scorecardresearch
 

SSC का नौवां मनाएंगे आंदोलनरत छात्र, विरोध में करवाएंगे मुंडन

कर्मचारी चयन आयोग के छात्र अपनी मांगों के साथ लगातार नौवें दिन भी धरने पर डटे रहे. प्रदर्शन के नौवें दिन छात्रों में #SSCKaShradhdh हैशटैग के साथ सोशल मीडिया कैम्पेन की शुरुआत भी की है.

फाइल फोटो फाइल फोटो

कर्मचारी चयन आयोग के छात्र अपनी मांगों के साथ लगातार नौवें दिन भी धरने पर डटे रहे. प्रदर्शन के नौवें दिन छात्रों में #SSCKaShradhdh हैशटैग के साथ सोशल मीडिया कैम्पेन की शुरुआत भी की है. साथ ही छात्रों ने ऐलान किया है कि वो एसएससी का नौवां मनाते हुए कई छात्र मुंडन कराएंगे. एसएससी दफ्तर के सामने तपती धूप में दिन भर नारेबाजी करते हुए हाथों में बैनर पोस्टर लेकर सड़कों पर रात गुजारने को मजबूर छात्र अपने आंदोलन को लेकर बेहद गंभीर हैं.

छात्र पूरे सिस्टम की सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं. साथ ही प्रदर्शनकारी छात्र चाहते हैं कि समयबद्ध तरीके से जांच की जाए और जब तक जांच पूरी नहीं होती तब तक एसएससी किसी भी तरह की परीक्षा आयोजित ना करें. मथुरा से आए 23 साल के भूपेन्द्र सिंह सीजीएल और सीएचएसएल परीक्षा की तैयारी कर रहे थे, लेकिन पेपर लीक की खबर के बाद भूपेंद्र लगातार 9 दिनों से धरने पर डटे हुए हैं.

SSC EXAM SCAM: सरकार ने दिए CBI जांच के आदेश, छात्रों ने कहा आदेश नहीं कार्रवाई चाहिए

भूपेन्द्र ने बताया कि प्रदर्शन के इन 9 दिनों में बहुत दिक्कतें झेली. पढ़ाई छोड़ कर सड़क पर धरना प्रदर्शन, बिस्तर छोड़ कर ज़मीन पर सोने की मजबूरी, ब्रेड और बिस्किट के भरोसे पानी पी-पी कर जैसे-तैसे गुजारा कर रहे है. यहां तक कि बाथरूम के लिए भी पेट्रोल पम्प का सहारा ले रहे हैं जो करीब एक ड़ेढ किमी दूर है, लेकिन साथियों ने हौसला बढ़ा रखा है.

छात्रों ने बताया कि खाने पीने की चीजों के लिए कभी छात्र आपस में कलेक्शन करते हैं तो कभी कोई वॉलंटियर कर जाता है, लेकिन कोई पॉलिटिकल फंडिंग नहीं है. बिहार के पूर्णिया जिले से प्रदर्शन में शामिल हुए हेमंत कुमार भी सीजीएल की तैयारी कर रहे हैं, लेकिन एसएससी स्कैम ने उन्हें धरने पर बिठा दिया. हालात ये हैं कि संघर्ष के दौरान नारेबाज़ी करते करते उनका गला पूरी तरह बैठ गया है.

प्रेमा काला तो एसएससी के सिस्टम एरर का जीता जागता उदाहरण है. साल 2016 में स्टेनोग्राफेर के पोस्ट के लिए प्रेमा ने परीक्षा दी. लिखित परीक्षा पास कर के स्किल टेस्ट दिया. फिर डॉक्युमेंट वेरिफिकेशन हुआ और जनवरी 2018 में जब फाइनल रिजल्ट आया तो प्रेमा का चयन हो गया, लेकिन फाइनल रिजल्ट के चार दिन बार एसएससी ने एक और नोटिस निकाला जिसमें पुराने नतीजों को सिस्टम एरर का हवाला देते हुए विड्रॉ कर लिया गया.

SSC मामला: गृहमंत्री बोले- अब घर जाकर CBI रिपोर्ट का इंतजार करें छात्र

बेहद अनुशासित तरीके से प्रदर्शन स्थल पर पसरी गंदगी को भी छात्र खुद ही समेटते नजर आ रहे हैं. प्रदर्शन के दौरान बीच-बीच में छात्र भारत माता की जय, इंक़लाब ज़िंदाबाद, छात्र क्रांति ज़िंदाबाद जैसे नारे लगाकर एक दूसरे का हौसला भी बुलंद कर रहे है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें