scorecardresearch
 

मणिपुर की इस झील में है दुनिया का एकमात्र तैरता हुआ नेशनल पार्क

पूर्वोत्तर भारत अपनी प्राकृतिक खूबसूरती की वजह लोगों को यहां घूमने के लिए आकर्षित करता है. देश के इस हिस्से में एक झील पर दुनिया का इकलौता तैरता हुआ नेशनल पार्क है.

X
लोकतक झील लोकतक झील

भारत का मणिपुर राज्य अपने आप में कई खूबसूरत नजारे समेटे है. यहां देश के पूर्वोत्तर हिस्से की ताजे पानी की सबसे बड़ी झील है. इस झील का नाम है लोकतक. इस झील की खास बात यह है कि यहां दुनिया का एकमात्र तैरता हुआ नेशनल पार्क है.

लोकतक झील की खासियत -
लोकतक झील इम्फाल से 53 किलोमीटर दूर मणिपुर के बिशनुपुर जिले में है. दुनिया में इस झील को तैरती हुई झील के नाम से भी जाना जाता है. इस झील में बने प्राकृतिक द्वीप देखने लायक हैं. इन्हें 'फुमदी' कहा जाता है. इन द्वीपों में सबसे बड़ा द्वीप 40 स्क्वायर किलोमीटर में फैला है. इन फुमदियों पर स्थानीय मछुआरे रहते हैं. प्रकृति के सुंदर नजारों पर तैरती लोकतक झील मणिपुर को आर्थिक रूप से भी मजबूत बनाती है. इस झील से राज्य की हाइड्रोपॉवर जनरेशन के लिए पानी दिया जाता है.

झील पर तैरता नेशनल पार्क -
लोकतक झील भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में प्रसिद्ध है. इसका कारण है इस झील पर तैरता दुनिया का इकलौता फ्लोटिंग नेशनल पार्क. इसे कीबुल लामजो के नाम से जाना जाता है. यह पार्क झील के बीच में स्थित है. इस नेशनल पार्क को विश्व से विलुप्त होते संगाई हिरनों का आखरी प्राकृतिक घर कहा जाता है. संगाई मणिपुर का राज्य पशु भी है.

इस जंगल में कई जानवर हैं जैसे कछुए, सांपों में कोबरा और वाइपर, कुछ कम दिखने वाली बिल्लियां मार्बल्ड कैट और एशियन गोल्डन कैट. यहां पर घूमने आने वाले लोगों को कई बार हिमालय का काला भालू और सन भालू भी दिख जाता है. इस जंगल में पक्षियों की भी कई प्रजातियां हैं जैसे चकवा, चील, पूर्वी हिमालय का किंगफिशर, उत्तरी पहाड़ी मैना, पूर्वी जंगली कौआ, उत्तर भारतीय काला ड्रोंगो, स्पॉटबिल बतख और भी कई.
आप भी प्रकृति, जानवर और पक्षियों को पसंद करते हैं तो लोकतक झील की गोद में पल रहे इस नजारे को देखकर आपको बेहद खुशी मिलेगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें