scorecardresearch
 

सोनिया के गढ़ में चौपाई सुना कांग्रेस पर बरसे PM, कहा- झूठई लेना, झूठई देना, झूठई भोजन, झूठ चबेना

कांग्रेस पर झूठ का कारोबार करने का आरोप लगाते हुए पीएम मोदी ने कहा कि सच्चाई को श्रृंगार की जरूरत नहीं होती और झूठ हमेशा हारेगा, देश कांग्रेस को सेना के प्रति उसके रवैये को लेकर कभी माफ नहीं करेगा. प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि कुछ लोगों को भारत माता की जय बोलने में शर्मिदगी महसूस होती है.

प्रयागराज पर संगम तट पर आरती करते हुए पीएम मोदी.  फोटो-Twitter/pib प्रयागराज पर संगम तट पर आरती करते हुए पीएम मोदी. फोटो-Twitter/pib

तीन विधानसभा चुनावों में बीजेपी की करारी शिकस्त के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को पहली बार दो जनसभाएं संबोधित कीं. पीएम की पहली सभा रायबरेली में थी, तो दूसरी रैली उन्होंने उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में की. प्रधानमंत्री ने कांग्रेस नेता सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली की मॉर्डन रेल फैक्टरी द्वारा निर्मित 900वें कोच और हमसफर रैक को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. वहीं प्रयागराज में पीएम मोदी ने कुंभ आयोजन से जुड़े कार्यों का जायजा लिया एवं लोकापर्ण किया. संगम तट पर वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच पीएम गंगा आरती में शामिल हुए. उन्होंने कुंभ में कंट्रोल एंड कमांड सेन्टर का उद्घाटन भी किया.

सेना को कमजोर करने वालों के साथ कांग्रेस

इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कांग्रेस नेतृत्व पर जमकर बरसे. पीएम ने कांग्रेस पर सेना को कमजोर करने की मंशा रखने वाले लोगों का मदद करने का आरोप लगाया मोदी ने कहा, "आज देश में दो गुट हैं. एक सरकार का, जो हमारी सेना की ताकत बढ़ाने के लिए प्रयासरत है. दूसरा गुट किसी भी कीमत पर हमारी सेना को कमजोर करना चाहता है." उन्होंने कहा, "देश साक्षी है कि कांग्रेस उन ताकतों के साथ खड़ी है जो हमारी सेनाओं को मजबूत नहीं होने देना चाहतीं."

प्रधानमंत्री ने कहा कि 'देश इस तरह के लोगों को देख रहा है, जिन्हें भारत के खिलाफ काम कर रहे देशों से समर्थन मिल रहा है.' उन्होंने कहा, "क्या कारण है कि जब हमारे कुछ नेता बोलते हैं तो पाकिस्तान के लोग तालियां बजाते हैं."

प्रधानमंत्री ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर 'रक्षा मंत्रालय की गरिमा, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, वायु सेना, फ्रांस और सर्वोच्च न्यायालय पर सवाल उठाने को लेकर' कांग्रेस पर निशाना साधा. मोदी ने कहा, "कुछ लोग सिर्फ झूठ स्वीकार करते हैं और झूठ बोलते हैं. उनके लिए देश का रक्षा मंत्रालय, रक्षा मंत्री, वायु सेना अधिकारी झूठे हैं. फ्रांस सरकार भी झूठी है. अब, देश का सर्वोच्च न्यायालय भी उनके लिए झूठा है."

झूठई लेना, झूठई देना, झूठई भोजन, झूठ चबेना

पीएम मोदी ने कहा, "रामचरित मानस में एक चौपाई है, गोस्वामी तुलसीदास जी ने लिखा है कि भगवान राम किसी का व्यक्तित्व समझाते हुए कहते हैं झूठई लेना, झूठई देना, झूठई भोजन, झूठ चबेना. यानि कुछ लोग झूठ ही स्वीकार करते हैं, झूठ ही दूसरो को देते हैं, झूठ का ही भोजन करते हैं और झूठ ही चबाते हैं."

उन्होंने कहा, "लेकिन, सच्चाई को श्रृंगार की जरूरत नहीं होती और झूठ हमेशा हारेगा. देश कांग्रेस को सेना के प्रति उसके रवैये को लेकर कभी माफ नहीं करेगा." प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया, 'कुछ लोगों' को 'भारत माता की जय' बोलने में शर्मिंदगी महसूस होती है. दर्शकों की तालियों के गड़गड़ाहट के बीच उन्होंने कहा, "वे कैसे लोग हैं जो अपने देश की परवाह नहीं करते? मैं जानता हूं कि वे मोदी को अपशब्द कहना चाहते हैं. वे मोदी को भ्रष्टाचार में फंसाना चाहते हैं. लेकिन मैं जानना चाहता हूं कि वे देश के गौरव को दांव पर क्यों लगाना चाहते हैं? राष्ट्र की सुरक्षा को दांव पर क्यों लगाया जा रहा है?"

प्रयागराज से प्रहार

रायबरेली से प्रयागराज पहुंचने के बाद भी कांग्रेस पर पीएम का हमला जारी रहा. अंदावा में चुनावी रैली में पीएम ने कहा कि देश मे सबसे ज्यादा समय तक राज करने वाली पार्टी ने खुद को देश से ऊपर माना, इस पार्टी ने संवैधानिक संस्थाओं को बर्बाद कर दिया. पीएम मोदी ने कहा कि हमारी न्याय प्रणाली को कमज़ोर करने का प्रयास किया गया, क्योंकि न्यायपालिका इस पार्टी के भ्रष्टाचार के खिलाफ खड़ी रही. पीएम ने कहा कि इस बात को प्रयाराज ओर यूपी से बेहतर कौन जान सकता है. पीएम ने इंदिरा गांधी का परोक्ष रूप से जिक्र करते हुए कहा कि जब इसकी पार्टी की सर्वोच्च नेता ने जनमत का अपमान किया था, जब प्रयागराज के हाईकोर्ट ने उनको पार्लियामेंट से बेदखल किया तो उन्होंने देश पर आपातकाल मढ़ दिया.

जजों को डराने धमकाने की कोशिश

नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर देश की कांग्रेस ने जजों को डराने धमकाने की कोशिश की है. मोदी ने कहा, "ये लोग हर संस्था को बर्बाद करने के बाद लोकतंत्र की दुहाई दे रहे हैं, इनसे सावधान और सतर्क रहिए. इन्हें न तो देशवासियों से मतलब है न ही देश से, इन्हें खास मौके पर ही देश की संस्कृति याद आती है.

प्रयागराज में पीएम मोदी ने कुंभ पर्व को भारत और भारतीयता का सबसे बड़ा प्रमाण बताया. उन्होंने कहा, "ये पर्व भाषा, भूषा और भिन्नता को खत्म कर एक होने की प्रेरणा देता है. ये पर्व हमें जोड़ता है, ये पर्व गांव और शहर को एक करता है, एक भारत-श्रेष्ठ भारत की सही तस्वीर यहां दिखती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×