scorecardresearch
 

दिल्ली को रास आते हैं बाहरी नेता, मनोज-केजरीवाल-शीला के बाद सिद्धू की चर्चा

शीला दीक्षित के निधन बाद दिल्ली कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं. माना जा रहा है कि प्रदेश कांग्रेस की गुटबाजी को थामने के लिए बाहर से भी नया अध्यक्ष लाया जा सकता है. इसके लिए नवजोत सिंह सिद्धू के नाम की चर्चा तेज है.

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू

दिल्ली की सियासत को शायद बाहरी नेता ही ज्यादा रास आते हैं. कांग्रेस ने 21 साल पहले शीला दीक्षित को उत्तर प्रदेश से लाकर दिल्ली की बागडोर दी थी. शीला के निधन बाद दिल्ली कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं. माना जा रहा है कि प्रदेश कांग्रेस की गुटबाजी को थामने के लिए बाहर से भी नया अध्यक्ष लाने का फैसला हो सकता है, इसके लिए नवजोत सिंह सिद्धू के नाम की चर्चा तेज है.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच राजनीतिक वर्चस्व की जंग काफी बढ़ गई है. सिद्दू ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है, जिसे स्वीकार भी कर लिया गया है. ऐसे में कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व सिद्धू को पंजाब से बाहर दिल्ली में राजनीतिक हाथ आजमाने का मौका दे सकती है. इस तरह से कांग्रेस सिद्धू और कैप्टन अमरिंदर दोनों को साधकर रखना चाहती है.

बता दें कि मौजूदा समय में दिल्ली भाजपा की कमान मनोज तिवारी के पास है. तिवारी मूल रूप से बिहार से आते हैं. हालांकि उन्होंने अपनी सियासी कर्मभूमि दिल्ली को बनाया है. मनोज तिवारी के दौर में भाजपा ने दिल्ली की सभी सातों लोकसभा सीटें जीती हैं. इसके अलावा दिल्ली के नगर निगम के चुनाव में भी बीजेपी ने काफी बेहतर प्रदर्शन किया था. तिवारी से पहले भी बीजेपी अध्यक्ष रहे सतीश उपाध्याय भी मूल रूप से दिल्ली के नहीं हैं. वो उत्तर प्रदेश के आगरा से हैं.

मौजूदा समय में दिल्ली की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी के संयोजक और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी दिल्ली से बाहर के रहने वाले हैं. केजरीवाल मूलरूप से हरियाणा के हिसार के रहने वाले हैं. काफी समय से उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के कौशांबी इलाके में रह रहे थे. अन्ना आंदोलन अलग होकर केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी का गठन किया. दिल्ली को अपनी कर्मभूमि बनाया. 

गौरतलब है कि दिल्ली में पहली बार 1993 में विधानसभा चुनाव हुए, जिसमें बीजेपी ने जीत हासिल की. बीजेपी ने पांच साल में दिल्ली में तीन मुख्यमंत्री बदले. इसमें साहब सिंह वर्मा और मदनलाल खुराना दिल्ली के रहने वाले थे. जबकि, सुषमा स्वराज दिल्ली से राजनीति करती रही हैं, जिन्हें चुनाव से ठीक पहले बीजेपी ने दिल्ली का सीएम बनाया था.

सुषमा स्वराज से मुकाबला करने के लिए कांग्रेस ने 1998 में शीला दीक्षित को प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी थी. जबकि, शीला दीक्षित उत्तर प्रदेश से राजनीति कर रही थी. वह कन्नौज संसदीय सीट से सांसद भी चुनी गई थी. शीला के नेतृत्व में कांग्रेस 15 साल तक दिल्ली की सत्ता पर काबिज रही. 2013 के चुनाव में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ा. इसके बाद कांग्रेस ने अरविंदर सिंह लवली और अजय माकन को पार्टी की कमान दी, लेकिन दोनों नेता पार्टी की खोई हुई सियासी जमीन वापस नहीं ला सके.

यही वजह रही कि इसी साल जनवरी में कांग्रेस ने एक बार फिर 78 साल की उम्र में शीला दीक्षित को पार्टी की कमान दी गई थी. लोकसभा चुनाव में शीला ने अपने अनुभव से दिल्ली में पार्टी को तीसरे से दूसरे स्थान पर ला खड़ा किया था. शीला के निधन के बाद कांग्रेस दिल्ली में शून्य की हालत में है.

पार्टी के नए अध्यक्ष के तौर पर जिन नामों की चर्चा है उनमें पूर्व सांसद व पूर्व अध्यक्ष जयप्रकाश अग्रवाल प्रमुख हैं. इसके अलावा पूर्वांचल नेता के तौर पर विख्यात पूर्व सांसद महाबल मिश्रा, पंजाबी के तौर पर सुभाष चोपड़ा का नाम भी चर्चा में है. हालांकि पार्टी का एक वर्ग पूर्व सांसद संदीप दीक्षित के पक्ष में भी आवाज उठा रहा है, लेकिन किसी नाम पर सर्वस्वीकार्यता नहीं बनने के चलते ही नवजोत सिंह सिद्धू के नाम पर मंथन शुरू हो गई है.

कांग्रेस को लगता है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में कम समय रह जाने के कारण सिद्धू पार्टी को ऊपर उठाने में मददगार हो सकते हैं. दिल्ली में सिख समुदाय का अच्छा खासा वोट है. करीब 10 से 12 विधानसभा सीटों पर निर्णायक भूमिका में है. ऐसे में कांग्रेस सिद्धू के जरिए सिख समुदाय को साधने का दांव चल सकती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें