scorecardresearch
 

विकास दुबे का उन्नाव कनेक्शन, छिपने के लिए जाता था बहन के घर

गांव के प्रधान अशोक का कहना है कि विकास दुबे उन्नाव आता-जाता रहता था. जब भी उसे पुलिस से बचना होता था, वह अपनी बहन के यहां छिप जाता था.

विकास की बहन के घर दे रही दबिश पुलिस (फाइल फोटो-PTI) विकास की बहन के घर दे रही दबिश पुलिस (फाइल फोटो-PTI)

  • पुलिस उन्नाव में विकास की बहन के घर दे रही दबिश
  • छिपने के लिए बहन के घर जाता रहता था विकास दुबे

कानपुर एनकाउंटर में सीओ सहित 8 पुलिसकर्मियों की हत्या कर फरार अपराधी विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार अलग-अलग ठिकानों पर दबिश दे रही है. पुलिस विकास दुबे की कुंडली खंगालने में लगी है. इस बीच, विकास दुबे का उन्नाव कनेक्शन भी पता चला है.

उन्नाव जिले के अचलगंज थाना अंतर्गत के करौंदी गांव में विकास दुबे की बहन की शादी हुई थी. हालांकि उसकी बहन की बीमारी के चलते करीब एक साल पहले संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. फिलहाल, पुलिस विकास की बहन के घर पर भी लगातार दबिश दे रही है. लेकिन घरों में ताले मिले. परिवार फरार है.

ये भी पढ़ें-शहीद CO ने SSP से की थी चौबेपुर दारोगा की शिकायत, बेटी ने सौंपा ऑडियो क्लिप

गांव के प्रधान अशोक का कहना है कि विकास दुबे उन्नाव आता जाता रहता था. जब भी उसको पुलिस से बचना होता था, वह अपनी बहन के यहां छिप जाता था. विकास के बहनोई का नाम राकेश दीक्षित उर्फ़ कृष्ण गोपाल है. उन्नाव पुलिस ने जब करौंदी गांव में दबिश दी तो विकास की बहन के घर पर ताला लगा मिला. परिवार के सभी लोग फरार हैं.

ये भी पढ़ेंः ऐसा था गैंगस्टर विकास दुबे का बंकर, जमा किया था मौत का सामान

पड़ोस में रह रहे लोगों ने बताया कि उसका एक मकान उन्नाव शहर के पीडी नगर में भी है. पुलिस ने वहां भी छापेमारी की है. लेकिन पुलिस को वहां पर भी ताला लगा मिला. पड़ोसियों की मानें तो वर्ष 2001 में राज्य मंत्री संतोष शुक्ला की हत्या के बाद भी उन्नाव पुलिस ने विकास दुबे की बहन व बहनोई के घर पर दबिश दी थी.

पुलिस का अनुमान है कि घटना को अंजाम देने के बाद विकास दुबे के उन्नाव और आसपास के जिले में ही छिपे होने की संभावना है. उन्नाव न्यायालय परिसर में भी विकास दुबे के कोर्ट में सरेंडर किए जाने की संभावना को लेकर भारी पुलिस बल मौजूद है. सूत्रों के मुताबिक, विकास दुबे ने बसपा से राजनीति की जिसके चलते उन्नाव में भी बसपा से सांसद रह चुके और बीजेपी की प्रदेश सरकार में विधि व न्याय मंत्री बृजेश पाठक से उसके संबंध बताए जाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें