scorecardresearch
 
यूटिलिटी

'Omicron' से डर के बीच राहत, मोदी सरकार के लिए 2 दिन में आईं ये 5 अच्छी खबरें

कोरोना के नए वैरिएंट से लोग दहशत में
  • 1/8

भले ही कोरोना के नए वैरिएंट (Omicron variant) को लेकर लोग सकते में हैं. सरकार भी तैयारियों में जुट गई हैं, खासकर अर्थव्यवस्था की गाड़ी पटरी से न उतरे, इसको लेकर कदम उठाए जा रहे हैं. क्योंकि कोरोना संकट (covid-19) की वजह से बीते दिनों इकोनॉमी (Economy) को तगड़ा लगा है. लेकिन अब स्थिति में तेजी से सुधार के संकेत मिल रहे हैं. खासकर GDP, GST और औद्योगिक गतिविधियां सामान्य होती नजर आ रही हैं. हफ्ते भर के अंदर अर्थव्यवस्था (Economics) के मोर्चे पर 5 अच्छी खबरें आई हैं. (Photo: File)

GDP में शानदार ग्रोथ
  • 2/8

GDP में शानदार ग्रोथ: GDP किसी भी देश की आर्थिक सेहत को मापने का सबसे सटीक पैमाना है. मोदी सरकार के लिए कोरोना संकट के बीच लगातार दूसरी तिमाही में GDP के मोर्चे पर अच्छी खबर आई है. राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) के मुताबिक चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 8.4 फीसदी जीडीपी ग्रोथ रेट रही है. जबकि पिछले साल दूसरी तिमाही में जीडीपी में 7.5 फीसदी की गिरावट आई थी.

GDP के मोर्चे पर अच्छी खबर 
  • 3/8

GDP के मोर्चे पर अच्छी खबर 
दरअसल, पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की ग्रोथ रेट रिकॉर्ड 20.1 फीसदी रही थी. जीडीपी में तेज रिकवरी से इकोनॉमी की गाड़ी पटरी पर लौटने के संकेत मिल रहे हैं.
 

GST collection November
  • 4/8

GST collection November: आर्थिक मोर्चे पर मोदी सरकार के लिए दूसरी अच्छी खबर जीएसटी कलेक्शन (GST collection) के मोर्चे से आई है. नवंबर में GST कलेक्शन 1,31,526 करोड़ रुपये रहा. सालाना आधार पर नवंबर महीने में GST कलेक्शन में 25 फीसदी का इजाफा हुआ है. इससे पहले चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के दौरान जीडीपी में शानदार 8.4 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की गई. 

GST कलेक्शन में लगातार सुधार
  • 5/8

देश में GST लागू होने के बाद लगातार दो महीने अक्टूबर के बाद नवंबर में जीएसटी कलेक्शन 1.30 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा हुआ है. अक्टूबर-2021 में जीएसटी कलेक्शन (GST Collection October) 1,30,127 करोड़ रुपये रहा था. जीएसटी के इतिहास में सबसे ज्यादा अप्रैल-2021 में रिकॉर्ड 1.41 लाख करोड़ रुपये जीएसटी कलेक्शन हुआ था.  

आठ कोर सेक्टर की ग्रोथ में तेजी
  • 6/8

आठ कोर सेक्टर की ग्रोथ में तेजी
देश के कोर सेक्टर इंडस्ट्रीज (Eight core sector industries) से भी अच्छी खबर है. कोयला, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पाद और सीमेंट क्षेत्र के अच्छे प्रदर्शन की मदद से आठ ढांचागत क्षेत्रों का उत्पादन अक्टूबर में 7.5 फीसद बढ़ गया. 30 नवंबर को जारी सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, सितंबर 2021 में तिमाही-दर-तिमाही आधार पर 8 कोर सेक्टर की ग्रोथ 4.4% थी. 8 अहम कोर सेक्टर का इंडेक्स अक्टूबर 2021 में 136.2 रहा जो अक्टूबर 2020 के मुकाबले 7.5% ज्यादा है. IIP में 8 कोर इंडस्ट्रीज की हिस्सेदारी 40.27% है. अक्टूबर में सबसे ज्यादा ग्रोथ नेचुरल गैस प्रोडक्शन में देखी गई है. 

बेरोजगारी के मोर्चे पर राहत
  • 7/8

बेरोजगारी के मोर्चे पर राहत: तिमाही दर तिमाही के आधार पर बेरोजगारी दर में थोड़ी राहत मिली है. सरकारी सर्वे के आंकड़ों के अनुसार, मार्च 2021 तिमाही में शहरी क्षेत्रों में बेरोजगारी दर (Unemployment Rate In Urban Area) 9.3 फीसदी रही, जबकि इसस पहले दिसंबर 2020 तिमाही में यह 10.3 फीसदी पर थी. हालांकि सालाना आधार पर शहरी बेरोजगारी बढ़ी है. साल भर पहले यानी मार्च 2020 तिमाही में इसकी दर 9.1 फीसदी थी. 
 

PMI के आंकड़ों में सुधार
  • 8/8

PMI के आंकड़ों में सुधार: भारत की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) फिर से मजबूती के साथ आगे बढ़ने लगी है. मैन्युफैक्चरिंग के ताजा पीएमआई (PMI) आंकड़ों से इस बात के साफ संकेत मिलते हैं. नवंबर महीने में विनिर्माण सेक्टर का पीएमआई (Manufacturing PMI) 57.6 पर पहुंच गया है, जो पिछले 10 महीने का सबसे ऊंचा स्तर है. इससे पहले अक्टूबर में विनर्माण का पीएमआई 55.9 रहा था. आईएचएस मार्किट (IHS Markit) ने बुधवार को जारी पीएमआई रिपोर्ट (November PMI Report) में बताया गाय कि नवंबर महीने में फरवरी के बाद उत्पादन (Production) और बिक्री (Sale) दोनों में सबसे मजबूत तेजी आई है.