scorecardresearch
 
भारत

राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'

राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'
  • 1/10
राहुल गांधी को कांग्रेस ने अपना उपाध्यक्ष घोषित कर दिया है. इसके बाद से ही उम्मीद की जा रही है कि राहुल गांधी को देश के प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार भी बनाया जाएगा. एक नजर डालते हैं कि आखिरकार राहुल गांधी को अपने पिता राजीव गांधी से क्या विरासत में मिला है...
राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'
  • 2/10
क्रांति और विकास पर
राजीव गांधी
गांधीजी समाज का फिर से निर्माण चाहते थे. उनकी नजर में देश के विकास के लिए शिक्षा, कृषि, गांव उद्योग और समाज का पुनः निर्माण सब जरूरी है.
राहुल गांधी
यूपीए सरकार ने गांधी जी के मॉडल का अनुसरण किया. देश के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ कि आम जनता को सामाजिक और आर्थिक तौर पर अपने अधिकारों के इस्तेमाल की गारंटी मिली.
राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'
  • 3/10
प्लैनिंग प्रोसेस पर
राजीव गांधी
जवाहर लाल नेहरू ने अहम सामाजिक मुद्दों के लक्ष्य तक पहुंचने के लिए प्लैंनिंग प्रोसेस का चलन शुरू किया था. हमारा प्लैनिंग प्रोसेस सफल हुआ है.
राहुल गांधी
हमें अपने प्रशासन को दोबारा देखने की और उन्हें बदलने की जरूरत है. मैं अभी भी आशावादी हूं. मैं निराशावादी इस लिए नही हूं क्योंकि सरकार ने अपना काम ढंग से किया है इसके लिए मैं कांग्रेस अध्यक्ष, प्रधानमंत्री और कांग्रेस का शुक्रगुजार हूं.
राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'
  • 4/10
खाद्यान्न की कमी पर
राजीव गांधी
भारत में महंगाई, खाद्यान्न की कमी गंभीर मुद्दे हैं. मजबूत इरादे वालों के लिए भी ये डराने वाले मुद्दे हैं.
राहुल गांधी
फूड बिल ये सुनिश्चित करेगा कि किसी भी मां का बच्चा रात को भूखे पेट नहीं सोएगा. और आरटीआई की मदद से हर भारतीय भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठा सकेगा.
इंदिरा गांधी की मृत्यु पर
राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'
  • 5/10
इंदिरा गांधी की मृत्यु पर
राजीव गांधी
इंदिरा जी को आज यहां होना चाहिए था. भारतमाता की अमर आत्मा इंदिरा गांधी को ना केवल हम बल्कि पूरी मानव जाति हमेशा याद रखेगी.
राहुल गांधी
एक दिन उन लोगों ने मेरी दादी को मार दिया. मेरे पिता उस समय बंगाल में थे और वहां से वापस आए थे. मैंने अपने जीवन में पहली बार उन्हें रोते हुए देखा था. वो बहुत बहादुर थे फिर भी वो अपने आंसुओं को रोक नहीं पाए थे.
राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'
  • 6/10
भारत की एकता पर
राजीव गांधी
हम लोग खुद को हिंदू, मुस्लिम, सिख और इसाई रूप में देखते हैं. उससे भी खराब स्थित तब होती है जब हम लोग खुद को ब्राह्मण, ठाकुर, जाट, यादव के तौर पर देखते हैं. संप्रदाय बहुत खुदगर्ज़ होता है.
राहुल गांधी
कांग्रेस पार्टी के लिए हर भारतीय की आवाज मायने रखती है ना कि किसी विषेश जाति या संप्रदाय की. मैं फिर दोहराना चाहूंगा कि हर भारतीय का समर्थन किया जाएगा.
राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'
  • 7/10
विभाजक नीति और राजनीति पर
राजीव गांधी
राजनीतिक पार्टी, राज्य सरकार और सामाजिक ऑर्गेनाइजेशन नीतियों, कार्यक्रमों और विचारों को प्रमोट करते हैं, जो भाई को भाई से और बहन को बहन से अलग करते हैं. क्या इसी भारत के लिए गांधीजी और इंदिरा गांधी ने अपना बलिदान दिया था?
राहुल गांधी
भारत का प्रशासन अभी भी अतीत में ही फंसा हुआ है. प्रशासन ऐसा हो चुका है जो अधिकार देने की बजाय अधिकार छीन रहा है. क्यों कुछ खास लोगों के हाथ में ही पूरा राजनीतिक जगत है.
राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'
  • 8/10
शिक्षा व्यवस्था
राजीव गांधी
जहां मॉर्डन साइंस और हमारी विरासत का एकीकरण होना चाहिए वहीं अभी भी बेजान शिक्षा व्यवस्था चली आ रही है. लाखों लोग अनपढ़ हैं. लाखों ऐसे बच्चे हैं जो कभी भी स्कूल भी नहीं गए हैं.
राहुल गांधी
हमारे सारे पब्लिक सिस्टम की संरचना ऐसे है जहां लोगों की तो जरूरत है लेकिन नॉलेज की कोई खास जगह नहीं है.
राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'
  • 9/10
सत्ता का केंद्रीकरण
राजीव गांधी
कई बार ऐसा होता है जब सत्ता द्वारा किया गया काम आम जनता के लिए बेमतलब होता है.
राहुल गांधी
समय आ गया है कि हम सत्ता और प्रशासन से सवाल करें और इसका जवाब यही है कि प्रशासन में बदलाव की जरूरत है.
राहुल को पिता राजीव गांधी से क्या मिला 'विरासत' में... | 'युवा सोच'
  • 10/10
पार्टी और देश पर
राजीव गांधी
इस मुश्किल समय में कांग्रेस ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जो देश की एकता और सम्मान को बनाए रखे. देश में अन्य कोई ऐसी पार्टी नहीं जो देश को प्रगति और खुशहाली की तरफ ले जाए.
राहुल गांधी
कांग्रेस पार्टी अब मेरी जिंदगी है. भारत के लोग मेरी जिंदगी हैं. और मैं अपनी पार्टी और देश के लोगों के लिए लड़ूंगा. मैं आप सबको इस लड़ाई में शामिल होने के लिए आमंत्रित करता हूं.