scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: क्या चुनाव से पहले उत्तराखंड सरकार की इस मंत्री ने कर दी बगावत? तस्वीर से हुई है छेड़छाड़

उत्तराखंड सरकार में कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य और और उनके विधायक बेटे संजीव आर्य ने बीजेपी का दामन छोड़कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया है. इसी के मद्देनजर सोशल मीडिया पर एक तस्वीर के जरिए दावा किया जा रहा है कि उत्तराखंड की बीजेपी सरकार में मंत्री रेखा आर्य अपनी पार्टी के खिलाफ चली गई हैं.

सोशल मीडिया में वायरल फोटो की सच्चाई क्या  सोशल मीडिया में वायरल फोटो की सच्चाई क्या

अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले पहाड़ी राज्य उत्तराखंड में बीजेपी को बड़ा झटका लगा है. उत्तराखंड सरकार में कैबिनेट मंत्री यशपाल आर्य और और उनके विधायक बेटे संजीव आर्य ने बीजेपी का दामन छोड़कर कांग्रेस का हाथ थाम लिया है. इसी के मद्देनजर सोशल मीडिया पर एक तस्वीर के जरिए दावा किया जा रहा है कि उत्तराखंड की बीजेपी सरकार में मंत्री रेखा आर्य अपनी पार्टी के खिलाफ चली गई हैं.

वायरल हो रही इस तस्वीर में रेखा आर्य को दीवार पर एक पेंटिंग करते हुए देखा जा सकता है जिस पर लिखा है, "हमारी भूल..... कमल का फूल". रेखा आर्य उत्तराखंड सरकार में महिला बाल विकास मंत्री हैं और सोमेश्वर सीट से विधायक हैं.

इस तस्वीर को पोस्ट करते हुए यूजर्स लिख रहे हैं, "भाजपा सरकार की बाल विकास मंत्री रेखा आर्य जी। देर आये दुरुस्त आए।". फेसबुक पर ये पोस्ट और भी कई लोगों ने साझा की है.

इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज़ वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि यह तस्वीर फर्जी है. असली तस्वीर में जिस दीवार पर रेखा आर्य पेंटिंग कर रही हैं उस पर "अबकी बार 60 पार" लिखा है. यानी कि बीजेपी ने इस बार उत्तराखंड में 70 में से 60 से ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है.

तस्वीर की सच्चाई जानने के लिए हमने रेखा आर्य के सोशल मीडिया अकाउंट्स को खंगाला. सामने आया कि रेखा आर्य ने असली तस्वीर फेसबुक पर 10 अक्टूबर को साझा की थी. मूल तस्वीर देखने पर ये साफ हो जाता है कि वायरल फोटो के साथ छेड़छाड़ की गई है. "अब की बार 60 पार" का नारा हटाकर "हमारी भूल कमल का फूल" जोड़ दिया गया है.

रेखा आर्य ने असली तस्वीरें शेयर करते हुए लिखा था कि उन्होंने उत्तराखंड बीजेपी के बूथ स्तर पर चलाए जा रहे दीवार लेखन कार्यक्रम अभियान में भाग लिया. विधानसभा चुनाव को देखते हुए बीजेपी ने उत्तराखंड में दीवार लेखन नाम का ये कार्यक्रम प्रारंभ किया है. खबरों के अनुसार, ये कार्यक्रम 7 अक्टूबर से 16 अक्टूबर तक चलेगा जिसमें बीजेपी के लोग प्रत्येक बूथ में कम से कम 5 दीवारों पर लिखकर पार्टी का प्रचार करेंगे.

फेसबुक पर उत्तराखंड बीजेपी के कुछ कार्यकर्ताओं ने भी रेखा आर्य के इस कार्यक्रम की तस्वीरें साझा की थीं. कृष्णा भुवलका नाम की एक यूजर ने लिखा था कि रेखा आर्य पीपल मंडी चौक पर दीवार लेखन अभियान में शामिल हुईं. पीपल मंडी चौक देहरादून में स्थित है.

यहां साबित हो जाता है कि रेखा आर्य की वायरल हो रही इस तस्वीर को एडिटिंग सॉफ्टवेयर की मदद से बनाया गया है. असली तस्वीर में दिख रहा स्लोगन बीजेपी के खिलाफ नहीं बल्कि समर्थन में है.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

उत्तराखंड की बीजेपी सरकार में मंत्री रेखा आर्य ने अपनी पार्टी के खिलाफ बगावत करते हुए एक दीवार पर लिखा "हमारी भूल..... कमल का फूल".

निष्कर्ष

यह तस्वीर फर्जी है. असली तस्वीर में जिस दीवार पर रेखा आर्य पेंटिंग कर रही हैं उस पर "अबकी बार 60 पार" लिखा है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें