scorecardresearch
 

चिराग का पार्टी नेताओं को इमोशनल लेटर- पापा को ICU में छोड़ पटना नहीं आ सकता

चिराग पासवान ने कहा कि बिहार के विकास को दिशा देने के लिए जरूरी है कि लोक जनशक्ति पार्टी जनता के समक्ष अपने विकास के रोड मैप को रखे. जिससे बिहार की जनता यह समझ सके कि जब एलजेपी समर्थित सरकार आएगी तो हमारी विकास की योजना क्या होंगी.

एलजेपी के प्रमुख चिराग पासवान ने लिखा पत्र (फोटो-इंडिया टुडे) एलजेपी के प्रमुख चिराग पासवान ने लिखा पत्र (फोटो-इंडिया टुडे)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • टिकट के इच्छुक कार्यकर्ताओं को लिखा पत्र
  • पिता की तबीयत खराब होने का किया जिक्र
  • गठबंधन में सीट बंटवारे की बात लिखी पत्र में

आगामी बिहार विधानसभा चुनाव के मद्देनजर टिकट पाने के लिए सभी सियासी दलों के उम्मीदवार दांवपेच लगा रहे हैं. वहीं लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के प्रमुख चिराग पासवान ने इस मसले पर पार्टी प्रत्याशियों के लिए खुला पत्र लिखा है. चिराग पासवान ने यह पत्र उन नेताओं और कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए लिखा है जो बिहार विधानसभा चुनाव के मैदान में उतरना चाहते हैं.

चिराग पासवान ने लिखा कि अभी तक बिहार में गठबंधन के साथियों से सीटों के बंटवारे या तालमेल को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है. बिहार संसदीय बोर्ड और सभी सांसदों के साथ हुई बैठक में भी मैंने ये बात बताई थी. मौजूदा सरकार सात निश्चिय कार्यक्रमों पर काम कर रही है जो 2015 में महागठबंधन (राजद, कांग्रेस और जदयू) द्वारा बनाया गया था. 

चिराग पासवान ने कहा कि बिहार के विकास को दिशा देने के लिए जरूरी है कि लोक जनशक्ति पार्टी जनता के समक्ष अपने विकास के रोड मैप को रखे. जिससे बिहार की जनता यह समझ सके कि जब एलजेपी समर्थित सरकार आएगी तो हमारी विकास की योजना क्या होंगी.

चिराग पासवान ने पत्र में पिता रामविलास पासवान की तबीयत का भी जिक्र है. चिराग पासवान ने भावुक होते हुए लिखा, 'मैं बता चुका हूं कि पापा (राम विलास पासवान) को रूटीन हेल्थचेक अप के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है. कोरोना काल में लोगों को राशन की दिक्कत न हो, इसलिए पापा रूटीन हेल्थ चेकअप को टालते रहे. लिहाजा वह थोड़े अस्वस्थ हो गए हैं. पिछले तीन सप्ताह से दिल्ली के अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है. उम्मीद है जल्द ही वह स्वस्थ होकर हम लोगों के बीच लौटेंगे.' 

चिराग पासवान ने लिखा, 'एक बेटे के तौर पर पापा को अस्पताल में देखकर बेहद विचलित हो जाता हूं. पापा ने कई बार मुझे पटना जाने का सुझाव दिया. लेकिन बेटा होने के नाते पापा को ICU में छोड़कर मेरे लिए कहीं जाना संभव नहीं है. आज जब उन्हें मेरी जरूरत है तो उनके साथ रहना चाहिए, वरना आप सबका राष्ट्रीय अध्यक्ष अपने आप को कभी माफ नहीं कर पाएगा.'

चिराग पासवान ने कहा कि पार्टी का राष्ट्रीय अध्य़क्ष होने के नाते उन साथियों की भी चिंता है जिन्होंने अपने जीवन को 'बिहार फर्स्ट', 'बिहारी फर्स्ट' के लिए समर्पित कर दिया. 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें