scorecardresearch
 

कोरोना: 55 दिन बाद मुंबई का शाहीन बाग खत्म, महिलाओं ने कहा- जल्द वापस आएंगे

हालांकि, ये आंदोलन सांकेतिक रूप से खत्म किया गया है. दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज़ पर मुंबई के नागपाड़ा में मोरलैंड रोड पर दिल्ली के शाहीन बाग की तरह महिलाएं सीएए के खिलाफ धरना दे रही थीं. ये मुंबई बाग आंदोलन 55 दिन बाद रविवार को जनता कर्फ्यू के दौरान खत्म किया गया. कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे और धारा 144 लागू होने के बाद महिलाओं ने सांकेतिक रूप से अपना धरना खत्म कर दिया है.

महिलाओं ने जल्द वापस आने की बात कही (फोटो-ANI) महिलाओं ने जल्द वापस आने की बात कही (फोटो-ANI)

  • मुंबई में महिलाओं का धरना रोका गया
  • 55 दिन से धरने पर थीं महिलाएं
  • सीएए के खिलाफ चल रहा था धरना

कोरोना वायरस ने पूरे देश में लॉकडाउन की स्थिति पैदा कर दी है. दिल्ली समेत देश के 10 से ज्यादा राज्यों में लॉकडाउन किया गया है. महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे ज्यादा केस सामने आए हैं, लिहाजा यहां पूरे राज्य में धारा 144 लागू कर दी गई है. सरकार के इस फैसले के बाद मुंबई में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शाहीन बाग की तर्ज पर चल रहा धरना प्रदर्शन खत्म कर दिया है.

हालांकि, ये आंदोलन सांकेतिक रूप से खत्म किया गया है. दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज़ पर मुंबई के नागपाड़ा में मोरलैंड रोड पर दिल्ली के शाहीन बाग की तरह महिलाएं सीएए के खिलाफ धरना दे रही थीं. ये मुंबई बाग आंदोलन 55 दिन बाद रविवार को जनता कर्फ्यू के दौरान खत्म किया गया. कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे और धारा 144 लागू होने के बाद महिलाओं ने सांकेतिक रूप से अपना धरना खत्म कर दिया है.

कुर्सियों पर लिखा- जल्द आएंगे

धरनास्थल पर रखी कुर्सियों पर जल्द वापस आने की बात लिखी गई है. इसके अलावा महिलाओं का कहना है कि उनका ये धरना सांकेतिक रूप से खत्म किया गया है, सीएए और एनआरसी के खिलाफ उनकी लड़ाई आगे भी जारी रहेगी. महिलाओं का कहना है कि अब इस आंदोलन के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया जाएगा.

इसके साथ ही महिलाओं ने ये भी कहा है कि कोरोना वायरस का प्रकोप खत्म होने के बाद उनका आंदोलन फिर से शुरू किया जाएगा और सीएए-एनआरसी का विरोध किया जाएगा.

डीसीपी भी मौके पर पहुंचे

देर रात आन्दोलनस्थल पर मुम्बई पुलिस के डीसीपी भी पहुंचे और हालात का जायजा लिया. डीसीपी अविनाश कुमार ने बताया कि कोरोना के बढ़ते हुए खतरे को देखते हुए महिलाओं ने आंदोलन खत्म करने का फैसला लिया है. उन्होंने भविष्य पर कहा कि महिलाएं फिर से यहां बैठेंगी या नहीं ये भविष्य में ही पता लगेगा.

बता दें कि महाराष्ट्र में तेजी से कोरोना वायरस के केस बढ़ रहे हैं. जिसके बाद पूरे राज्य में 31 मार्च तक धारा 144 लागू की गई है और लोगों से घरों में रहने को कहा गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें