scorecardresearch
 

गृहमंत्री देशमुख ने वाजे को हर महीने 100 करोड़ वसूली का दिया था टारगेट, CM उद्धव को लिखे खत में पूर्व पुलिस कमिश्नर का आरोप

चिट्ठी में महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर आरोप लगाते हुए कहा गया कि उन्होंने सचिन वाजे से 100 करोड़ रुपये हर महीने कलेक्ट करने को कहा था. वहीं, इस मसले पर देशमुख ने ट्वीट कर कहा कि परमबीर सिंह ने खुद को कानूनी कार्रवाई से बचाने के लिए ऐसे आरोप लगाए हैं.  

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह
स्टोरी हाइलाइट्स
  • परमबीर सिंह ने सीएम उद्धव ठाकरे को लिखी चिट्ठी
  • चिट्ठी में सचिन वाजे का जिक्र
  • महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर लगाए आरोप

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने सीएम उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखी. इस चिट्ठी में एंटीलिया केस में फंसे सचिन वाजे का जिक्र है. चिट्ठी में महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर आरोप लगाते हुए कहा गया कि उन्होंने सचिन वाजे से 100 करोड़ रुपये हर महीने कलेक्ट करने को कहा था. वहीं, इस मसले पर अनिल देशमुख ने ट्वीट कर कहा कि परमबीर सिंह ने खुद को कानूनी कार्रवाई से बचाने के लिए ऐसे आरोप लगाए हैं.  

बता दें कि परमबीर सिंह को हाल ही में मुंबई के पुलिस कमिश्नर पद से हटाया गया था. इसके बाद आज (शनिवार) उन्होंने सीएम उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी लिखी. जिसमें अनिल देशमुख पर बड़ा आरोप लगाया गया. परमबीर सिंह ने चिट्ठी में लिखा कि सचिन वाजे ने मुझे बताया था कि अनिल देशमुख ने उससे हर महीने 100 करोड़ रुपये कलेक्ट करने को कहा था.

परमबीर सिंह की चिट्ठी

परमबीर सिंह ने चिट्ठी में लिखा कि मुंबई पुलिस की अपराध शाखा के क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट के हेड सचिन वाजे को महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने पिछले कुछ महीनों में कई बार अपने सरकारी आवास ज्ञानेश्वर में बुलाया. यहां बार-बार सचिन वाजे को रुपये कलेक्ट करने का निर्देश दिया.

फरवरी के मध्य और उसके बाद गृह मंत्री ने वाजे को अपने सरकारी आवास पर बुलाया था. उस समय गृह मंत्री के एक-दो कर्मचारी, जिनमें उनके निजी सचिव भी शामिल थे, वहां मौजूद थे. गृह मंत्री ने वहां वाजे को कहा कि उनके पास हर महीने 100 करोड़ रुपये जमा करने का टारगेट है. 

गृह मंत्री ने वाजे को बताया कि मुंबई में लगभग 1750 बार, रेस्तरां और अन्य प्रतिष्ठान हैं. यदि प्रत्येक से 2-3 लाख रुपये कलेक्ट किए जाएं तो हर महीने 40-50 करोड़ मिल जाएंगे. बाकी का कलेक्शन अन्य माध्यमों से किया जा सकता है.

अनिल देशमुख का बयान 

उधर, इस मसले पर अनिल देशमुख का कहना है कि परमबीर सिंह ने खुद को बचाने के साथ-साथ आगे की कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए यह झूठा आरोप लगाया है. जबकि मुकेश अंबानी मामले के साथ-साथ मनसुख हिरेन हत्याकांड में भी सचिन वाजे की संलिप्तता स्पष्ट हो रही है और जांच तत्कालीन पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह तक पहुंचने की संभावना है. 

बीजेपी ने साधा निशाना 

वहीं, इस मामले में बीजेपी नेता किरीट सोमैया का बयान आया है. उन्होंने कहा कि मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर ने कहा है कि मुंबई में जबरन वसूली चल रही थी और सचिन वाजे गृह मंत्री के एजेंट थे. बियर बार से लेकर अन्य जगहों से पैसे वसूले जा रहे थे. अनिल देशमुख को अब हटा देना जाना चाहिए. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें