scorecardresearch
 

माधुरी दीक्षित का दीवाना था, कभी जूते-चप्पल ना पहनने वाला ये चित्रकार

कभी खिलौने बनाने का काम करते थे एमएफ हुसैन. चित्रकारी की वजह से पैदा हुए विवादों के चलते उन्हें 2006 में भारत छोड़कर दोहा जाकर रहना पड़ा था.

एम एफ हुसैन एम एफ हुसैन

मशहूर चित्रकार मकबूल फिदा हुसैन अपनी चित्रकारी के लिए दुनियाभर में जाने गए. वे 17 सितंबर, 1915 को जन्मे थे. सिनेमा उनका पहला प्यार था. इसीलिए वे फिल्म निर्देशक बनने मुंबई गए, लेकिन यहां रहने के लिए उन्हें फिल्म बिलबोर्ड में चित्रकारी और खिलौने बनाने का काम करना पड़ा. हुसैन का निधन, 9 जून 2011 में हुआ था. पुण्यतिथि पर जानते हैं उनके बारे में ऐसी ही दिलचस्प बातें.

उनकी फिल्म थ्रो द आइज ऑफ ए पेंटर को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार का बेस्ट एक्सपेरिमेंटल फिल्म पुरस्कार मिला. अपने शुरुआती और संघर्ष के दिनों में वे पैसे कमाने के लिए फिल्मों के होर्डिंग्स पेंट किया करते थे. वे कभी जूते-चप्पल नहीं पहनते थे और हमेशा नंगे पांव रहते थे.

उन्हें साल 1973 में पद्म भूषण और साल 1991 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया. वे कहते थे कि, मुझे जंगल में छोड़ देंगे तो भी मैं वहां से कुछ रचनात्मक बनाकर ही लौटूंगा. एमएफ हुसैन बॉलीवुड की 'धक-धक गर्ल' माधुरी दीक्षित के बहुत बड़े प्रशंसक थे. उन्होंने माधुरी और तब्बू के साथ फिल्में भी बनाई. कहा जाता है कि वह विद्या बालन के साथ भी फिल्म बनाना चाहते थे.

चित्रकारी की वजह से पैदा हुए विवादों के चलते उन्हें 2006 में भारत छोड़कर दोहा जाकर रहना पड़ा. उन्होंने कतर की नागरिकता भी ली. चित्रकारी में उन्होंने देश-दुनिया में नाम कमाया. 9 जून, 2011 को उनका लंदन में निधन हो गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें