scorecardresearch
 

DUSU चुनाव जीतने के लिए एबीवीपी ने चलाया 'नाइट मिशन'

एबीवीपी के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्रीनिवास ने कहा कि नाइट मिशन के तहत दिनभर हम धारा 370, कश्मीर जैसे तमाम मुद्दों पर छात्र नेताओं को प्रशिक्षण देते हैं. हम छात्रों से सुझाव लेते हैं और रात के समय आकर उन सभी सुझावों को सिद्धांत में बदलते हैं. यहीं से आगे की रणनीति की भूमिका तैयार की जाती है.

ABVP का नाइट मिशन ABVP का नाइट मिशन

  • चुनाव जीतने के लिए ABVP ने चलाया नाइट मिशन
  • आज है दिल्ली विश्वविद्यालय छात्रसंघ का चुनाव

दिल्ली यूनिवर्सिटी में छात्रसंघ चुनाव के लिए आज वोटिंग है. ऐसे में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद(एबीवीपी) और एनएसयूआई समेत कई छात्र संगठन जोर आजमाइश कर रहे हैं.

छात्र संगठन एबीवीपी ने चुनाव के मद्देनजर 'नाइट मिशन' चलाया जिससे चुनाव में जीत दर्ज की जा सके. दिनभर चुनाव प्रचार करने के बाद रात के समय चुनावी रणनीति बनाई गई, जिससे प्रतिद्वंदी संगठनों को पटखनी दी जा सके.

एबीवीपी के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री श्रीनिवास ने 'आजतक' से खास बातचीत में कहा कि 'नाइट मिशन' के तहत दिनभर हम धारा 370, कश्मीर जैसे तमाम मुद्दों पर छात्र नेताओं को प्रशिक्षण देते हैं.

संगठन मंत्री ने कहा कि हम छात्रों से सुझाव लेते हैं और रात के समय आकर उन सभी सुझावों को सिद्धांत में बदलते हैं. यहीं से आगे की रणनीति की भूमिका तैयार की जाती है.

श्रीनिवास ने बताया कि रात में 12 बजे से सुबह 6 बजे तक हमारा 'नाइट मिशन' चलता है. रात के समय हम सभी कार्यकर्ताओं से मुद्दों पर फीडबैक लेते हैं. एबीवीपी के नाइट मिशन की इस बैठक में चारों प्रत्याशी मौजूद रहते हैं और दिन भर का फीडबैक एबीवीपी के संगठन मंत्री को देते हैं.

श्रीनिवास ने कहा कि रात के समय हम लोग अपनी सोशल मीडिया टीम से बातचीत करते हैं उनसे बातचीत करते हैं कि सुबह से ही किन मुद्दों को प्रभावी बनाया जाए ताकि छात्रों को प्रभावित किया जा सके और वह ज्यादा से ज्यादा एबीवीपी के पक्ष में मतदान कर सकें.

'नाइट मिशन' के तहत भोर के सूर्य के समय हम चुनाव प्रचार जमीन पर करते हैं और रात में चंद्रमा की रोशनी के समय हम अपने सिद्धांतों को मजबूत करते हैं ताकि हम अपना चुनाव प्रचार अपनी लकीर पर कर सकें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें