scorecardresearch
 

दिल्ली के सबसे बुजुर्ग वोटर का 111 साल की उम्र में हुआ निधन

बचन सिंह के 63 वर्षीय पुत्र जसबीर सिंह ने बताया कि उन्होंने साल 1951 से लेकर 2019 तक, हर चुनाव में अपने मताधिकार का उपयोग किया. बचन सिंह के बेटे ने कहा कि उनके लिए प्रत्येक चुनाव में मुकाबला भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच ही रहता था.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

  • 1951 से अब तक, हर चुनाव में किया था मतदान
  • 11 महीने पहले हो गए थे पैरालाइसिस के शिकार

लोकसभा चुनाव में दिल्ली का एक बुजुर्ग वोटर सुर्खियों में था. सुर्खियां इसलिए क्योंकि वह बुजुर्ग राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का सबसे वरिष्ठ वोटर था. सोमवार को 111 साल के बचन सिंह का निधन हो गया. परिजनों के अनुसार सोमवार की अलसुबह 6.30 पर बचन ने अंतिम सांस ली.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार बचन सिंह के पोते सोनू सिंह ने बताया कि वह पिछले तीन-चार दिनों से ढंग से खाना नहीं खा पा रहे थे. 11 महीने पहले वह पैरालाइसिस के शिकार हो गए थे. बचन सिंह के 63 वर्षीय पुत्र जसबीर सिंह ने बताया कि उन्होंने साल 1951 से लेकर 2019 तक, हर चुनाव में अपने मताधिकार का उपयोग किया. बचन सिंह के बेटे ने कहा कि उनके लिए प्रत्येक चुनाव में मुकाबला भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच ही रहता था.

दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने किया था सम्मानित

बचन सिंह को दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी रणबीर सिंह ने सम्मानित भी किया था. मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बचन सिंह को आम चुनाव में मतदान के लिए आमंत्रित भी किया था. 2015 के विधानसभा चुनाव के समय भी उन्होंने पोलिंग बूथ पहुंच कर अपना वोट डाला था.

व्हील चेयर पर पहुंचे थे वोट देने

इसी साल हुए चुनाव में वह मीडियाकर्मियों की मौजूदगी में मतदान अधिकारियों के साथ कार से वोट डालने तिलक विहार के पोलिंग बूथ पर पहुंचे थे. बाद में उन्हें व्हील चेयर से अंदर ले जाया गया था. समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार वोट डालने से पहले बचन सिंह ने कहा था कि जो हमारे लिए कार्य करेगा, उसे वोट दूंगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें