scorecardresearch
 

करण ने कहा- 'कभी खुशी कभी गम मेरे चेहरे पर एकमात्र सबसे बड़ा तमाचा'

करण जौहर ने एक के बाद एक कई हिट फिल्में दी हैं, लेकिन करण को लगता है कि साल 2001 में आई फिल्म कभी खुशी कभी गम उनके चेहरे पर तमाचा है.

करण जौहर करण जौहर

करण जौहर आज हिंदी फिल्म इंडस्ट्री का एक बड़ा नाम हैं. उन्होंने एक के बाद एक कई हिट फिल्में दी हैं, लेकिन करण को लगता है कि साल 2001 में आई फिल्म कभी खुशी कभी गम उनके चेहरे पर तमाचा है.

IANS के मुताबिक करण ने कहा, 'मैंने सोचा था कि मैं 'मुगल-ए-आजम' के बाद से आमिर खान की फिल्म 'लगान' और फरहान अख्तर की फिल्म 'दिल चाहता है' तक हिंदी सिनेमा की सबसे बड़ी फिल्म बना रहा हूं.' करण जौहर का पहला और मुख्य लक्ष्य फिल्म में एक बड़ी स्टार कास्ट को शामिल करना था.

उन्होंने कहा, 'कभी खुशी कभी गम' मेरे चेहरे पर एकमात्र सबसे बड़ा तमाचा था और वास्तविकता से मेरा सामना भी था. यह फिल्म पारिवारिक पृष्ठभूमि पर आधारित थी. फिल्म में अमिताभ बच्चन, जया बच्चन, शाहरुख खान, काजोल, ऋतिक रोशन और करीना कपूर जैसे बड़े सितारे मुख्य भूमिकाओं में थे और इनके साथ ही रानी मुखर्जी ने भी इसमें एक छोटा सा किरदार निभाया था.

करण ने एक खास शो में फिल्म के बारे में खुलासा किया. उन्होंने कहा कि समीक्षा और पुरस्कारों के मामले में फिल्म को मिली खराब प्रतिक्रिया से वह हैरान हो गए थे.

घोस्ट स्टोरीज पर क्या बोले करण जौहर

पिछले दिनों नेटफ्ल‍िक्स पर रिलीज हॉरर ड्रामा घोस्ट स्टोरीज दर्शकों को कुछ खास पसंद नहीं आई. दर्शकों ने फिल्म को नेगेट‍िव रिव्यूज दिए. यह नेटफ्ल‍िक्स फिल्म लस्ट स्टोरीज बनाने वाले निर्देशकों जोया अख्तर, करण जौहर, दिवाकर बनर्जी, अनुराग कश्यप का ही प्रोजेक्ट था. हालांकि घोस्ट स्टोरीज, लस्ट स्टोरीज जितनी सफल नहीं हो पाई. अब घोस्ट स्टोरीज पर डायरेक्टर करण जौहर ने अपना रिएक्शन दिया है.

हिंदुस्तान टाइम्स के साथ एक इंटरव्यू में करण जौहर ने अपने इस असफल अनुभव को साझा करते हुए कहा कि वे अब फिर कभी हॉरर मूवी नहीं बनाएंगे. करण ने कहा कि वे हॉरर से कनेक्ट नहीं हो पाते हैं और इसलिए इन तरह के जॉनर की फिल्में वे डायरेक्ट नहीं करेंगे. करण ने आगे कहा कि घोस्ट स्टोरीज उनकी पहली और आख‍िरी हॉरर मूवी है जो कि नेटफ्ल‍िक्स पर रिलीज हुई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें