सिंगापुर में तोड़ा दम

गैंगरेप का शिकार हुई पैरामेडिकल छात्रा ने सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में दम तोड़ दिया है. भारतीय समयानुसार उसकी मौत रात को सवा दो बजे हुई. अस्पताल ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करके इसकी सूचना दी है.

दिल्ली में गैंगरेप का शिकार हुई पैरामेडिकल छात्रा ने सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में दम तोड़ दिया है. भारतीय समयानुसार उसकी मौत रात को सवा दो बजे हुई. अस्पताल ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करके इसकी सूचना दी है. आज सुबह आठ बजे भारतीय उच्चायुक्त की तरफ से इस मामले पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की जाएगी. लड़की के परिजनों ने भारतीय उच्चायोग से मांग की है कि शव को भारत लाया जाए जाए.

मौत की खबर मिलने के बाद दिल्ली में सुरक्षा चौकस कर दी गई है, ताकि किसी भी तरह की अप्रिय घटना न हो सके. दिल्ली पुलिस ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील भी की है.

माउंट एलिजाबेथ अस्पताल के सीईओ ने कहा, 'हमें बड़े दुख के साथ बताना पड़ रहा है 29 दिसंबर को सिंगापुर के समय के अनुसार सुबह 4 बजकर 45 मिनट पर मरीज ने दम तोड़ दिया है. मौत के समय लड़की के घरवाले और भारतीय उच्चायोग के अधिकारी मौजूद थे. दुख की इस घड़ी में माउंट एलिजाबेथ अस्पताल के डॉक्टरों की टीम और कर्मचारी लड़की के परिवार के साथ हैं. 27 दिसंबर को सुबह जब लड़की जब माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में भर्ती हुई उसी समय से उसकी हालत नाजुक बनी हुई थी. 8 विशेषज्ञों की टीम की कोशिशों के बावजूद पिछले दो दिनों से उसकी हालत में कोई सुधार देखने को नहीं मिला. शरीर और दिमाग पर गंभीर चोट लगने से लड़की के शरीर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया. लड़की ने इलाज के दौरान साहस का असीम परिचय दिया, लेकिन उसके शरीर को इस कदर आघात पहुंचाया गया था कि आखिर में उसने दम तोड़ दिया.'

बता दें कि छात्रा के साथ 16 दिसंबर को गैंगरेप हुआ था. उसके बाद से ही वह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती थी. 27 दिसंबर को ही बेहतर इलाज के लिए उसे सिंगापुर भेजा गया था. सिंगापुर के मशहूर माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में उसका इलाज शुरू किया गया था. इससे पहले शुक्रवार को दिन में जो मेडिकल बुलिटेन जारी हुआ था, उसमें पीड़ित की हालत बेहद नाजुक बताई गई थी. लड़की के सारे वाइटल पैरामीटर जैसे पल्स रेट, हार्ट बीट सामान्य नहीं थे और कई महत्वपूर्ण अंगों ने काम करना बंद कर दिया था. लड़की को मैक्सिमस लाइफ सपोर्ट पर रखा गया था.

इस मामले पर दिल्ली के गंगा राम अस्पताल की डॉक्टर सिमरन नंदी का कहना है कि लड़की को यदि सिंगापुर भेजने की बजाय यहीं रखा जाता तो वह कुछ दिन और हमारे बीच में रह सकती थी.

आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया ने कहा कि यह बहुत दुखद है. हमें उम्मीद थी कि वह बच जाए, लेकिन ऐसा नहीं हो सकता. वह सबके दिलों में जिंदा रहेगी, क्योंकि उसने पूरे देश को जगाने का काम किया है. यदि उसे सिंगापुर भेजने का फैसला राजनीतिक था तो यह बहुत गलत था.

गैंगरेप पीड़ित की मौत पर बॉलीवुड से संदेश आने शुरू हो गए हैं. अमिताभ बच्चन ने लड़की की मौत पर गहरा दुख व्यक्त किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें