scorecardresearch
 

वाघा बॉर्डर से भारत आए 200 पाकिस्तानी हिंदू, बोले- ‘वहां खतरा, वापस नहीं जाना चाहते’

पाकिस्तान से करीब पचास परिवार सोमवार को भारत आए हैं. इनमें से कई लोगों का कहना है कि वह पाकिस्तान वापस नहीं जाना चाहते हैं, क्योंकि वहां पर धार्मिक प्रताड़ना का सामना करना पड़ता है.

पाकिस्तान से वापस भारत आए हिंदू परिवार (फोटो: ANI) पाकिस्तान से वापस भारत आए हिंदू परिवार (फोटो: ANI)

  • पाकिस्तान से भारत आए 50 हिंदू परिवार
  • भारत की नागरिकता लेना चाहते हैं शरणार्थी
  • पाकिस्तान में धार्मिक प्रताड़ना होने का आरोप

भारत में नागरिकता संशोधन एक्ट पर मचे बवाल के बीच सोमवार को पाकिस्तान से कई हिंदू भारत आए. करीब दो सौ पाकिस्तानी हिंदू अटारी-वाघा बॉर्डर से भारत आए, इनमें से अधिकतर का कहना है कि वो पाकिस्तान वापस नहीं जाना चाहते हैं. पाकिस्तान में कई ऐसे मामले सामने आए हैं जहां हिंदुओं पर प्रताड़ना के मामले सामने आए हैं.

समाचार एजेंसी PTI के मुताबिक, सोमवार को करीब 50 परिवार वाघा बॉर्डर से भारत आए. ये सभी लोग करीब 25 दिन का वीज़ा लेकर भारत आए हैं और हरिद्वार घूमना चाहते हैं. हालांकि, कुछ लोगों ने अपना दर्द बयां करते हुए कहा है कि वह वापस पाकिस्तान नहीं जाना चाहते हैं, क्योंकि वहां पर वह खुद को सुरक्षित नहीं महसूस करते हैं.

अकाली दल के नेता और दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने इन सभी को वाघा बॉर्डर पर रिसीव किया. सिरसा ने दावा किया कि ये लोग वो हैं जिन्हें पाकिस्तान में धार्मिक प्रताड़ना का सामना करना पड़ रहा है. सिरसा का कहना है कि वह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करेंगे और इन्हें भारतीय नागरिकता देने की अपील करेंगे.

यह भी पढ़ें- हिंदू लड़की के अपहरण पर PAK उच्चायोग का अधिकारी तलब

दूसरी ओर बॉर्डर पर मौजूद अधिकारियों का दावा है कि जबसे भारत में नागरिकता संशोधन एक्ट पास हुआ है, तब से पाकिस्तान की ओर से आने वाले हिंदुओं की संख्या बढ़ गई है.

बता दें कि मोदी सरकार के द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन एक्ट के तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान से आए हिंदू, जैन, सिख, ईसाई, बौद्ध और पारसी शरणार्थियों को भारत की नागरिकता मिलने में आसानी होगी.

सोमवार को जो परिवार भारत आए वो अधिकतर कराची, सिंध इलाके के रहने वाले हैं. कुछ लोग राजस्थान में अपने रिश्तेदारों से मिलने जाएंगे, तो वहीं कुछ हरिद्वार घूमने जाएंगे. इन्हीं में से एक महिला का कहना है कि पाकिस्तान में अब वह सुरक्षित महसूस नहीं करते हैं, क्योंकि पुलिस के सामने ही किसी को भी किडनैप कर लिया जाता है. नॉर्थ वेस्ट एरिया में आज कोई महिला सुरक्षित नहीं है.

यह भी पढ़ें- पाकिस्तान में एक और मंदिर में तोड़फोड़, चार लड़के हुए गिरफ्तार

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें