scorecardresearch
 

जानिए, चीन कैसे दुनियाभर में सोशल मीडिया को कर रहा है स्पैम

न्यूयॉर्क स्थित एक खुफिया फर्म ग्राफिका ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि चीनी प्रतिष्ठान के लिए जो मुद्दे संवेदनशील हैं, उनको लेकर बीजिंग दुनियाभर में लोगों की राय प्रभावित करने के लिए यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर का इस्तेमाल कर रहा हो सकता है.

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Courtesy- PTI) चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Courtesy- PTI)

  • कोरोना-हॉन्गकॉन्ग को लेकर दुनिया का दबाव बढ़ने के बाद चीन ने छेड़ा डिजिटल युद्ध
  • न्यूयॉर्क की खुफिया फर्म ग्राफिका ने एक रिपोर्ट में किया चीन के प्रोपेगेंडा का खुलासा

कोरोना वायरस महामारी को हैंडल करने के तरीके और हॉन्गकॉन्ग में लोकतंत्र समर्थक आंदोलन को लेकर चीन पर दुनियाभर का दबाव बढ़ रहा है. इस स्थिति से परेशान चीनी सत्ता प्रतिष्ठान ने डिजिटल युद्ध छेड़ दिया है यानी समन्वित प्रोपेगेंडा फैलाने के लिए बड़ा क्रॉस-प्लेटफॉर्म नेटवर्क.

न्यूयॉर्क स्थित एक खुफिया फर्म ग्राफिका ने हाल ही में एक रिपोर्ट प्रकाशित की है. इसमें कहा गया है कि चीनी प्रतिष्ठान के लिए जो मुद्दे संवेदनशील हैं, उनको लेकर बीजिंग दुनियाभर में लोगों की राय प्रभावित करने के लिए यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर का इस्तेमाल कर रहा हो सकता है.

capture_052920093141.jpg

स्पैमोउफ्लाज ड्रैगन के शीर्षक के साथ ग्राफिका रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन ने बांग्लादेश से हैक किए गए अकाउंट्स को संपत्ति की तरह इंस्तेमाल किया. इसका अनुमोदन गूगल के थ्रेट एनालिसिस ग्रुप (TAG) ने भी किया.

मुख्य जमीन पर काम कर रहे सोशल-मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर अब ऐसे झूठे संदेशों की बाढ़ आ गई है कि भारतीय सैनिक चीनी क्षेत्र में घुसपैठ कर रहे हैं.

1a-x513_052920093258.webp

1_18-x426_052920093321.webp

2a_0-x367_052920093407.webp

2_15-x351_052920093431.webp

3a_0-x333_052920093452.webp

3_9-x468_052920093517.webp

4a_1_-x410_052920093557.webp

सोशल-मीडिया प्लेटफार्म्स पर भ्रामक चीनी प्रोपेगेंडा

1962 युद्ध के वीडियो क्लिप भी स्पष्ट रूप से चीन में राष्ट्रवादी भावनाओं को भड़काने के लिए प्रसारित किए जा रहे हैं.

इस हफ्ते के शुरू में, TAG ने पुष्टि की कि उसने 1,000 यूट्यूब चैनल हटा दिए हैं. समझा जाता है कि वो एक परिष्कृत प्रोपेगेंडा का हिस्सा थे, जो कि मार्च से चीन के स्टेट एक्टर्स की ओर से चलाया जा रहा था.

आपको बता दें कि चीन में गूगल और फेसबुक पर प्रतिबंध जारी है. चीन से संबंधित प्लेटफार्म्स जैसे कि TikTok का देश में सेंसर किया संस्करण ही चलता है. लेकिन भारत और शेष लोकतांत्रिक दुनिया में इसी प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल दुष्प्रचार के पसंदीदा माध्यम के तौर पर किया जाता है.

हाल ही में भारत सरकार ने TikTok को अपने कंटेंट को मॉडरेट करने के लिए कहा था. ये कदम ऐसी रिपोर्ट्स के बाद उठाया गया था कि प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल को कोरोना वायरस को लेकर गलत सूचनाएं फैलाने के लिए किया जा रहा है.

चीन संभवत: हांगकांग में पुलिस हिंसा को लेकर भी एक अलग इंटरनेशनल प्रोपेगेंडा नेटवर्क का इस्तेमाल कर रहा है.

चीन से जुड़े एक कैम्पेन में हाल में अन्य देशों की पुलिस की तस्वीरों को फोटोशॉप किया गया था. जिससे झूठा संदेश फैलाया जा सके कि वो हॉन्गकॉन्ग में चीनी कार्रवाइयों का समर्थन करते हैं.

न्यूज रिपोर्ट्स के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया जैसे देश ऐसे सोशल-मीडिया प्रोपेगेंडा की जांच कर रहे हैं, जिसमें झूठा दिखाया गया था कि उनकी पुलिस ने पिछले साल हॉन्गकॉन्ग में प्रदर्शनों के दौरान इस्तेमाल किए गए बल का समर्थन किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें