scorecardresearch
 

भारतीय सेना को मिले 306 अधिकारी, रक्षा मंत्री ने ली पासिंग आउट परेड की सलामी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने  बतौर रिव्यूइंग ऑफिसर परेड की सलामी ली. भारतीय सेना का हिस्सा बनने पर देवभूमि के जांबाजों का जोश भी दिखा और पास आउट हुए कैडेट्स ने अपनी टोपी आकाश की ओर उछालकर अपनी खुशी का इजहार किया.

पासिंग आउट परेड का निरीक्षण करते रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पासिंग आउट परेड का निरीक्षण करते रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

  • मुख्यमंत्री टीएस रावत भी रहे मौजूद
  • सर्वाधिक 56 कैडेट्स उत्तर प्रदेश के

भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) में शनिवार को पासिंग आउट परेड हुई, जिसमें भारतीय सेना को 306 अधिकारी मिले. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने  बतौर रिव्यूइंग ऑफिसर परेड की सलामी ली. भारतीय सेना का हिस्सा बनने पर देवभूमि के जांबाजों का जोश भी दिखा और पास आउट हुए कैडेट्स ने अपनी टोपी आकाश की ओर उछालकर अपनी खुशी का इजहार किया.

देश की कुल आबादी में महज 0.84 फीसदी की भागीदारी वाले उत्तराखंड के 19 कैडेट्स थे, जबकि सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश के 56 युवा इस पासिंग आउट परेड में शामिल थे. हरियाणा के 39, बिहार के 24, राजस्थान के 21, हिमाचल प्रदेश के 18, महाराष्ट्र के 19,दिल्ली के 16, पंजाब के 11, मध्य प्रदेश के 10, केरल के 10, तमिलनाडु के 9, जम्मू और कश्मीर के 6, कर्नाटक के 7, पश्चिम बंगाल के 6, आंध्रप्रदेश के 6, तेलंगाना के 5, मणिपुर के 4, झारखंड के 4, चंडीगढ़ के 4, गुजरात के 4, असम के 2, उड़ीसा, मिजोरम और सिक्किम के 1-1 और नेपाल के दो कैडेट थे.

ima_passingout_120719031312.jpgकैडेट्स की परेड

इन्हें मिले मेडल

पासिंग आउट परेड में कई कैडेट्स को मेडल भी प्रदान किए गए. विनय विलास स्वॉर्ड ऑफ ऑनर और गोल्ड मेडल, जबकि पीकेन्द्र सिंह और शिवराज सिंह को ब्रॉन्ज मेडल और ध्रुव मेहला को सिल्वर मेडल प्रदान किया गया. पासिंग आउट परेड के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी मौजूद रहे.

जाम से निजात को बनेगा अंडरपास

आईएमए की पासिंग आउट परेड के दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग बंद करना पड़ता है. इससे लंबा जाम लग जाता है और जनता को लंबा रास्ता तय कर गंतव्य तक जाना पड़ता है. इस समस्या से निपटने के लिए आईएमए के नॉर्थ, साउथ और सेंटर बिल्डिंग के बीच से गुजरने वाली सड़क पर दो अंडर पास बनाए जाएंगे. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने यह घोषणा की. अंडर पास बनाने पर लगभग 33 करोड़ रुपये का खर्च आने का अनुमान है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें