scorecardresearch
 

नोटबंदी

नोटबंदी

नोटबंदी

विमुद्रीकरण (नोटबंदी, Demonetisation)

विमुद्रीकरण (नोटबंदी) (Demonetisation) को मुद्रा इकाइयों की ‘लीगल टेंडर स्टेटस’ अथवा कानूनी निविदा स्थिति को हटाने के कार्य के रूप में परिभाषित किया गया है. यह तब हो सकता है जब राष्ट्रीय मुद्रा बदली जाती है. यदि इसे आचानक और बिना किसी चेतावनी के लागू किया जाए तो यह किसी देश की अर्थव्यवस्था को प्रभावित कर सकता है, ऐसा इसलिए है क्योंकि यह आर्थिक लेनदेन में एक्सचेंज मिडियम को सीधे प्रभावित करता है (What is Demonetisation?).

दुनिया भर के अधिकांश देशों ने किसी न किसी समय विमुद्रीकरण का उपयोग किया है और यह मुद्रास्फीति (इनफ्लेशन) (inflation) जैसी स्थितियों को नियंत्रित करने और अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है. भारत सरकार ने नवंबर 2016 में जालसाजी और मनी लॉन्ड्रिंग (Money laundering) को रोकने के लिए 1000 और 500... और पढ़ें

नोटबंदी न्यूज़