scorecardresearch
 

आईपीएल में फिर सजेगा का क्रिकेटरों का बाजार, होगी नीलामी

विवादों से घिरे इंडियन प्रीमियर लीग के सातवें सीजन के लिये खिलाड़ियों की नीलामी बुधवार को होगी जिसमें भारत और विश्व के कुछ बड़े सितारों के अलावा नये खिलाड़ियों की भी बोली लगेगी.

भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग

विवादों से घिरे इंडियन प्रीमियर लीग के सातवें सीजन के लिये खिलाड़ियों की नीलामी बुधवार को होगी, जिसमें भारत और विश्व के कुछ बड़े सितारों के अलावा नये खिलाड़ियों की भी बोली लगेगी.

लीग में भ्रष्टाचार पर न्यायमूर्ति मुद्गल समिति की रिपोर्ट भले ही खिलाड़ियों और फ्रेंचाइजी के लिये भले ही शर्मसार करने वाली हो लेकिन इससे बुधवार को होने वाली नीलामी पर असर नहीं पड़ेगा जिसमें 514 खिलाड़ी बिकेंगे.

सुप्रीम कोर्ट को सोमवार को दी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन सट्टेबाजी और टीम की सूचनायें लीक करने में लिप्त थे. इससे चेन्नई सुपर किंग्स के इस लुभावनी लीग में बने रहने पर भी सवाल उठने लगे हैं.

न्यायालय ने हालांकि नीलामी समय पर कराने की अनुमति दे दी है. इंग्लैंड के विवादित बल्लेबाज केविन पीटरसन और भारतीय टीम से बाहर युवराज सिंह तथा वीरेंद्र सहवाग सबसे पहले नीलामी के लिये जाने वाले खिलाड़ियों में से होंगे.

न्यूजीलैंड के हरफनमौला कोरी एंडरसन पर भी सभी की नजरें होंगी जो 10वें सेट में 83वें नंबर पर है. आईपीएल के इतिहास में पहली बार नये खिलाड़ियों की नीलामी होगी. क्रिकेटरों को आठ से दस के 53 सेटों में बांटा गया है. पहली सूची को मारकी वन या एमवन कहा गया है जिसमें कुछ बड़े नाम शामिल है. इनमें सहवाग, युवराज, पीटरसन, डेविड वार्नर, जैक कैलिस शामिल हैं.

मार्की खिलाडि़यों की दूसरी सूची या एम2 में न्यूजीलैंड के कप्तान ब्रैंडन मैक्कुलम, ऑस्ट्रेलिया के वनडे और टी20 कप्तान जॉर्ज बेली, भारत के अनुभवी तेज गेंदबाज जहीर खान, दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज फाफ डू प्लेसिस, ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज माइकल हसी और वेस्टइंडीज के ऑलराउंडर डेरेन सैमी जैसे खिलाड़ी हैं.

पिछले वर्षों की तरह पाकिस्तान के किसी खिलाड़ी का नाम आईपीएल सूची में नहीं है. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेलने वाले भारतीय और विदेशी खिलाड़ियों के 28 सेट हैं. भारत के खिलाफ एकदिवसीय मैचों में शतकों की तिकड़ी बनाने वाले दक्षिण अफ्रीका के विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डि काक को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने वाले विकेटकीपरों (डब्ल्यूके1) की पहली सूची में जगह मिली है. उनका आधार मूल्य एक करोड़ रूपये है.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करने वाले एंडरसन को अंतरराष्ट्रीय ऑलराउंडरों (एएल2) के दूसरे सेट में 83वें नंबर पर रखा गया है. एंडरसन को 83वें नंबर पर रखने से न्यूजीलैंड के इस ऑलराउंडर के लिए बोली की जंग देखने को मिल सकती है. दिल्ली डेयरडेविल्स ने किसी खिलाड़ी को रिटेन नहीं किया है जिससे उसके पास काफी राशि होगी लेकिन एंडरसन का नंबर आने तक माना जा रहा है कि बाकी टीमों के पास भी चेन्नई सुपरकिंग्स और मुंबई इंडियंस जितना पैसा ही बचेगा. यह हैरानी भरा है कि एंडरसन का नाम अंतरराष्ट्रीय आलराउंडरों की शीर्ष सूची में नहीं है जिसमें पठान बंधुओं इरफान और यूसुफ को बांग्लादेश के साकिब अल हसन, पाकिस्तान के पूर्व आलराउंडर और अब ब्रिटिश पासपोर्ट धारक अजहर महमूद के साथ रखा गया है.

सेट नंबर 25 में भारत के ऐसे खिलाड़ियों को शामिल किया गया है जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेला है और इस सेट में केदार जाधव, उन्मुक्त चंद और विजय जोल जैसे खिलाड़ियों के लिए बड़ी बोली लग सकती है. इन खिलाडि़यों का आधार मूल्य 10 लाख से 30 लाख रुपये के बीच तय किया गया है. जम्मू एवं कश्मीर के लेग स्पिनर परवेज रसूल को सेट नंबर 27 में हिमाचल प्रदेश के ऋषि धवन के साथ रखा गया है जो रणजी सत्र में सर्वाधिक विकेट चटकाने वाले गेंदबाज रहे.

अधिकांश शीर्ष भारतीय खिलाड़ियों को उनकी फ्रेंचाइजियों ने रिटेन किया है. टेस्ट विशेषज्ञ चेतेश्वर पुजारा का आधार मूल्य डेढ़ करोड़ रुपये है और वह नीलाम होने वाले खिलाडि़यों की सूची में 18वें खिलाड़ी हैं. बल्लेबाजों की सूची में कई बड़े नाम शामिल हैं जिसमें फॉर्म में चल रहे ऑस्ट्रेलिया के एरॉन फिंच (एक करोड़ रुपये), ब्रैड हॉज (दो करोड़ रुपये), इंग्लैंड के इयोन मोर्गन, वेस्टइंडीज के ड्वेन स्मिथ और न्यूजीलैंड के रॉस टेलर अहम हैं. स्टार तेज गेंदबाजों में दक्षिण अफ्रीका के मोर्ने मोर्कल शीर्ष ड्रा में हैं. उनका आधार मूल्य डेढ़ करोड़ रुपये है.

इस सूची में ऑस्ट्रेलिया के बायें हाथ के तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क (दो करोड़ रुपये), भारत के भुवनेश्वर कुमार (डेढ़ करोड़), प्रवीण कुमार (दो करोड़) और अशोक डिंडा (एक करोड़) शामिल हैं. उमेश यादव (एक करोड़) और आर विनय कुमार (डेढ़ करोड़) को भी अच्छी राशि मिलने की उम्मीद है क्योंकि भारत के पास ऐसे काफी तेज गेंदबाजी नहीं है जो छोटे प्रारूप में जरूरतों को पूरा करते हों.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें