scorecardresearch
 

रामपुर पहुंचे अखिलेश योगी पर भड़के, कहा- इतने मुकदमे लगाओ कि कागज खत्म हो जाए

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने प्रदेश की सरकार और केंद्र पर भी जमकर हमला बोला. इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं उन सभी परिवारों से मिला, जिन्हें प्रशासन द्वारा परेशान किया गया है.

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (फाइल फोटो- Aajtak) समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (फाइल फोटो- Aajtak)

  • सांसद आजम खान के समर्थन में अखिलेश यादव
  • राज्य और केंद्र की सरकार पर  जमकर बरसे
  • अखिलेश यादव बोले- लड़ेंगे कागजी लड़ाई

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रामपुर से सांसद आजम खान के खिलाफ जांच एजेंसियों के चल रहे एक्शन के खिलाफ खुलकर खड़े हो गए हैं. शुक्रवार को अखिलेश यादव रामपुर पहुंचकर सांसद आजम खान के हमसफर रिसॉर्ट में रुके और आज दिनभर शहर के उलेमाओं के साथ मेल मुलाकात करते रहे.

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रामपुर शहर के तमाम उलेमाओं के साथ बैठककर सांसद आजम खान के साथ हो रही कार्रवाई को लेकर काफी देर तक चर्चा की. इसके बाद समाजवादी पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं को भी संबोधित किया. अखिलेश यादव ने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे घबराए नहीं हमलोग सब एकजुट हैं और हर स्तर पर सरकार से मोर्चा लेने के लिए तैयार हैं.

अखिलेश यादव ने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के बड़े वकीलों से राय लेकर आजम खान के खिलाफ सभी फर्जी केसेज को खत्म कराया जाएगा. अखिलेश यादव ने रामपुर में महिलाओं और वहां वकीलों से भी मुलाकात की. इसके बाद वापसी के समय रामपुर में जौहर यूनिवर्सिटी के तोड़े गए उर्दू गेट को भी देखने पहुंचे और उसके बाद बरेली रवाना हो गए.

सरकारी धन का दुरुपयोग करने का आरोप

इस बीच जांच एजेंसियों ने सांसद आजम खां की जौहर यूनिवर्सिटी का संचालन कर रही जौहर ट्रस्ट के सभी सदस्यों की जांच करने का फैसला किया है. अब इन सदस्यों की जांच ईडी यानी प्रवर्तन निदेशालय करेगा. ईडी को मिली हुई शिकायत में कहा गया है कि 2012 में समाजवादी पार्टी की सरकार बनने के बाद आजम खान 560 एकड़ भूमि पर जौहर यूनिवर्सिटी का निर्माण कराने में जुटे थे और सारे नियम व कानून ताक पर रख दिए गए थे. इस निर्माण में सरकारी धन का भी दुरुपयोग किया गया है.

आरोप ये भी है कि आजम खान ने यूनिवर्सिटी के निर्माण के लिए अपने विभाग के ठेकेदारों और बिजनेसमैन से करोड़ों रुपये का चंदा लेकर काले धन को सफेद करने का प्रयास किया है. आरोपों के मुताबिक यह चंदा दरअसल रिश्वत की रकम थी. बहुत से लोग ऐसे हैं जिनके नाम से फर्जी रसीदें चंदे के लिए काट दी गई. कई ऐसे हैं जिन्होंने कभी आयकर रिटर्न भी दाखिल नहीं किया, जबकि उनके नाम से जौहर यूनिवर्सिटी में करोड़ों का चंदा दिया गया है.

चंदा देने वालों में 5000 लोग शामिल

जानकारी के मुताबिक, इस तरह का चंदा देने वाले लोगों में रामपुर, मुरादाबाद, अमरोहा आदि के करीब 5000 लोग शामिल हैं. इन सब सबूतों के आधार पर अब मीडिया ने प्रवर्तन निदेशालय आजम खान समेत उनके ट्रस्ट से जुड़े हुए तमाम लोगों से पूछताछ कर सकती है, क्योंकि प्रथम दृष्टया यह मामला मनी लॉन्ड्रिंग का लगता है. इसलिए ईडी यह जानने की कोशिश करेगी कि आखिरकार जौहर यूनिवर्सिटी ट्रस्ट और जौहर यूनिवर्सिटी को बनाने में किस तरह से ब्लैक मनी को व्हाइट करने का काम किया गया.

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने प्रदेश की सरकार और केंद्र पर भी जमकर हमला बोला. इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं उन सभी परिवारों से मिला, जिन्हें प्रशासन द्वारा परेशान किया गया है. उन्होंने कहा कि मैं एक ऐसे बेटे से मिला, जिसे जेल में डाल दिया गया है. उसकी मां ने बताया कि वो अब्दुल्ला आजम खान के साथ देखा जाता है इसलिए उसे निशाना बनाया जा रहा है. परिवार ने बताया कि उन्हें निशाना इसलिए बनाया जा रहा है, क्योंकि वे सपा विचारधारा के हैं.

इतने मुकदमे लगाओ कि कागज खत्म हो जाए

सभा को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि राज्य में बिजली का बिल बढ़ा दिया गया, स्कूल नहीं, कॉलेज नहीं, यूनिवर्सिटी नहीं है. लेकिन इन सब चीजों से ध्यान हटाने के लिए टीवी पर पाकिस्तान दिखाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि रामपुर में एक ही काम हो रहा है और वो है मुकदमा. इतने मुकदमे लगाओ कि कागज खत्म हो जाए.

बकरी चोरी पर कौन करेगा यकीन: अखिलेश यादव

इस दौरान अखिलेश यादव ने कहा कि आजम खां पर बकरी चोरी का मुकदमा दर्ज किया गया है, जिस पर कोई यकीन भी नहीं करेगा. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार आई तो हम भी इसी पर अमल करेंगे और तब भी यही पुलिस और अधिकारी होंगे. उन्होंने कहा कि 1000 शिक्षा मित्रों ने आत्महत्या की. अगर पत्रकार सच चलाने लगे तो मुकदमा दर्ज हो जाएगा. अखिलेश यादव ने कहा कि दुनिया भर में भारत की सबसे ज्यादा बदनामी हुई है. हमारा प्रेस लिखता है या नहीं लेकिन अंतरराष्ट्रीय प्रेस ने लिखा है.

इस मौके पर अखिलेश यादव ने बीजेपी शासित राज्य सरकार और केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा "इनके लिए गाय 'मां' इसलिए है क्योंकि ये वोट चाहते हैं. इनके लिए गंगा 'मां' इसलिए है क्योंकि ये वोट चाहते हैं. उन्होंने हाल की आर्थिक मंदी पर कहा कि रिजर्व मनी निकाल ली गई. बैंकों को विलय किया जा रहा है, क्योंकि उनके पास पैसे नहीं है. उन्होंने कहा कि नौकरी और रोजगार नहीं है. मेक इन इंडिया फर्जी है. कागजी लड़ाई लड़ेंगे, अगर जेल जाना पड़ेगा तो जाएंगे."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें