scorecardresearch
 

Cyclone Tauktae: पीएम मोदी की हाई लेवल मीटिंग, लोगों को सुरक्षित स्थान पर भेजने के निर्देश

मीटिंग में पीएम मोदी की तरफ से कहा गया कि मुश्किल समय में लोगों को बिजली, दूरसंचार, स्वास्थ्य, पेयजल जैसी सुविधाएं लगातार मिलती रहें. उनकी तरफ से इस बात पर भी जोर दिया गया है कि तूफान के दौरान अस्पतालों में कोविड प्रबंधन का खास ध्यान रखा जाए

X
पीएम नरेंद्र मोदी पीएम नरेंद्र मोदी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • तौकते तूफान से निपटने के लिए पीएम की मीटिंग
  • पीएम ने दिए कई जरूरी निर्देश
  • गुजरात में कहर बरपा सकता है तूफान

Cyclone Tauktae Warning:इस साल के पहले चक्रवात तूफान तौकते को लेकर सभी को काफी चिंता है. महाराष्ट्र, केरल, गोवा और गुजरात में भय का माहौल देखने को मिल रहा है. परिस्थिति को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को एक हाई लेवल मीटिंग की और तौकते तूफान से निपटने के लिए कई दिशा-निर्देश जारी किए. पीएम ने जोर देकर कह कि लोगों को समय रहते सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना जरूरी है.

तौकते तूफान से निपटने के लिए पीएम की मीटिंग

मीटिंग में पीएम मोदी की तरफ से कहा गया कि मुश्किल समय में लोगों को बिजली, दूरसंचार, स्वास्थ्य, पेयजल जैसी सुविधाएं लगातार मिलती रहें. उनकी तरफ से इस बात पर भी जोर दिया गया है कि तूफान के दौरान अस्पतालों में कोविड प्रबंधन का खास ध्यान रखा जाए और पावर बैक अप की भी पूरी तैयारी रहे. वहीं जिन जगहों पर दवाई का स्टोरेज किया गया है, वहां भी पर्याप्त इंतजाम के निर्देश दिए गए हैं. कोरोना संकट को देखते हुए मोदी ने स्पष्ट कर दिया है कि तूफान के दौरान भी ऑक्सीजन टैंकर की आवाजाही बाधित नहीं होनी चाहिए, ऐसे में इसके लिए खास इंतजाम करने की बात कही गई है.

पीएम ने दिए कई जरूरी निर्देश

मीटिंग में पीएम की तरफ से बताया गया है कि तमाम कंट्रोल रूम को भी 24*7 घंटे काम करना होगा. उनकी तरफ से ये भी सुझाव आया है कि इस तूफान से निपटने में स्थानीय लोगों की भी अहम भूमिका हो सकती है. राहत कार्यों के दौरान वे भी एक सक्रिय भूमिका निभा सकते हैं. वैसे इस हाई लेवल मीटिंग में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से तो तमाम दिशा-निर्देश जारी किए ही गए, इसके अलावा मौसम विभाग की तरफ से भी वर्तमान परिस्थितियों को लेकर विस्तार से बताया गया. 

गुजरात में कहर बरपा सकता है तूफान

IMD की तरफ से जानकारी दी गई है कि 18 मई को दोपहर या फिर शाम के दौरान तौकते तूफान गुजरात के तटों से टकरा सकता है और हवाएं भी 175 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती हैं. इस वजह से गुजरात के तटीय जिलों में भारी बारिश की संभावना है. वहीं सौराष्ट्र, कच्छ, गिर सोमनाथ, जूनागढ़, पोरबंदर, द्वारका, राजकोट, जामनगर और अमरेली में भी भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. मीटिंग में ये भी बताया गया है कि  MHA की तरफ से परिस्थिति को लगातार मॉनिटर किया जाएगा और तमाम प्रभावित राज्यों की सरकार से संपर्क साधा जाएगा. 

क्लिक करें- Cyclone Tauktae: गुजरात में कहर बरपा सकता है चक्रवात तूफान, 175 KM प्रति घंटा होगी रफ्तार 

NDRF की 42 टीमों को 6 राज्य में भेजा गया

वहीं इस तूफान से निपटने के लिए NDRF की 42 टीमों को पहले ही 6 राज्यों में तैनात कर दिया गया है और 26 टीम को स्टैंडबाय पर रखा गया है. इसके अलावा रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए भारतीय नौसेना और इंडियन कोस्ट गार्ड को भी एलर्ट कर दिया गया है. वायुसेना के 16 ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट और 18 हेलीकॉप्टर को भी मदद के लिए तैयार रखा गया है. इस आपदा से निपटने में भारत सरकार के तामम बड़े मंत्रायल भी सक्रिय भूमिका निभाने जा रहे हैं. विद्दुत, दूरसंचार, स्वास्थ्य, बंदरगाह, नौवहन और जलमार्ग मंत्रालय को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है. स्वास्थ्य मंत्रायल की तरफ से तो पहले ही 10 क्विक रिस्पॉन्स मेडिकल टीम को तैयार रखा गया है जिनका जरूरत पड़ने पर सहयोग लिया जा सकता है.

केरल में भारी बारिश का दौर जारी

वैसे जो तौकते तूफान गुजरात में कहर बरपाने जा रहा है, केरल में शुक्रवार से उसका असर देखने को मिल रहा है. राज्य में लगातार भारी बारिश का दौर जारी है. सीएम की तरफ से बताया गया है कि अभी अगले 24 घंटे और राज्य में तूफान का असर देखने को मिल सकता है.

केरल के अलावा महाराष्ट्र में भी तूफान से निपटने के लिए तैयारी कर ली गई है. सीएम उद्धव ठाकरे की तरफ से भी समीक्षा बैठक हो चुकी है और अधिकारियों को जरूरी निर्देश जारी कर दिए गए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें