scorecardresearch
 

बेंगलुरु: BJP के राज्यसभा सांसद अशोक गस्ती का निधन, कोरोना का चल रहा था इलाज

मनिपाल अस्पताल ने एक बयान में कहा, अशोक गस्ती गंभीर रूप से बीमार थे और उन्हें मल्टी ऑरगन फेल्योर था. उन्हें आईसीयू में लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था. डॉक्टर्स का एक एक्सपर्ट पैनल उनकी देखरेख कर रहा था.  

अशोक गस्ती अशोक गस्ती
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोरोना से पीड़ित थे अशोक गस्ती
  • जुलाई में बने थे राज्यसभा सदस्य
  • मनिपाल अस्पताल में चल रहा था इलाज

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राज्यसभा सदस्य अशोक गस्ती का बेंगलुरु में निधन हो गया. 55 साल के गस्ती कोरोना से पीड़ित थे और कुछ दिनों से इलाज चल रहा था. अशोक गस्ती अभी हाल ही में राज्यसभा के सदस्य चुने गए थे. 22 जुलाई को उन्होंने राज्यसभा पद की शपथ ली थी. अशोक गस्ती का मनिपाल अस्पताल में इलाज चल रहा था.

अशोक गस्ती को कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद बेंगलुरु के एक अस्पताल में 2 सितंबर को भर्ती कराया गया था. बताया जा रहा है कि उन्हें सांस लेने में दिक्कत आने के बाद वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था. गस्ती कर्नाटक के दिग्गज नेता था और वे 2012 में कर्नाटक पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष बनाए गए थे.

मनिपाल अस्पताल ने एक बयान में कहा, अशोक गस्ती गंभीर रूप से बीमार थे और उन्हें मल्टी ऑरगन फेल्योर था. उन्हें आईसीयू में लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था. डॉक्टर्स का एक एक्सपर्ट पैनल उनकी देखरेख कर रहा था.  

अशोक गस्ती के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गहरा दुख जताया है. प्रधानमंत्री ने ट्वीट में लिखा, राज्यसभा सांसद श्री अशोक गस्ती प्रतिबद्ध कार्यकर्ता थे जिन्होंने कर्नाटक में पार्टी को मजबूत करने के लिए बहुत मेहनत की. उन्हें समाज के गरीब और हाशिए के तबके को सशक्त बनाने का जुनून था. उनके निधन से दुखी हूं. उनके परिवार और मित्रों के लिए संवेदनाएं. ओम शांति.

प्रधानमंत्री मोदी के अलावा लोकसभा स्पीकर ओम बिरला और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी अशोक गस्ती के निधन पर शोक जताया और उन्हें श्रद्धांजलि दी.

ये भी पढ़ें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें