scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: ‘ट्रेन 18’ का नया नाम नहीं है ‘वंदे मातरम एक्सप्रेस’

भारतीय रेलवे की सबसे तेज़ रफ्तार बिना इंजन की ट्रेन (ट्रेन 18) का नाम बदलने से जुड़ी फेसबुक पोस्ट सोशल मीडिया पर खूब शेयर की जा रही है. पोस्ट में किए दावे के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुनिश्चित किया कि ट्रेन का नाम बदल कर ‘वंदे मातरम एक्सप्रेस’ रखा जाए जिससे कि ‘देशद्रोही’ जो इन शब्दों को बोलने से हिचकते हैं, वो भी इन्हें बोलने को मजबूर हो जाएं.

वंदे मातरम एक्सप्रेस वंदे मातरम एक्सप्रेस

भारतीय रेलवे की सबसे तेज़ रफ्तार बिना इंजन की ट्रेन (ट्रेन 18) का नाम बदलने से जुड़ी फेसबुक पोस्ट सोशल मीडिया पर खूब शेयर की जा रही है. पोस्ट में किए दावे के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुनिश्चित किया कि ट्रेन का नाम बदल कर ‘वंदे मातरम एक्सप्रेस’ रखा जाए जिससे कि ‘देशद्रोही’ जो इन शब्दों को बोलने से हिचकते हैं, वो भी इन्हें बोलने को मजबूर हो जाएं.

ये दावा ' Narendra Modi Whatsapp Group ' नाम के फेसबुक पेज पर किया गया है. इस पेज के 15 लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं.

पोस्ट को इस लिंक पर आर्काइव देखा जा सकता है. इंडिया टुडे फैक्ट चेक ने पाया कि ये दावा झूठा है. ट्रेन 18 का नया नाम “वंदे भारत एक्सप्रेस” रखा गया है ना कि ‘वंदे मातरम एक्सप्रेस’. यह पोस्ट फेसबुक के साथ ट्विटर पर भी खूब सर्कुलेट हो रही है.  

वायरल पोस्ट में पीएम मोदी के कटआउट के साथ ट्रेन 18 की तस्वीरें देखी जा सकती हैं. साथ ही ये संदेश है- “वाह रे मोदी, गद्दार वंदे मातरम नहीं बोल रहे थे. मोदी ने ट्रेन 18 का नाम ही वंदे मातरम एक्सप्रेस रख दिया, अब तो इनके बाप को भी बोलना होगा.”

इंडिया टुडे फैक्ट चेक ने पाया कि ट्रेन 18 का नाम बदल कर वंदे भारत एक्सप्रेस किए जाने से जुडी ख़बर को बिजनेस टुडे समेत कई प्रमुख मीडिया संस्थानों ने कवर किया.

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने 27 जनवरी को ट्रेन के ‘मेड इन इंडिया’ दर्जे का ज़िक्र करते हुए कहा कि ट्रेन 18 को वंदे भारत एक्सप्रेस के नाम से जाना जाएगा. चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) में बनी इस ट्रेन को शताब्दी एक्सप्रेस का उत्तराधिकारी माना जा रहा है. ये ट्रेन दिल्ली और वाराणसी के बीच 160 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से चलेगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें