scorecardresearch
 

यूरोप में फिर बजी खतरे की घंटी, कोरोना वायरस को लेकर संपूर्ण लॉकडाउन लगाने की तैयारी में ऑस्ट्रिया

कोरोना वायरस के मामले एक बार फिर पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ रहे हैं. इसी बीच, संक्रमण की नई लहर से निपटने के लिए ऑस्ट्रिया एक बार फिर संपूर्ण लॉकडाउन की तैयारी कर रहा है. ऐसा करके ऑस्ट्रिया, दोबारा पूर्ण लॉकडाउन लागू करने वाला पश्चिमी यूरोप का पहला देश बन जाएगा.

ऑस्ट्रिया, दोबारा पूर्ण लॉकडाउन लागू करने वाला पश्चिमी यूरोप का पहला देश ऑस्ट्रिया, दोबारा पूर्ण लॉकडाउन लागू करने वाला पश्चिमी यूरोप का पहला देश
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दोबारा पूर्ण लॉकडाउन लागू करने वाला पश्चिमी यूरोप का पहला देश होगा ऑस्ट्रिया
  • 20 दिनों के लिए लगाया जाएगा लॉकडाउन
  • जर्मनी में भी आपातकाल जैसे हालात

कोरोना वायरस (coronavirus) के मामले एक बार फिर पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ रहे हैं. इसी बीच, संक्रमण की नई लहर से निपटने के लिए ऑस्ट्रिया (Austria) एक बार फिर संपूर्ण लॉकडाउन की तैयारी कर रहा है. ऐसा करके ऑस्ट्रिया, दोबारा पूर्ण लॉकडाउन लागू करने वाला पश्चिमी यूरोप का पहला देश बन जाएगा. इस लहर से बचने के लिए फरवरी तक ऑस्ट्रिया की पूरी आबादी को वैक्सीनेशन की ज़रूरत होगी.

ऑस्ट्रिया में सोमवार उन लोगों के लिए लॉकडाउन की शुरुआत की थी, जिनका पूरी तरह से टीकाकरण नहीं हुआ है. लेकिन तब से संक्रमण तेजी से फैल रहा है और नए रिकॉर्ड बनाना जारी है. महाद्वीप पर ऑस्ट्रिया सबसे ज़्यादा संक्रमित है, यहां पिछले सात दिनों में प्रति 1 लाख लोगों पर 991 मामले सामने आए हैं. 

ऑस्ट्रिया में 20 दिन तक रहेगा संपूर्ण लॉकडाउन

ऑस्ट्रिया के चांसलर अलेक्जेंडर शैलेनबर्ग ने एक कॉन्फ्रेंस में कहा कि हम लोगों को टीकाकरण के लिए मनाने में असफल रहे हैं. उन्होंने घोषणा की कि सोमवार से लॉकडाउन शुरू होगा और 20 दिनों तक चलेगा. उन्होंने कहा कि बचाव के लिए टीकाकरण 1 फरवरी से शुरू होगा.

उन्होंने यह भी कहा- "यह दुख की बात है कि लॉकडाउन जैसे उपाय अभी भी किए जाने हैं. हम में से बहुत से लोगों ने कोरोना को लेकर एकजुटता नहीं दिखाई. मैं आप सभी से मदद के लिए कहता हूं. इन उपायों का समर्थन करें, 20 दिनों के लिए सोशल डिस्टेंस बनाएं रखें, ताकि क्रिसमस की छुट्टियां सुरक्षित रह सकें."

ऑस्ट्रिया की करीब दो-तिहाई आबादी पूरी तरह से वैक्सीनेटेड है. यह पश्चिमी यूरोप में वैक्सीनेशन की सबसे कम दरों में से एक है. क्योंकि यहां के ज़्यादातर लोगों को वैक्सीन के बारे में संशय है. उधर नीदरलैंड में भी इस वक्त आंशिक लॉकडाउन लगा हुआ है. यहां बार और रेस्त्रां रात 8 बजे बंद हो रहे हैं.

जर्मनी भी आपातकाल जैसे हालात

उधर जर्मनी से भी कोरोना को लेकर अच्छी खबर नहीं है. यहां की रोग नियंत्रण एजेंसी के प्रमुख ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण देश 'आपातकाल' की स्थिति में प्रवेश कर गया है. हमें यहां इमरजेंसी ब्रेक लगाने की ज़रूरत है.

रॉबर्ट कोच इंस्टीट्यूट के प्रमुख लोथर वीलर का कहना है कि देश के कुछ हिस्सों में अब नियमित चिकित्सा देखभाल की गारंटी नहीं दी जा सकती क्योंकि यहां अस्पताल और गहन देखभाल वाले वार्ड भर चुके हैं. 

विलर की ये चेतावनी उस समय दी जब जर्मनी की सरकार देश भर में नए प्रतिबंध लागू करने पर विचार कर रही है. इसके तहत उन लोगों के लिए पूरी तरह लॉकडाउन लागू दिया जाएगा, जिन्होंने टीका नहीं लगवाया है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें