scorecardresearch
 

लॉकडाउन में परेशान पतियों को कवि सुरेंद्र शर्मा की सलाह, सपने में भी रहें अलर्ट

e-साहित्य आजतक में बातचीत के दौरान हास्य कवि सुरेंद्र शर्मा ने ये तो बताया ही कि इस लॉकडाउन टाइम में उनकी घर-गृहस्ती कैसी चल रही है. साथ ही उन्होंने दुनियाभर के तमाम पतियों को सलाह भी दी.

हास्य कवि सुरेंद्र शर्मा हास्य कवि सुरेंद्र शर्मा

हास्य कवि सुरेंद्र शर्मा लॉकडाउन की वजह से अपने घर में हैं. अपनी कॉमेडी से सभी को हंसा-हंसाकर लोटपोट करने वाले दिग्गज हास्य कवि सुरेन्द्र शर्मा e-साहित्य के खास कार्यक्रम का हिस्सा बने. इस दौरान वे मॉडरेटर सईद अंसारी से मुखातिब हुए. ऐसे में सुरेंद्र ने ये तो बताया ही कि इस लॉकडाउन टाइम में उनकी घर-गृहस्ती कैसी चल रही है, साथ ही उन्होंने दुनियाभर के तमाम पतियों को सलाह भी दी. सुरेंद्र ने कहा कि घर में रह कर एक आदमी का जो हाल हो सकता है वही मेरा है. लॉकडाउन पर रहने के अलावा और विकल्प ही क्या है.

उनसे पूछा गया कि घर में पत्नी कैसे तंग कर रही हैं. सुरेंद्र ने सहज भाव से इसका जवाब देते हुए कहा कि पत्नी कैसे तंग करेंगी. जो काम वो कहती हैं मैं कर देता हूं. मुझसे सब्जी बनाने के लिए कहा मैंने 2 लाल मिर्च डाल दी. अब ऐसे में कोई क्या मुझसे काम करा पाएगा. पतियों को सलाह दी कि ये बुरा वक्त चल रहा है. सपने में भी रात को सतर्क रहें. होशियार रहें. उन्होंने एक उदाहरण के साथ अपनी बात को और विस्तार से समझाया.

e Sahitya Aajtak: 50 साल से योग कर रहा, खांसी-जुकाम-बुखार मुझे होता नहीं, बोले अनूप जलोटा

कभी हंसी के फुहारें कभी गंभीर बात, साहित्य आज तक पर छाया कवि सुरेंद्र शर्मा का अंदाज

एक आदमी रूबी रूबी सपने में चिल्ला रहा था. पत्नी ने बोला कि ये रूबी रूबी क्या है. शख्स पहले तो घबराया फिर उसने कहा कि ये घोड़ी का नाम है. दरअसल वो सपने में एक रेस कोर्स में बैठा हुआ था. उसकी घोड़ी रूबी पीछे रह गई थी. तो उसे चीयर करने के लिए रूबी रूबी चिल्ला रहा था. पत्नी सीधी थी उसकी बात मान गई और फिलहाल के लिए मामला खत्म हो गया. अगले दिन जब पति घर आया तो पत्नी से पूछा कि क्या समाचार है. पत्नी ने कहा कि ऐसे तो कोई समाचार नहीं. मगर तेरी घोड़ी का तीन बार फोन आया था. बात कर लियो उससे.

कोरोना वॉरियर्स को सुरेंद्र शर्मा का सलाम

आगे सुरेंद्र जी ने कहा कि सलाह नहीं दूंगा. मेरी सलाह अगर पति मान लेंगे तो उन्हें क्वारनटीन में 15 दिन बाहर रहना पड़ेगा. घर में वो रह ही नहीं सकता. लॉकडाउन में मंदिर ना जा पाने पर सुरेंद्र जी ने कहा कि मंदिर का मतलब होता है मन के अंदर. कहीं जाने की जरूरत नहीं. धार्मिकता का सरोकार खुद के अंदर से ही है. इसके अलावा सुरेंद्र जी ने कोरोना वॉरियर्स को भी अपना सलाम भेजा. उन्होंने कहा- सफाईकर्मी गंदगी नहीं फैलने दे रहे, पुलिस परिवार की परवाह किए बिना तैनात है. डॉक्टर तैनात हैं और लॉकडाउन का पालन कर रही जनता भी कोरोना वॉरियर्स है. इस मुश्किल समय में हर व्यक्ति बधाई का पात्र है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें