scorecardresearch
 

धारा 370: घाटी में अगले 7 दिन बड़ी चुनौती, आज पहला जुमा

केंद्र सरकार के लिए अब जम्मू-कश्मीर में अमन-चैन स्थापित करना सबसे बड़ी चुनौती है. अब तक राज्य में सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था की गई है. घाटी में कर्फ्यू लगा है. मोबाइल-इंटरनेट सब बंद है. हमेशा ऐसी स्थिति बनाए रख पाना आसान नहीं है.

NSA अजीत डोभाल लगातार जम्मू-कश्मीर की स्थिति पर नजर बनाए रखे हुए हैं (IANS) NSA अजीत डोभाल लगातार जम्मू-कश्मीर की स्थिति पर नजर बनाए रखे हुए हैं (IANS)

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को खत्म हुए 4 दिन हो चुके हैं, लेकिन घाटी में इस कदर घमासान मचा है कि आज भी हर ओर तनाव का माहौल है. जम्मू-कश्मीर के साथ विशेष राज्य का दर्जा खत्म होने के बाद अब सबसे बड़ा सवाल है कि अगले एक हफ्ते में वहां की स्थिति कैसी रहती है. नई व्यवस्था के बाद प्रशासन के लिए पहला बड़ा चुनौती वाला दिन आज यानी शुक्रवार को है. आज जुमा है सबकी नजर इस पर रहेगी कि आज का दिन कैसा गुजरता है.

केंद्र सरकार के लिए नई व्यवस्था के तहत जम्मू-कश्मीर में अमन-चैन स्थापित करना अब सबसे बड़ी चुनौती है. राज्य में हर ओर सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था है. घाटी में कर्फ्यू लगा हुआ है. मोबाइल-इंटरनेट सब बंद है. हमेशा के लिए ऐसी स्थिति बनाए रखना आसान नहीं है. वह भी तब जब धार्मिक रीति-रिवाज करीब हों. आज शुक्रवार को जुमा है. नमाज के लिए कर्फ्यू में ढील दी जा सकती है. घाटी में अक्सर जुमे की नमाज के बाद हिंसा भड़कती रही है.

जुमे के बाद बकरीद

घाटी में अमन-चैन के लिए सिर्फ जुमा ही नहीं बल्कि 3 दिन बाद (12 अगस्त) आने वाले बकरीद पर सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखना भी बड़ी चुनौती होगी. फिर इसके अगले 3 दिन बाद (15 अगस्त) को स्वतंत्रता दिवस है. इस दिन की सुरक्षा भी आगे की स्थिति के लिए चुनौती भरी साबित होगी.

अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद शुक्रवार को जुमे की पहली नमाज होगी. ऐसे में सवाल है कि उस नमाज में घाटी के लोगों की प्रतिक्रिया क्या होगी. जुमे की नमाज के बाद मुसलमानों का दूसरा सबसे बड़ा त्योहार बकरीद आ रहा है. यह सवाल भी हर किसी को कौंध रहा है कि घाटी में इस बार यह त्योहार कैसे मनेगा. उम्मीद है कि सरकार ईद पर पाबंदी में कुछ ढील दे सकती है, लेकिन वो ढील किस तरह की होगी फिलहाल पता नहीं.

नई बयार में पहली जश्न-ए-आजादी

बकरीद के बाद देश जब स्वतंत्रता दिवस मना रहा होगा तो इस बार जम्मू-कश्मीर की फिजा बदली हुई होगी क्योंकि वहां पर विशेष राज्य का दर्जा खत्म हो गया है. ऐसे में श्रीनगर में आजादी का जश्न मनाने के लिए वहां की हालात कैसी होगी और स्थानीय लोग किस तरह से इसे लेंगे. सभी की नजर इस पर रहेगी.

नई व्यवस्था से एक दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में स्थानीय लोगों के हितों की बात कही. लोगों के लिए क्षेत्र के विकास और तरक्की की राह पर चलने की उम्मीद जताई. साथ ही जल्दी ही राज्य में चुनाव की बात कहकर लोगों का मन जीतने की कोशिश की.

अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को मिलने वाले विशेष राज्य का दर्जा खत्म किए जाने के बाद ये 5 दिन सुरक्षा बलों के साए में शांति से गुजर गए, लेकिन जुमे की नमाज के जरिए जब पहली बार घाटी में कर्फ्यू में ढील दी जाएगी तो स्थानीय कश्मीरियों की प्रतिक्रिया सामने आ सकती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें