scorecardresearch
 

झारखंडः खूंटी क्षेत्र में मॉब लिंचिंग केस में 18 लोगों पर FIR दर्ज, 8 से पूछताछ

खूंटी क्षेत्र में रविवार को हिंसक भीड़ द्वारा एक शख्स को पीट-पीटकर मार डालने और दो की जमकर पिटाई के मामले में 4 लोगों को नामजद किया गया है जबकि 15 से 18 लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की गई है.

सांकेतिक तस्वीर (IANS) सांकेतिक तस्वीर (IANS)

  • खूंटी क्षेत्र में मॉब लिंचिंग मामले में 7-8 लोगों से हो रही पूछताछ
  • बैल का वध किए जाने से गुस्साए लोगों ने किया था हमला

झारखंड के खूंटी क्षेत्र में रविवार को हिंसक भीड़ द्वारा एक शख्स को पीट-पीटकर मारने डालने और दो की जमकर पिटाई के मामले में 4 लोगों को नामजद किया गया है जबकि 15 से 18 लोगों पर एफआईआर दर्ज की गई है. पुलिस इसके अलावा 7-8 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ भी कर रही है.

खूंटी एसपी आशुतोष शेखर का कहना है कि कर्रा थाना क्षेत्र के जलटंडा सुअरी गांव में गोकशी करने के दौरान मॉब लिंचिंग हुई थी. एसपी ने लोगों से अपील की है कि क्षेत्र में शांति बनाए रखें, मॉब लिंचिंग के लिए जो भी दोषी हैं, उनमें से किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा. हालांकि ग्रामीणों का कहना है कि यह वहां की स्थानीय परंपरा है. साल में एक बार बाडगुड़ी पूजा के दौरान बैल को मारा जा रहा था.

झारखंड के खूंटी जिले के कर्रा थाना क्षेत्र स्थित जलटंडा सुअरी गांव के पास उग्र भीड़ ने 3 लोगों को बुरी तरह पीटा, जिसमें एक की मौत रांची स्थित रिम्स में इलाज के दौरान हो गई. जबकि दो बुरी तरह से घायल हो गए, जिनका इलाज चल रहा है.

ईसाई और हिंदू गांव आमने-सामने

खूंटी में मॉब लिंचिंग को लेकर पहली बार एक ईसाई बहुल और हिंदू बहुल गांव आमने-सामने आए हैं. ईसाई बहुल गांव के लोगों का कहना है कि वे पारंपरिक बाडगुड़ी पूजा के लिए जानवर का वध कर रहे थे और यह उनका सालाना कार्यक्रम है. वध किए गए जानवर का मीट प्रसाद के रूप में वहां मौजूद लोगों में वितरित किया जा रहा था.

सुअरी गांव के आदिवासी महिला-पुरुषों ने इस घटना के बाद बाहरी लोगों के गांव में प्रवेश करने पर रोक लगाना चालू कर दिया और इसे दुखद बताते हुए कहा कि बलि का प्रसाद वितरण किया जा रहा था. तभी अचानक भीड़ के रूप में 50-60 बजरंग दल और हिंदू संगठन के लोगों ने लाठी-डंडे से प्रहार कर गांव में गेस्ट के रूप में आए केलेम बारला, नदी में नहाने गए सुआरी गांव निवासी फिलीप होरो और महुवाटोली कांटी निवासी फागु कच्छप को भीड़ ने बुरी तरह मारकर घायल कर दिया लेकिन इलाज के दौरान केलेम बारला की मौत हो गई.

आदिवासी ग्रामीणों ने कहा कि हम लोग कभी भी हिंदुओं के त्योहार और खाने-पीने पर किसी तरह की आपत्ति नहीं जताते. लेकिन अब हम लोग अपने गांव पर पहरा दे रहे हैं.

हिंदू बहुल गांव की महिलाओं का कहना है कि आरएसएस और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की ओर से किए गए हमले के लिए उसके परिजनों पर गलत केस दर्ज किया गया है. गांव के लोगों का कहना है कि पुलिस निर्दोष लोगों को उठा रही है. मुख्य आरोपी की तलाश नहीं की जा रही. निर्दोष युवकों को तुरंत छोड़ा जाए और दोषी को गिरफ्तारी करें. (इनपुट- अरविंद सिंह)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें