scorecardresearch
 

राहत इंदौरी: जिनका हर शब्द मोहब्बत की नई शुरुआत करता है, पढ़ें- 10 शेर

राहत इंदौरी की शायरी का अंदाज बहुत ही दिलकश होता है. आज उनका जन्मदिन है. पढ़ें उनके 10 शेर.

राहत इंदौरी राहत इंदौरी

जाने-माने उर्दू शायर और हिंदी फिल्मों के गीतकार राहत इंदौरी का जन्म आज ही रोज 1 जनवरी, 1950 को इंदौर में हुआ था. उनकी लिखी हुई शायरी और गीत सीधा दिल में उतरते हैं. राहत इंदौरी के शेर हर लफ्ज के साथ मोहब्बत की नई शुरुआत करते हैं. आइए जानते हैं उनके बारे में.

जन्म

राहत इंदौरी का जन्म मध्य प्रदेश के इंदौर में 1 जनवरी, 1950 हुआ था. उनके पिता का नाम रफ्तुल्लाह कुरैशी और माता का नाम निशा बेगम है. बता दें, उनके पिता कपड़ा मिल के कर्मचारी थे.

उनकी शुरुआती पढ़ाई इंदौर के स्कूल से हुई और इस्लामिया करीमिया कॉलेज इंदौर से 1973 में ग्रेजुएशन की डिग्री ली.  जिसके के बाद 1975 में बरकतउल्ला विश्वविद्यालय, भोपाल से उर्दू साहित्य में एम.ए की डिग्री ली. 1985 में मध्य प्रदेश के  भोज मुक्त विश्वविद्यालय से उर्दू साहित्य में पीएचडी की.

यहां पढ़ें राहत इंदौरी के लिखे गए 10 मशहूर शेर

1. न हम-सफ़र न किसी हम-नशीं से निकलेगा

हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा

2. उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो

धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है

3. दोस्ती जब किसी से की जाए

दुश्मनों की भी राय ली जाए

4. नए किरदार आते जा रहे हैं

मगर नाटक पुराना चल रहा है

5. हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे

कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

6. मैं आख़िर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता

यहाँ हर एक मौसम को गुज़र जाने की जल्दी थी

7. घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया

घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है

8. ये हवाएँ उड़ न जाएँ ले के काग़ज़ का बदन

दोस्तो मुझ पर कोई पत्थर ज़रा भारी रखो

9. अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है

उम्र गुज़री है तिरे शहर में आते जाते 

10. एक ही नद्दी के हैं ये दो किनारे दोस्तो

दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें