scorecardresearch
 

गरीबी में बीता भोजपुरी के इस सुपरस्टार का बचपन, छिपकर देखते थे फिल्में

दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ के जन्मदिन पर बता रहे हैं उनके जीवन के संघर्ष और कामयाबी की कहानी. आज निरहुआ भोजपुरी सिनेमा के बड़े सुपरस्टार्स में गिने जाते हैं मगर एक वक्त ऐसा भी था जब तंगी में निरहुआ और उनके परिवार को जिंदगी बसर करनी पड़ गई थी.

निरहुआ निरहुआ

भोजपुरी सिनेमा में दिनेश लाल यादव की धाक है. वे निरहुआ के नाम से जाने जाते हैं और मौजूदा समय में भोजपुरी सिनेमा के बड़े सुपरस्टार्स में से एक हैं. दिनेश लाल यादव को भी अपने जीवन में इस कामयाबी तक पहुंचने के लिए काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था. दिनेश का जन्म 2 फरवरी, 1979 को गाजीपुर में हुआ था. पिछले साल ही दिनेश भारतीय जनता पार्टी से भी जुड़ गए. दिनेश उर्फ निरहुआ के जन्मदिन के मौके पर बता रहे हैं एक्टर के जीवन के संघर्ष के बारे में कुछ बातें.

निरहुआ जब यूपी के गाजिपुर के टंडवा गांव में रहा करते थे तो जीवन उस समय उनके लिए इतना सरल नहीं था. वे चकाचौंध की दुनिया से दूर एक गरीब किसान के साधारण से लड़के थे. मगर उस समय से ही निरहुआ को फिल्में देखने का शौक था. निरहुआ ने खुद कई सारे इंटरव्यू में बताया है कि उनके पिता काफी सख्त मिजाज के थे. इस वजह से घर से निरहुआ को फिल्में देखने की इजाजत नहीं दी जाती थी. मगर इसके बावजूद फिल्मों को लेकर उनकी दिलचस्पी इतनी थी कि वे आधी रात को घरवालों से छिप कर सिनेमा देखने जाया करते थे. कई सारे गांव देश में ऐसे हैं जहां पर शादी खत्म हो जाने के बाद रात में फिल्म लगाई जाती है. निरहुआ यूं ही किसी शादी में घुस जाते थे और फिल्म देखते थे.

मोदी भी पार नहीं करा पाए निरहुआ की नैया, जया, उर्म‍िला भी हारे

1 फिल्म के लिए इतनी फीस लेते हैं निरहुआ, अब तक की हैं 45 फिल्में

इसके अलावा एक समय ऐसा भी आ गया था जब तंगी की हालत में उन्हें पिता के साथ घर छोड़ कर कलकत्ता जाना पड़ गया था. इस दौरान कठिन परिस्थितियों का सामना करते हुए निरहुआ अपने पिता और भाई के साथ झुग्गी में रहे थे. निरहुआ के फिल्मों में अभिनय करने और गाने के लिए उनके चचेरे भाई विजय लाल यादव का हाथ है. वियज खुद एक गायक थे और दिनेश की कला से काफी प्रभावित थे.

बचपन में भैंस पर सवार होकर गाते थे गानें

निरहुआ की मां ने एक इंटरव्यू में कहा था कि 'बचपन से ही उन्हें गाना गाने का शौक था. जब निरहुआ बहुत छोटा था तो उस दौरान भी वो भैंसिया की पीठ पर बैठ कर जोर-जोर से गाने गाया करता था.' निरहुआ के गाने तो लोगों के बीच काफी पॉपुलर हैं हीं. इसी के साथ फिल्मों की बात करें तो निरहुआ ने चलल लंदन, निरहुआ हिंदुस्तानी, पटना से पाकिस्तान, निरहुआ रिक्शेवाला और राजा बाबू समेत तमाम बढ़िया फिल्में की हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें