scorecardresearch
 

'जीन एडिटिंग टेक्नोलॉजी' से गंभीर रोगों का इलाज संभव: मुरली दोराईस्वामी

ड्यूक यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के प्रोफेसर और जाने-माने मेडिकल साइंटिस्ट डॉक्टर मुरली दोराईस्वामी ने इससे जुड़े सवालों के जवाब दिए और बताया कि आखिर कैसे जीन एडिटिंग के जरिए गंभीर रोगों का इलाज संभव है.

जीनोम की संरचना को समझने और उसकी मैपिंग के लिए अब तक हजारों मिलियन डॉलर खर्च किए जा चुके हैं जीनोम की संरचना को समझने और उसकी मैपिंग के लिए अब तक हजारों मिलियन डॉलर खर्च किए जा चुके हैं

इंसान के दिमाग की संरचना और उभरती जीन एडिटिंग टेक्नोलॉजी के कई महत्वपूर्ण पहलुओं को 'इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2019' में समझने का मौका मिला. इस दौरान ड्यूक यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के प्रोफेसर और जाने-माने मेडिकल साइंटिस्ट डॉक्टर मुरली दोराईस्वामी ने इससे जुड़े सवालों के जवाब दिए और बताया कि आखिर कैसे जीन एडिटिंग के जरिए गंभीर रोगों का इलाज संभव है.

डॉ. मुरली दोराईस्वामी ने कहा, 'हम इंसानों में जींस की वजह से ही विविधताएं होती हैं. हमारे अंदर क्रोमोसोम्स के 23 पेयर होते हैं और उनके बीच हमारे जींस में करोड़ों कोडेड डाटा छिपा हुआ है. जीनोम की संरचना को समझने और उसकी मैपिंग के लिए अब तक हजारों मिलियन डॉलर खर्च किए जा चुके हैं.

उन्होंने कहा, 'मौजूदा दौर में जीन एडिटिंग भी संभव है. इस प्रकिया को क्रिस्पर कहा जाता है. आज मेडिकल साइंस जींस को एडिट कर सकती है. मोडिफाई कर सकती है. यहां तक कि इसमें नए जेनेटिक मैटिरियल भी इंसान के शरीर में ट्रांसफर किए जा सकते हैं.

दोराईस्वामी ने आगे कहा, 'इस मामले में चीनी वैज्ञानिक काफी ज्यादा सफल हुए हैं. चीनी वज्ञानिकों ने इंसान के दिमाग में मौजूद एक खास किस्म के जीन की खोज की है. इस जीन को बाद में बंदर के छह बच्चों के जीन में दाखिल कराया गया. कुछ समय बाद जब बंदर के बच्चों के दिमाग की मैपिंग हुई तो पता चला कि उनका दिमाग हू-ब-हू इंसान के दिमाग की तरह ही विकसित हो रहा था.

जीनोम एडिटिंग से डिजाइन होगी पर्सनैलिटी-

उन्होंने बताया, 'मुझे लगता है कि इस चमत्कारिक तकनीक को सीरियस मेडिकल इलनेस के लिए सुरक्षित रखा जाना चाहिए. इस अद्धभुत मेडिकल टेक्नोलॉजी को कानूनी दायरा में बांधना जरूरी है. मिसाल के तौर पर

हाल ही में हमने इस तकनीक का इस्तेमाल एक ऐसी महिला के इलाज के लिए किया था जिसके परिवार की पिछली पांच पीढ़ियां फैमिलियल डेमेंशिया से ग्रस्त थी. ये एक ऐसी बीमारी है जिसमें इंसान को नींद नहीं आती है और एक समय के बाद उसकी मृत्यु हो जाती है.

लूसी फिल्म का जिक्र-

हॉलीवुड फिल्म लूसी का जिक्र करते हुए दोराईस्वामी से पूछा गया कि इंसान अपने दिमाग का भरपूर इस्तेमाल क्यों नहीं कर सकता है? जैसा कि फिल्म में दिखाया गया है. इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इंसान अपने दिमाग का 15 या 20 प्रतिशत इस्तेमाल कर सकता है, ये सिर्फ मिथ है. हर इंसान प्रयास के माध्यम से क्रिएटिविटी को बेहतर बना सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें