scorecardresearch
 
भारत

हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ

हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 1/11
देश सांवरे शाहरुख के संग दीवाना होने की कगार पर था. वह बाइक पर सवार होकर दिव्या नहीं एक भरी पूरी घुंघराले बालों, शोख आवाज और बोलती सी आंखों वाले शाहकार का पीछा कर रहा था. और जब दिव्या, होंठ दबाकर जबान चुभलाकर कुछ तुनक के साथ बोलतीं, मार दूंगी, तो दीवाना वायरस सबको जकड़ लेता. शोला और शबनम, दीवाना और इन सबसे पहले विश्वात्मा जैसी फिल्मों के बाद दिव्या को बॉलीवुड की लंबी रेस में शामिल बताया जाने लगा. करियर के पीक पर उन्होंने प्रॉड्यूसर साजिद नाडियावाला से शादी कर ली. मगर तब भी पर्दे पर उनके आशिकों की मुहब्बत हल्की नहीं हुई. मगर फिर 1993 का अप्रैल महीना आया. और पता चला कि जिंदगी से लबालब भरी दिव्या भारती नहीं रहीं.
हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 2/11
वर्सोवा में तुलसी अपार्टमेंट में पांचवी मंजिल पर दिव्या भारती का फ्लैट था. घर पर एक पार्टी चल रही थी. बताया गया कि यहीं बालकनी से फिसलकर वह नीचे गिर गईं. इस दौरान कई कहानियां उभरीं साजिशों की. उनके पति साजिद को लेकर. माफिया कनेक्शन को लेकर. मगर 1998 में मुंबई पुलिस ने जांच बंद कर दी, बिना किसी नतीजे पर पहुंचे. दिव्या आज भी दिपदिपाती हैं, हर शादी के संगीत में, जब कदम थिरकते हैं, सात समंदर पार मैं तेरे पीछे पीछे आ गई पर.
हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 3/11
मुहब्बत ने यकीन तोड़ा तो नफीसा जोसफ का जिंदगी से ही यकीन खत्म हो गया. कुछ दिनों में उनकी शादी होने वाली थी. बिजनेसमैन गौतम खंडूजा से. गौतम ने नफीसा को बताया था कि उनकी पिछली शादी नहीं चली और डिवोर्स हो चुका है. मगर फिर नफीसा को पता चला कि गौतम ने झूठ बोला है.
हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 4/11
जब नफीसा को पता चला‍ कि गौतम ने झूठ बोला है तो झगड़ा बढ़ा और फिर एक दिन या कहें कि 29 जुलाई 2004 को 26 साल की इस मॉडल, एक्टर और वीजे ने मौत को चुना. उन्होंने अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली.
हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 5/11
इसके बाद नफीसा के परिवार और गौतम के बीच अदालती लड़ाई शुरू हुई. गौतम ने कहा कि नफीसा की पहले भी समीर मल्होत्रा और एक्टर समीर सोनी के साथ मंगनी टूट चुकी है. ये परी कथा के अचानक खत्म होने से पैदा अफसोस का कर्कश शोर था. कथा जिसकी शुरुआत बेंगलुरू में एक दशक पहले हुई थी. नफीसा महज 18 साल की उम्र में मिस इंडिया बन गई थीं. मॉडलिंग की शुरुआत 12 की उम्र में हो गई थी. उनके मेंटर थे प्रसाद बिडप्पा, वही जिन्होंने देव लोक से आती लगती ऐश्वर्या राय को ग्रूम किया था. मिस इंडिया बनने के बाद नफीसा एमटीवी की वीजे रहीं. चार्लीज एंजेल्स के तर्ज पर बने देसी शो कैट्स में भी उन्होंने रोल अदा किया. मगर मुहब्बत की मार ने उन्हें जिंदगी का रोल छोड़ने पर मजबूर कर दिया.
हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 6/11
प्रिया राजवंश. यूं नाम याद नहीं आएगा. याद करिए राजकुमार की फिल्म हीर रांझा को. अब जेहन में लाइए हीर का खूबसूरत चेहरा. ये प्रिया थीं. वन देवी सी सुंदर, जंगल सी आदिम और पहाड़ी शहर की तमाम शरारतें समेटे. प्रिया के पिता शिमला में थे. वन विभाग में अधिकारी. वह वहीं पलीं, बढ़ीं और जमकर थिएटर किया. फिर पापा के साथ यूएन मिशन के दौरान लंदन गईं. वहीं किसी कैमरे की क्लिक में कैद हो गईं. तस्वीर पर नजर पड़ी देव आनंद के बड़े भाई चेतन आनंद की. और फिर एक फिल्मी सा किस्सा शुरू हुआ.
हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 7/11
चेतन आंदन से मिलने के बाद प्रिया राजवंश मुंबई आ गईं, चीन युद्ध पर बनी शानदार फिल्म हकीकत का हिस्सा बनीं और पर्दे के बाहर चेतन की जिंदगी में भी शामिल हो गईं. दोनों चेतन की 1997 में मौत तक साथ थे. प्रिया अस्सी के दशक तक एक्टिंग में सक्रिय रहीं. चेतन की मौत के तीन बरस बाद उनके बंगले में प्रिया की लाश मिली. शुरुआती जांच में इसे मर्डर माना गया और चेतन आनंद की पहली पत्नी से हुए दो बच्चों पर मुकदमा चला. एक थ्योरी ये भी दी गई कि चेतन के जाने के बाद अवसाद में आई प्रिया ने शराब बेतरह पीनी शुरू कर दी और फिर साकी ने उनको लील लिया.
हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 8/11
खत में प्यार लिख गुजर गईं कुलजीत रंधाव. ये एक रेग्युलर सा लव लेटर हो सकता था. शुरुआती लाइन ही कुछ ऐसी थीं. डियर भानु. तुमने मुझे प्यार के माने समझाए. फिर कुछ लाइनों के बाद खत वसीयत के अंदाज में आ गया. कार की चाबी पापा को दी जाएं, फ्लैट की चाबी घर पहुंचा दी जाएं. और आखिरी में अलविदा. इसके लिए कोई दोषी नही. यह कहकर मॉडल एक्ट्रेस कुलजीत रंधावा ने फांसी लगा जिंदगी खत्म कर ली. दिन था 8 फरवरी 2006 का. उससे पहले वह घर-घर में पहचानी जाने लगी थीं. वजह था द विंची कोड पर बना देसी सीरियल कोहिनूर, जिसकी वह लीड एक्ट्रेस थीं. मगर पर्दे के बाहर उनकी जिंदगी का एक हिस्सा उसी दिन खत्म हो गया था, जिस दिन कैट्स की को स्टार और बेहद करीबी दोस्त नफीसा ने जान दी. कुलजीत उसके बाद बिखर सी गईं. पुलिसिया जांच के मुताबिक उनके कुछ आखिरी हिस्से जोड़ें तो यही बिखरापन सामने आता है. फ्लैट मालिक को फोनकर कहा कि मैं अमेरिका जा रही हूं, इसलिए नोटिस दे रही हूं. दोस्तों को बताया कि मैंने नया जिम ज्वाइन किया है. और फिर कुछ ही दिन पहले तो वह दिल्ली अपने परिवार से मिलकर लौटी थीं. मगर फिर वह खुद ऐसे सफर पर चली गईं, जहां से कोई नहीं लौटता, सब गुम जाता है.
हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 9/11
जिया खान ने 3 जून 2013 (सोमवार) रात पौने ग्यारह बजे खुदकुशी कर ली. मुंबई स्थित अपने घर पर फांसी लगाकर जिया ने मौत को गले लगा लिया. वह अपनी मां राबिया खान के साथ रहती थीं.
हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 10/11
जिया खान की मां राबिया खान ने बताया, 'पिछले रविवार को जिया हैदराबाद गई थी. हैदराबाद में उसका ऑडिशन था. उसने ऑडिशन में अच्छा काम नहीं किया. उसने आने के बाद मुझसे कहा कि मुझे (जिया खान) लगता है कि मेरा करियर खत्म हो रहा है. उसने इंटीरियर डिजाइनिंग का कोर्स करने की भी बात कही थी. ऑडिशन के बाद से वो काफी परेशान थी और किसी से भी नहीं मिल रही थी. कल वो अपने एक कजिन से मिली थी.'
हसीनाएं, जिनकी मौत पर यकीं न हुआ
  • 11/11
जिया खान ने बॉलीवुड में अबतक सिर्फ 3 फिल्मों में ही काम किया था. मार्च 2007 में रिलीज हुई इस फिल्म को मिश्रित प्रतिक्रिया मिली थी, लेकिन जिया को उनके विश्वास, शैली और सेक्स अपील के लिए पहचान मिली थी. उन्हें फिल्मफेयर के लिए भी नामांकित किया गया था. इसके बाद वह आमिर खान के साथ ए. आर मुरुगदास की फिल्म ‘गजनी’ में नजर आईं. यह निर्देशक की इसी नाम की तमिल फिल्म का हिन्दी रीमेक था. बाद में वह साजिद खान की 2010 में आई कॉमेडी फिल्म ‘हाउसफुल’ में सह अभिनेत्री के रूप में नजर आईं. यह उनकी अंतिम फिल्म थी.