scorecardresearch
 

कब है धनतेरस? जानें पूजा की सही विधि और शुभ मुहूर्त

ऐसी मान्यताएं हैं कि धनतेरस पर दिन के समय या संध्याकाल में अगर खरीदारी की जाए तो तमाम मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं.

धनतेरस पर विभिन्न धातुओं से बने बर्तन, सोना, चांदी खरीदने का बड़ा महत्व होता है. धनतेरस पर विभिन्न धातुओं से बने बर्तन, सोना, चांदी खरीदने का बड़ा महत्व होता है.

धनतेरस का त्योहार आने वाला है. पांच पर्वों वाली दीपावली की शुरुआत धनतेरस से ही हो जाती है. धन तेरस के दिन महालक्ष्मी के सचिव कुबेर का पूजन होता है. कुबेर के वरदान से घर में अपार धन के भंडार लग सकते हैं. इनके पूजन के लिए धनतेरस के दिन कई उपाय भी किए जाते हैं. धनतेरस की शाम परिवार की मंगलकामना के लिए यम नाम का दीपक भी जलाया जाता है.

धनतेरस पर विभिन्न धातुओं से बने बर्तन, सोना, चांदी खरीदने का बड़ा महत्व होता है. इस दिन धातु का सामान खरीदना शुभ माना जाता है. ऐसी मान्यताएं हैं कि धनतेरस पर दिन के समय या संध्याकाल में अगर खरीदारी की जाए तो तमाम मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं.

क्यों मनाया जाता है धनतेरस?-

धनतेरस कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी को मनाया जाता है. माना जाता है कि इस दिन समुद्र मंथन के दौरान, अमृत का कलश लेकर धनवंतरी प्रकट हुए थे. तभी से इस दिन को धनतेरस के रूप में मनाया जाने लगा. धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, धनवंतरी के प्रकट होने के ठीक दो दिन बाद मां लक्ष्मी प्रकट हुईं थीं. यही कारण है कि हर बार दिवाली से दो दिन पहले ही धनतेरस मनाया जाता है.

इस दिन स्वास्थ्य रक्षा के लिए धनवंतरी देव की उपासना की जाती है. इस दिन को कुबेर का दिन भी माना जाता है और धन संपन्नता के लिए कुबेर की पूजा की जाती है.

धनतेरस पूजा का शुभ मुहूर्त-

धनतेरस पूजा मुहूर्त- शाम 07.08 बजे से रात 8.14 बजे तक

अवधि- 1 घंटा 06 मिनट

प्रदोष काल- शाम 5.39 से 8.14 बजे तक

धनतेरस पर कैसे करें पूजा?

धनतेरस पर शाम के वक्त उत्तर की ओर कुबेर और धनवंतरी की स्थापना करनी चाहिए. दोनों के सामने एक-एक मुख का घी का दीपक जरूर जलाना चाहिए. धनतेरस के दिन कुबेर को सफेद मिठाई और धनवंतरी को पीली मिठाई चढ़ाना भी शुभ माना जाता है. इस दिन सबसे पहले "ॐ ह्रीं कुबेराय नमः" का जाप करना. इसके बाद "धनवंतरी स्तोत्र" का पाठ करने से बहुत लाभ होता है.

- पूजा के बाद दीपावली पर कुबेर को धन स्थान पर और धनवंतरी को पूजा स्थान पर स्थापित करें.

कौन से उपाय करने से मिलेगा लाभ?

धनतेरस के दिन धन्वंतरि का पूजन करना चाहिए. साथ ही नवीन झाडू एवं सूपड़ा खरीदकर भी उनका पूजन करना चाहिए. इस दिन सायंकाल दीपक प्रज्वलित कर घर, दुकान आदि को श्रृंगारित करना फलदायी साबित होता है. इस दिन लोग मंदिर, गोशाला, नदी के घाट, कुओं, तालाब, बगीचों में भी दीपक लगाएं.

धनतेरस के दिन क्या जरूर खरीदें?

- धातु का बर्तन, अगर पानी का बर्तन हो तो ज्यादा अच्छा होगा.

- खील बताशे और मिट्टी के दीपक, एक बड़ा दीपक भी जरूर खरीदें.

- चाहें तो अंकों का बना हुआ धन का कोई यंत्र भी खरीद सकते हैं.

- यथाशक्ति तांबे, पीतल, चांदी के गृह-उपयोगी नवीन बर्तन और जेवर खरीदना शुभ माना जाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें