scorecardresearch
 

रेलवे पुलिस परेशान, हेल्पलाइन नंबर पर आते हैं पिज्जा-बर्गर के लिए कॉल

दिल्ली में रेलवे पुलिस के हेल्पलाइन नंबर पर रोजाना 80 फीसदी से ज्यादा कॉल पिज्जा व बर्गर की डिलीवरी, मोबाइल रिजार्च और ऐसे ही अन्य मामलों के लिए आते हैं.

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

  • रेलवे पुलिस के हेल्पलाइन नंबर पर पिज्जा-बर्गर के लिए आते हैं कॉल
  • कॉल पर स्टाफ से पिज्जा-बर्गर डिलीवर करने की मांग करते हैं यात्री

देश की राजधानी दिल्ली में रेलवे पुलिस को नई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. इनके हेल्पलाइन नंबर पर रोजाना 80 फीसदी से ज्यादा कॉल पिज्जा व बर्गर की डिलीवरी, मोबाइल रिजार्च और ऐसे ही अन्य मामलों के लिए आते हैं.

पुलिस ने रविवार को बताया कि दिल्ली में रेलवे पुलिस के कंट्रोल रूम में हेल्पलाइन नंबर 1512 पर रोजाना 200 कॉल आते हैं और इनमें से 80 फीसदी ऐसे कॉल होते हैं जिनमें यात्री स्टाफ से पिज्जा-बर्गर जैसी खाने-पीने की चीजें डिलीवर करने की मांग करते हैं या रेलवे में नौकरियों के बारे में पूछताछ करते हैं.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि फोन कर यात्री जिन चीजों की मांग करते हैं उसमें फोन रिचार्ज करने, पिज्जा पहुंचाने की मांग आदि शामिल है. उन्होंने बताया कि इसके अलावा वे बर्गर, चाय, जूस, ठंडे पानी आदि की मांग करते हैं. उन्होंने बताया कि कुछ ऐसे यात्री हैं जो बिजली का बिल जमा कराने के लिए या ट्रेन टिकट की बुकिंग कराने के लिए पुलिस की सहायता मांगते हैं.

रेलवे पुलिस हेल्पलाइन नंबर 1512 की शुरुआत 2015 में की गई थी. इसका मकसद ट्रेनों में यात्रियों को आने वाली दिक्कतों की शिकायत या रेलवे स्टेशनों या ट्रेनों में होने वाले अपराध के बारे में पुलिस को शिकायत दर्ज कराने में मदद करना था. पुलिस उपायुक्त (रेलवे) दिनेश कुमार गुप्ता ने बताया कि रेलवे पुलिस का यह हेल्पलाइन नंबर देशव्यापी है, लेकिन ज्यादातर समय इसे पुलिस सहायता नंबर की तरह इस्तेमाल करने की बजाए लोग इसका उपयोग रेलवे पूछताछ के लिए करते हैं.

पुलिस ने बताया कि असल में लोगों को इस बात की जानकारी नहीं है कि इस हेल्पलाइन नंबर का मकसद क्या है और यही वजह है कि वे बेवजह अनुरोध करते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें