scorecardresearch
 

चीन का ‘चार्ली’ कैसे हिंदुस्तान में चला रहा था हवाला का कारोबार, छापेमारी से हुआ खुलासा

दुनिया में घिर चुके चीन की नई साजिश का खुलासा हुआ है. भारत में रह रहा एक चीनी नागरिक फर्जी तरीके से हवाला का कारोबार चला रहा था.

खुल गया चीन का हवाला कारोबार का राज (सांकेतिक तस्वीर) खुल गया चीन का हवाला कारोबार का राज (सांकेतिक तस्वीर)

  • चीन की नई साजिश का आयकर विभाग ने किया खुलासा
  • दिल्ली-एनसीआर में कई जगह छापे, हवाला की बात आई सामने

कई मोर्चों पर भारत के खिलाफ आग उगल रहे चीन की फितरत में हर रोज नई साजिश करना लिखा है. अब चीन की नई साजिश का खुलासा हुआ है. इस बार इस साजिश में हिस्सेदार चीनी फौज नहीं बल्कि चीनी नागरिक हैं. चीनी नागरिकों ने फर्जी कंपनियां बनाकर हवाला के जरिये करीब एक हजार करोड़ का चूना लगाने की कोशिश की, जिसका खुलासा कल आयकर विभाग ने किया.

एक तरफ चीन की फौज अपनी नापाक हरकतों से LAC पर तनाव पैदा कर रही है दूसरी तरफ कारोबार की आड़ में दिल्ली में चीनी नागरिकों के घोटाले का बड़ा खुलासा हुआ है. ये घपला इतना बड़ा है कि रकम 1000 करोड़ के पार जा सकती है. आयकर विभाग ने चीनी कंपिनयों और हवाला नेटवर्क की साठगांठ का पर्दाफाश किया है.

खुफिया एजेंसियों की जानकारी पर आयकर विभाग ने दिल्ली, गाजियाबाद और गुरुग्राम में चीनी नागरिकों के 21 ठिकानों पर छापा मारा. अब तक आयकर विभाग को 300 करोड़ के हवाला लेनदेन का पता चला है, लेकिन आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक ये रकम एक हजार करोड़ से ज्यादा की हो सकती है.

चीनी नागरिकों पर छापे की जानकारी सीबीडीटी ने एक प्रेस रिलीज के जरिये दी है. इसके मुताबिक, सर्च ऑपरेशन से खुलासा हुआ है कि इन चीनी नागरिकों ने फर्जी कंपनियों के नाम से चालीस से ज्यादा बैंक खाते खोले थे. एक समयावधि में 1000 करोड़ रुपये से अधिक क्रेडिट एंट्री की गई.

इतना ही नहीं चीनी कंपनी के सब्सिडियरी और इससे जुड़े लोगों ने फर्जी कंपनियों से भारत में रिटेल शोरूम व्यवसाय करने के लिए 100 करोड़ से अधिक फर्जी अग्रिम भुगतान लिया, लेनदेन में हांगकांग और यूएस डॉलर का इस्तेमाल हुआ था.

दिल्ली-NCR में IT के ताबड़तोड़ छापे, 1000 करोड़ का हवाला कारोबार

इस मामले में एक चीनी नागरिक को आयकर विभाग ने हिरासत में लिया है. इसकी पहचान लुओ सांग के रूप में हुई है, वो चार्ली पैंग के नाम पर रहता था और उसके पास से फर्जी भारतीय पासपोर्ट भी मिले हैं. छानबीन से पता चला है कि उसने फर्जी पासपोर्ट मणिपुर से बनवाए थे.

इतना हीं नहीं चीन के इस चार्ली ने काल्पनिक नामों से भारत में आठ से दस बैंक खाते खोल रखे थे. हवाला ऑपरेशन के लिए चार्ली पैंग कई कंपनियों की नुमाइंदगी कर रहा था. उसे हवाला रैकेट के मामले में 2018 में भी गिरफ्तार किया गया था लेकिन छूटने के बाद वो फिर इसी धंधे में कूद गया.

अब इस मामले में आयकर विभाग की जांच जारी है. ऐसे में चीनी नागरिकों की करतूतों के कई और खुलासे मुमकिन हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें