scorecardresearch
 

गुजरात में AAP का हिंदुत्व कार्ड, मंदिरों में पूजा के साथ करेगी परिवर्तन यात्रा की शुरुआत

गुजरात में विधानसभा चुनाव से पहले AAP ने 15 मई से परिवर्तन यात्रा निकालने का प्लान बनाया है. AAP परिवर्तन यात्रा की शुरुआत मंदिरों में दर्शन-पूजन के साथ करेगी.

X
AAP की गुजरात ईकाई ने कहा कि परिवर्तन यात्रा के जरिए हम भाजपा सरकार की नाकामियां सामने लाएंगे. AAP की गुजरात ईकाई ने कहा कि परिवर्तन यात्रा के जरिए हम भाजपा सरकार की नाकामियां सामने लाएंगे.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • AAP की गुजरात में परिवर्तन यात्रा 15 मई से
  • सभी 182 विधानसभा सीटों को कवर करेगी यात्रा

पंजाब विधानसभा चुनाव में बंपर जीत मिलने के बाद आम आदमी पार्टी में जबरदस्त उत्साह देखा जा रहा है. AAP संयोजक अरविंद केजरीवाल ने गुजरात विधानसभा चुनाव पर फोकस कर लिया है. वे महीनेभर में तीन बार गुजरात दौरा कर चुके हैं. अब AAP ने 15 मई से गुजरात में परिवर्तन यात्रा निकालने का प्लान बनाया है. AAP बीजेपी को टक्कर देने के लिए हिंदुत्व कार्ड भी खेलते देखी जा रही है. यही वजह है कि AAP परिवर्तन यात्रा की शुरुआत मंदिरों में दर्शन-पूजन के साथ करेगी.

ऐसे में चर्चाएं तेज हो गई हैं कि क्या गुजरात में आम आदमी पार्टी भी हिंदुत्व के सहारे जीत का ताना-बाना बुन रही है. दरअसल, ये इसलिए कहा जा रहा है कि क्योंकि आम आदमी पार्टी सभी 182 विधानसभा क्षेत्र में परिवर्तन यात्रा लेकर जाएगी. ये यात्रा ज्यादातर बड़े गांव और कस्बों में पहुंचेगी. इस यात्रा में आम आदमी पार्टी कार्यकर्ता नुक्कड़ नाटक, प्रभात फेरी, शाम को मशाल यात्रा जैसी थीम पर चुनाव प्रचार करेंगे.

यात्रा में आम आदमी पार्टी लोगों से चर्चा करेगी. 27 साल के बीजेपी शासन में ऐसे कौन-कौन से मुद्दे रहे हैं, जिसे लेकर बीजेपी ने काम नहीं किया है. ये भी जानेगी और जनमत संग्रह के लिए लोगों से परिवर्तन फॉर्म भरवाएगी. आम आदमी पार्टी का मानना है कि 20 दिनों की यात्रा में 10 लाख लोग हमसे जुड़ेंगे और वो अपने विचार रखेंगे. 

आम आदमी पार्टी 182 विधानसभा सीट पर रिस्पॉन्स लेने काम भी करेगी. कितने लोग पार्टी के साथ जुड़ रहे हैं और लोगों का रिस्पॉन्स कैसा है- ये भी देखा जाएगा. इस यात्रा की शुरुआत आम आदमी पार्टी 6 अलग-अलग टीम के जरिए गुजरात के अलग अलग शहरों से करेगी.

इस दौरान सोमनाथ से गोपाल इटालिया, द्वारिका से इसुदान गढ़वी, दांडी से मनोज सोरठीया और कच्छ से कैलाश गढ़वी यात्रा की शुरुआत करवाएंगे. दिलचस्प बात ये है कि गोपाल इटालिया सोमनाथ मंदिर में दर्शन करेंगे, जबकि इसुदान गढ़वी द्वारिकाधीश के दर्शन के साथ इस यात्रा की शुरुआत करेंगे. 

जब गोपाल इटालिया से पूछा गया कि मंदिर से यात्रा शुरू कर रहे हैं, इसके पीछे AAP हिंदू वोटर को कोई बड़ा संदेश देने जा रही है क्या? इस पर उन्होंने कहा कि जब किसी शुभ काम की शुरुआत की जाती है तो वो भगवान के दर्शन के साथ या पूजा के साथ ही की जाती है. इसी तरह इस यात्रा की भी शुरुआत होगी.

गौरतलब है कि गुजरात चुनाव में आम आदमी पार्टी ने छोटू भाई वसावा की पार्टी BTP के साथ गठबंधन किया है. छोटू भाई का आदिवासी समाज में खासा प्रभाव माना जाता है. इसके साथ ही केजरीवाल लगातार आदिवासी समाज को साधने में लगे हैं. 

बता दें कि इसी साल के अंत में गुजरात में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं. गुजरात में 27 साल से बीजेपी की सरकार है. यहां मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस है. बीजेपी लगातार छठवीं बार सरकार में आने के लिए ताकत लगा रही है. हालांकि, 2017 के चुनाव में बीजेपी को बड़ा नुकसान हुआ था. पिछले चुनाव में बीजेपी की 100 से कम सीटें हो गई थीं. पिछले साल ही बीजेपी ने गुजरात में मुख्यमंत्री समेत पूरा मंत्रिमंडल बदल दिया था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें