scorecardresearch
 

भारत बंदः हिंसा के बाद नोएडा में अर्धसैनिक बल तैनात

बुधवार को दो दिन के भारत बंद का पहला दिन है. भारत बंद का देश भर में मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है. दिल्ली से लेकर कोलकाता तक आम आदमी परेशान है.

भारत बंद का देश भर में मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है. दिल्ली से लेकर कोलकाता तक आम आदमी परेशान है. बंद का सबसे ज्यादा असर पटना, लखनऊ, जयपुर और अहमदाबाद में दिखाई पड़ रहा है. नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर ऑटो और टैक्सी लोगों को नहीं मिल पा रही है. आनंद विहार रेलवे स्टेशन पर भी यही हाल है.

आज तक के 'हल्ला बोल' कार्यक्रम में आज बहस का मुद्दा होगा 'हल्ला बोलः संसद से सड़क तक'. इस मुद्दे पर आप अपने कमेंट हमें भेजें. इनमें से चुने गए कमेंट को आज तक चैनल पर शाम 6 बजे कार्यक्रम के दौरान दिखाया जाएगा.

कोलकाता में भी लोगों को परेशानी हो रही है. हावड़ा में लोगों आने जाने के लिए सवारी नहीं मिल पा रही है. मुंबई में भी फिर ही हालात बेहतर हैं. यहां पर बंद का कुछ खास असर नहीं देखने को नहीं मिल रहा. भोपाल में सरकारी बैंको के बंद होने की वजह से लोगो को परेशानी हो रही है. बैंगलोर में भी बंद का मिलाजुला असर देखने को मिला.

बंद से देश को 20 हज़ार करोड़ का होगा नुकसान

आज की हड़ताल में देश भर के करीब 10 करोड़ कर्मचारी शामिल हैं, जिनमें सरकारी बैंकों के कर्मचारी भी हैं. हड़ताल के चलते ट्रांसपोर्ट, टेलीकॉम और डाक सेवाओं से लेकर तेल और गैस सेक्टर पर भी असर पड़ रहा है. सरकार को अनुमान है कि इस बंद से देश को 20 हज़ार करोड़ का नुकसान होगा.

सरकार की गलत आर्थिक नीतियों का विरोध

कर्मचारी संगठन सरकार की गलत आर्थिक नीतियों और श्रम कानूनों का विरोध कर रहे हैं. मजदूर संगठनों ने सरकार से दस मांगें रखी थीं. इनमें महंगाई रोकने, रोजगार के मौके और वेतन बढ़ाने, सरकारी संस्थाओं में विनिवेश रोकने और श्रम कानून लागू किए जाने की मांगें अहम हैं.

मजदूर यूनियनों की हड़ताल में राइट और लेफ्ट, सरकार के खिलाफ एक साथ खड़े नजर आ रहे हैं. इस आंदोलन को बीजेपी, शिवसेना और वामपंथी दलों समेत कई विपक्षी दलों का समर्थन है. भारत बंद को सफल बनाने के लिए मजदूर संगठनों ने मशाल जुलूस निकाला. पटना और भोपाल सहित कई शहरों में इस तरह के जुलूस निकाले गए. मज़दूर संगठनों ने आम लोगों से भी इस बंद को कामयाब बनाने की अपील की.

दिल्ली में सुबह से ही हड़ताल का असर

दिल्ली में सुबह से ही हड़ताल का असर दिख रहा है. दिल्ली में ऑटो वाले भी हड़ताल के साथ हैं. जिससे मुसाफिरों को काफी दिक्कत हो रही है. हड़ताल के चलते बस अड्डे और रेलवे स्टेशन पर मुसाफिरों को खासी दिक्कत हो रही है. जो ऑटो-टैक्सी वाले मुसाफिरों को बिठा रहे हैं, उन्हें जबरन रोका जा रहा है. मुसाफिरों को खासी दिक्कत से बचाने के लिए DTC ने अतिरिक्त बसें चलाने का ऐलान किया है. डीटीसी स्टाफ की छुट्टी रद्द की गई है. मेट्रो ने भी कहा कि जरूरत पड़ी तो ज्यादा फेरे लगेंगे.

मुंबई में हड़ताल का ज्यादा असर नहीं

दिल्ली में भले ही हड़ताल का असर दिख रहा है, लेकिन मुंबई में हड़ताल का ज्यादा असर नहीं है. मुंबई का एक बड़ा यूनियन हड़ताल में शामिल नहीं है. रेल कर्मचारी भी हड़ताल में शामिल नहीं है लिहाजा मुंबई की लाइफ लाइन यानी मुंबई लोकल की रफ्तार पर भी असर नहीं पड़ा है. मुंबई में बेस्ट ने सभी बसें चलाने का ऐलान किया है.

मुंबई में दवा दुकानदारों की हड़ताल में आम लोगों की मुश्किल बढ़ा दी है. FDA के नए नियमों के खिलाफ मेडिकल स्टोर हड़ताल पर हैं. चौबीसों घंटे खुली रहने वाली दुकानें सिर्फ 8 घंटे खुल रही हैं. रात में दवा दुकानें बंद रहीं, जिससे मरीज और उनके घरवाले बेहाल रहे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें