scorecardresearch
 

US-चीन के बीच ट्रेड डील के मिले संकेत, शेयर बाजार में लौटी बहार

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के साथ ट्रेड डील के संकेत दिए हैं. इस वजह से भारतीय शेयर बाजार में रौनक लौट आई है.

ट्रंप ने कहा कि US-चीन के बीच ट्रेड डील जल्‍द हो सकता है ट्रंप ने कहा कि US-चीन के बीच ट्रेड डील जल्‍द हो सकता है

  • कारोबार के अंत में सेंसेक्‍स 38,989.74 अंक पर बंद हुआ
  • निफ्टी 11,573.30 अंक के स्‍तर पर पहुंच गया

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि चीन के साथ व्यापार करार उम्मीद से पहले हो सकता है. ट्रंप के इस बयान की वजह से भारतीय शेयर बाजार में दो दिनों की सुस्‍ती दूर हो गई है. गुरुवार को कारोबार के अंत में सेंसेक्‍स 396.22 अंक या 1.03 फीसदी की बढ़त के साथ 38,989.74 अंक पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी भी 133.10 अंक यानी 1.22 फीसदी के लाभ से 11,573.30 अंक पर पहुंच गया.

सेंसेक्स में शामिल कंपनियों में वेदांता, महिंद्रा एंड महिंद्रा, आईसीआईसीआई बैंक, टाटा स्टील, ओएनजीसी, मारुति, इंडसइंड बैंक, एलएंडटी, हीरो मोटोकॉर्प, बजाज फाइनेंस और कोटक बैंक 6.47 फीसदी तक के लाभ में रहे. वहीं दूसरी ओर कारोबार के अंत में यस बैंक, इन्फोसिस, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचसीएल टेक, एचडीएफसी, एनटीपीसी, पावरग्रिड और टीसीएस के शेयर 4.93 फीसदी तक नीचे आ गए.

बता दें कि बुधवार को शेयर बाजार में एक बार फिर बड़ी गिरावट देखने को मिली. कारोबार के अंत में सेंसेक्‍स 503.62 अंक यानी 1.29 फीसदी लुढ़ककर 38,593.52 अंक पर बंद हुआ. इसी तरह निफ्टी भी 148 अंक यानी 1.28 फीसदी गिरकर 11,440.20 अंक पर बंद हुआ.

वित्त मंत्री करेंगी प्रेस कॉन्‍फ्रेंस

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण गुरुवार को शाम 7 बजे प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करेंगी. इससे पहले शाम 5.30 बजे निर्मला सीतारमण की निजी क्षेत्र के बैंकों, एनबीएफसी और हाउसिंग फाइनेंस कंपनियों के साथ बैठक होगी. वित्तमंत्री के साथ इस बैठक में एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक शामिल हो सकते हैं और कुछ चयनित हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां (एचएफसी) और नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियां भी वहां हो सकती हैं.

बुधवार को क्‍यों आई गिरावट?

बुधवार को अमेरिका में डेमोक्रेटिक पार्टी की नेता नैंसी पेलोसी ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की औपचारिक जांच प्रक्रिया की शुरुआत की घोषणा की. इस खबर के बाद दुनिया भर के बाजारों में हाहाकार मच गया. वहीं घरेलू मोर्चे पर एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने वैश्विक नरमी को देखते हुए चालू वित्त वर्ष में भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 6.50 फीसदी कर दिया. इस फैक्‍टर की वजह से भी भारतीय बाजार प्रभावित हुआ.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें