scorecardresearch
 

Nitish राज में अकिलपुर गांव में न डॉक्टर न दवा, दुआ ही आखिरी सहारा

Nitish राज में अकिलपुर गांव में न डॉक्टर न दवा, दुआ ही आखिरी सहारा

कोरोना की रफतार बढ़ती ही जा रही है. बिहार के सारण जिले की अकिलपुर पंचायत जहां 25 हजार की आबादी के लिए सिर्फ एक स्वास्थ्य केंद्र है. यहां हाल देखकर ही खुद पता चल जाएगा कि कोरोना के संकट से निपटने के लिए सरकार कितनी गंभीर है. ना यहां मेज है, ना कुर्सी, ना डॉक्टर है, ना दवा और ना ही इजेंक्शन, यानि महामारी के इस दौर में गांव वालों के लिए बस दुआ ही आखिरी सहारा है. देखें ये ग्राउंड रिपोर्ट.

The coronavirus is surging at a high rate in the villages. Akilpur Panchayat in the Saran district of Bihar where there is only one health centre for a population of 25 thousand is lying in pathetic condition. Looking at the situation here, you will find out how serious the government is to deal with the crisis of Corona. There is no furniture, no doctor, no drugs, not even a basic medical facility. In this era of the epidemic, villagers are living just with the hope of almighty, watch this ground report.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें