scorecardresearch
 

डोकलाम पर भारत के साथ आया जापान तो भड़का चीन, कहा- ऐसी बयानबाजी से बचे

अमेरिका के बाद जापान ने भी डोकलाम विवाद पर भारत का समर्थन किया है. जापान ने कहा है कि दोनों देशों के बीच विवाद का हल बातचीत के जरिए होना चाहिए. दो महाशक्तियों के समर्थन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत के पक्ष में बन रहे माहौल के बीच चीन भड़क उठा है.

X
डोकलाम विवाद डोकलाम विवाद

डोकलाम विवाद पर जापान द्वारा बयान देने के बाद चीन बौखला गया है. चीन ने जापान को साफ कहा कि वह इस मामले में बिना सोचे समझे कुछ भी बयान न दे. चीन का जापान से कहा कि अगर वह भारत का साथ देना भी चाहता है तो भी चीन के खिलाफ बयान देने से बचे. वहीं चीन के साथ डोकलाम विवाद पर भारत के कूटनीतिक प्रयासों का रंग दिखना शुरू हो गया है. इस मसले पर चीन अंतरराष्ट्रीय बिरादरी में घिरता दिख रहा है. अमेरिका के बाद जापान ने भी डोकलाम विवाद पर भारत का समर्थन किया है. जापान ने कहा है कि दोनों देशों के बीच विवाद का हल बातचीत के जरिए होना चाहिए. दो महाशक्तियों के समर्थन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत के पक्ष में बन रहे माहौल के बीच चीन भड़क उठा है.

विदेश मंत्रालय ने धमकाया

चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हू चुनयांग प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि उन्होंने देखा कि भारत में जापान के अंबेसडर भारत को सपोर्ट करना चाहते हैं. इसलिए चीन उनसे कहना चाहेगा कि वह ऐसे बिना सोचे समझे बयान न दे और कुछ भी बोलने से पहले फेक्ट चेक कर लें. उन्होंने आगे गुस्से में कहा कि डोकलाम में कोई भी बॉर्डर विवाद नहीं है और दोनों देशों को निर्धारित सीमा के बारे में पता है. ऐसे में भारत की और से स्टेटस क्यू में बदलाव की पहल हुई है न कि चीन की ओर से.

भारत को भी दी धमकी

हू यही नहीं रुकीं और भारत को भी धमकी दी कि भारत डोकलाम से जल्द सेना की टुकड़ी को वापस बुलाए. हू ने कहा कि बिना शर्त वापसी ही आगे किसी भी अर्थपूर्ण बातचीत के लिए दरवाजा खुलेगा.

जापान ने साथ का वादा किया

जापान के राजदूत केंजी हीरामत्सू ने आजतक से बातचीत में कहा, 'डोकलाम को लेकर पिछले करीब दो महीनों से तनातनी जारी है. हमारा मानना है कि इससे पूरे क्षेत्र की स्थिरता प्रभावित हो सकता है, ऐसे में हम इस पर करीबी नजर बनाए हुए हैं.' इसके साथ ही उन्होंने कहा, चीन और भूटान के बीच इस क्षेत्र को लेकर विवाद है. जहां तक भारत की भूमिका की बात है, तो हम मानते हैं कि वह भूटान के साथ अपने द्विपक्षीय समझौते के आधार पर ही इस मामले में दखल दे रहा है.

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें