scorecardresearch
 

Nightshade Vegetables: क्या हैं नाइटशेड वेजिटेबल्स, आखिर किन वजहों से ये सब्जियां हैं इतनी बदनाम?

नाइटशेड वेजिटेबल्स कुछ मिथकों के चलते थोड़ी बदनाम हैं. ऐसा दावा किया जाता है कि इन्हें खाने से आर्थराइटिस जैसी दिक्कतें बढ़ सकती हैं. हालांकि इस प्रकार के दावों का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है. आइए आज आपको बताते हैं कि नाइटशेड वेजिटेबल्स क्या हैं और उन्हें किन जोखिम से जोड़कर देखा जाता है.

Nightshade Vegetables (Photo Credit: Getty Images) Nightshade Vegetables (Photo Credit: Getty Images)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नाइटशेड वेजिटेबल्स कुछ मिथकों के चलते हैं बदनाम
  • इन्हें खाने से बढ़ सकती हैं आर्थराइटिस जैसी दिक्कतें

हरी सब्जियों में पाए जाने वाले न्यूट्रिशन हमारी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माने जाते हैं. लेकिन क्या कभी आपने नाइटशेड वेजिटेबल्स के बारे में सुना है. दरअसल नाइटशेड वेजिटेबल्स कुछ मिथकों के चलते थोड़ी बदनाम हैं. ऐसा दावा किया जाता है कि इन्हें खाने से आर्थराइटिस जैसी दिक्कतें बढ़ सकती हैं. हालांकि इस प्रकार के दावों का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है. आइए आज आपको बताते हैं कि नाइटशेड वेजिटेबल्स क्या हैं और उन्हें किन जोखिम से जोड़कर देखा जाता है.

क्या हैं नाइटशेड विजेटेबल्स?
टमाटर, बैंगन, शिमला मिर्च और आलू जैसी हरी सब्जियां नाइटशेड वेजिटेबल्स में गिनी जाती हैं. इन सभी सब्जियों में एल्कलॉइड नाम का तत्व पाया जाता है. एल्कलॉइड एक यौगिक है जिसमें नाइट्रोजन होता है और यह पौधों की पत्तियों, तनों और खाए जाने वाले हिस्सों में पाया जाता है.

नाइटशेड वेजिटेबल्स के फायदे
एक्सपर्ट कहते हैं कि नाइटशेड वेजिटेबल्स में बहुत ज्यादा मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जो हमारे शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में मददगार माने जाते हैं. एंथोसायनिन नाम का एक ऐसा ही एंटीऑक्सीडेंट बैंगन के बैंगनी रंग में मौजूद होता है जो कैंसर और डायबिटीज जैसी बीमारियों के जोखिम को कम कर सकता है.

इसी तरह टमाटर में भी लाइकोपीन नाम का एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जो कई तरह की हार्ट डिसीज और विभिन्न प्रकार के कैंसर के खतरों को कम करने के लिए जाना जाता है. नाइटशेड वेजिटेबल्स में कई प्रकार के मिनरल्स और विटामिन भी पाए जाते हैं जिनकी जरूरत हमारे शरीर को लगातार होती है. शिमला मिर्च हमारे शरीर में विटामिन-सी की कमी को पूरा कर सकती है.

क्या नाइटशेड वेजिटेबल्स हैं नुकसानदायक?
नाइटशेड वेजिटेबल्स को लेकर ऐसे मिथक हैं कि इनमें मौजूद विषैले पदार्थ हमारे शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं. लेकिन सच्चाई कुछ और ही है. आलू में पाए जाने वाला एल्कलॉइड सोलेनिन होता है, जो प्रकाश के संपर्क में आने पर हरे रंग का हो जाता है. ये वास्तव में टॉक्सिक है जिसे तुरंत अलग कर देना ही बेहतर है. इस तरह का आलू खाने से आपको जी मिचलाना, डायरिया, बुखार या सिदर्द जैसी परेशानी हो सकती हैं.

इसके अलावा, बाकी किसी भी नाइटशेड वेजिटेबल्स में ना तो कई विषैला पदार्थ होता है और ना ही ये हमारी शरीर को नुकसान पहुंचाती हैं. बैंगन, टमाटर या बाकी सब्जियों में कम से कम मात्रा में एल्कलॉइड हो सकते हैं जो हमारे शरीर के लिए बिल्कुल भी हानिकारक नहीं है, जब तक कि आप बहुत ज्यादा मात्रा में इनका सेवन ना करें.

नाइटशेड वेजिटेबल्स से एलेर्जी के लक्षण
एक्सपर्ट कहते हैं कि यदि किसी इंसान को नाइटशेड वेजिटेबल्स से एलेर्जी है तो उसके लिए एक टेस्ट करा लेना जरूरी है. नाइटशेड वेजिटेबल्स से एलेर्जी के कारण कुछ लोगों को सूजन, खराश, आंखों में खुजली, जी मिचलाना, सिरदर्द, सांस में तकलीफ या छाती में घरघराहट की आवाज इसके लक्षण हो सकते हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें