scorecardresearch
 

दिल्ली में वकील बनकर मुसीबत में है कल का दबंग एनकाउंटर-स्पेशलिस्ट DCP

दिल्ली पुलिस की नौकरी में रहते हुए दबंग एनकाउंटर-स्पेशलिस्ट की छवि हासिल कर चुके एक पूर्व डीसीपी इन दिनों खासे परेशान हैं. उनकी परेशानी हाल ही में शुरू हुई जब दिल्ली में वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई. दरअसल नौकरी में रहते हुए पूर्व डीसीपी लक्ष्मी नारायण राव ने वकालत पढ़ डाली. राव की सोच थी कि रिटायरमेंट के बाद घर में खाली बैठने से अच्छा वकालत कर के खुद को व्यस्त रखना होगा.

पूर्व पुलिस अधिकारी एलएन राव (फोटो-IANS) पूर्व पुलिस अधिकारी एलएन राव (फोटो-IANS)

  • वकील बने पूर्व डीसीपी पर एल. एन राव पर आई आफत
  • 'आप एक वकील हैं या फिर रिटायर्ड पुलिस अधिकारी'
दिल्ली पुलिस की नौकरी में रहते हुए दबंग 'एनकाउंटर-स्पेशलिस्ट' की छवि हासिल कर चुके एक पूर्व डीसीपी इन दिनों खासे परेशान हैं. उनकी परेशानी हाल ही में शुरू हुई जब दिल्ली में वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई. दरअसल नौकरी में रहते हुए पूर्व डीसीपी लक्ष्मी नारायण राव ने वकालत पढ़ डाली. राव की सोच थी कि रिटायरमेंट के बाद घर में खाली बैठने से अच्छा वकालत कर खुद को व्यस्त रखना होगा.

प्लान के मुताबिक पूर्व डीसीपी लक्ष्मी नारायण राव रिटायर होने के बाद वकालत करने लगे. उन्होंने दिल्ली हाई कोर्ट में प्रैक्टिस शुरू की. बीते पांच सालों से उनकी प्रैक्टिस अच्छी थी और सब कुछ ठीक चल रहा था.

तीस हजारी की घटना के बाद समस्या

किसी जमाने में दिल्ली पुलिस की 'नाक' और खूंखार बदमाशों की 'अकाल-मौत' समझे जाने वाले पूर्व डीसीपी और मौजूदा वक्त में दिल्ली हाई कोर्ट के वकील एल.एन. राव की परेशानियां तब से बढ़ीं हैं, जब से तीस हजारी अदालत में वकील-पुलिस वालों के बीच झड़प हुई है. रिपोर्ट के मुताबिक एल एन राव को दिल्ली हाई कोर्ट में चैंबर नंबर-136 मिला है. उनके साथ कुछ और भी वकील बैठते हैं.

पिछले दिनों जब दिल्ली की अदालतों के वकील तीस हजारी कांड को लेकर हड़ताल पर थे, तब राव के बंद चैंबर के बाहर कुछ लोगों ने पोस्टर चिपका दिए. पोस्टर पर लिखा है, "कृपया स्पष्ट करें कि आप एक वकील हैं या फिर रिटायर्ड पुलिस अधिकारी?" अंग्रेजी में छपे इन पोस्टरों को किसने लगाया, किसने लिखा है इसका अभी तक पता नहीं चल पाया है.

लाइसेंस रद्द करवाने के लिए लिखी चिट्ठी

एल.एन. राव ने बताया कि कुछ लोगों ने उनका लाइसेंस रद्द करवाने की चिट्ठी लिखी है. राव ने कहा, "साकेत कोर्ट इलाके में पुलिस वालों पर जो हमले हुए, मैंने उन पर अपनी राय जाहिर की थी, मैंने 36-37 साल पुलिस की नौकरी की है. अब पढ़-लिखकर वकालत कर रहा हूं. इसमें क्या गलत है. कुछ लोगों ने मेरा लाइसेंस रद्द करवाने को चिठ्ठी लिखी है. मैं गलत नहीं हूं. वक्त आने पर जबाब दे दूंगा." एलएन राव ने कहा कि बिना गलती के वो झुकने वाले नहीं है. उन्होंने कहा कि वे संघर्ष करेंगे और आगे बढ़ेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें