scorecardresearch
 

डार्क सर्कल्स हैं इस खतरनाक बीमारी का एक संकेत, हल्के में लेने की ना करें गलती

दुनियाभर में अधिकतर लोग डायबिटीज की समस्या से जूझ रहे हैं. डायबिटीज के मरीजों को अपनी डाइट, ब्लड शुगर के स्तर और वजन समेत कई चीजों का ध्यान रखना पड़ता है. डायबिटीज होने पर सेहत के साथ-साथ कई तरह की स्किन संबंधित दिक्कतों का भी सामना करना पड़ता है.

X
स्टोरी हाइलाइट्स
  • डायबिटीज होने पर स्किन पर दिखते हैं ये लक्षण
  • इन संकेतों को ना करें इग्नोर

डायबिटीज होने पर शरीर में ब्लड शुगर लेवल बढ़ने लगता है. जब ब्लड शुगर जरूरत से ज्यादा बढ़ता है तो यह काफी खतरनाक साबित होता है क्योंकि यह नसों तक जरूरी पोषक तत्व पहुंचाने वाली वाहिकाओं को डैमेज कर देता है. ऐसे में जरूरी है कि आप ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करें. ब्लड शुगर लेवल बढ़ने पर शरीर के अलावा स्किन पर भी इसके संकेत देखने को मिलते हैं जैसे, डार्क सर्कल, स्किन का ढीला पड़ना और आंखों का सूज जाना. ये सभी चीजें इशारा करती हैं कि आपके शरीर में ब्लड शुगर लेवल हाई है. 

जब डायबिटीज को मैनेज करना काफी मुश्किल हो जाता है और ब्लड शुगर लेवल जरूरत से ज्यादा हाई हो जाता है तो स्किन में कई तरह के बदलाव दिखने शुरू हो जाते हैं. 

डायबिटीज का सबसे कॉमन लक्षण- स्किन का रूखा होना डायबिटीज का एक सबसे कॉमन लक्षण है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ब्लड शुगर कोशिकाओं से फ्लूइड को खींचना शुरू कर देता है. ऐसे में बॉडी अत्यधिक मात्रा में बनने वाले शुगर को बाहर निकालने के लिए यूरिन का उत्पादन करती है. शुगर को शरीर के बाहर निकालने के लिए पानी की जरूरत होती है और ज्यादा पानी ना मिलने के कारण डिहाईड्रेशन की समस्या होने लगती है. जिससे स्किन में ढीलापन और आंखों में सूजन दिखने लगती है. 

डायबिटीज से ग्लाइकेशन प्रोसेस डैमेज होने लगता है. इस कारण स्किन से खिंचाव कम होने लगता है और आंखों के आसपास डार्क सर्कल दिखने लगते हैं. खिंचाव कम होने से स्किन काफी ढीली हो जाती है.  स्किन पर दिखने वाले डायबिटीज के अन्य लक्षण भी हैं.

गर्दन के आसपास की स्किन डार्क होना- अगर आपकी गर्दन के आसपास की स्किन का कलर डार्क होना शुरू हो गया है तो इसका मतलब है कि आपके ब्लड में इंसुलिन का लेवल बढ़ गया है. इस स्किन कंडीशन का मेडिकल नाम अकन्थोसिस निगरिकन्स है. अकन्थोसिस निगरिकन्स भी डायबिटीज का संकेत हो सकता है. 

छाले पड़ना- यह काफी कम लोगों को होता है लेकिन डायबिटीज के मरीजों को स्किन पर छालों की समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है. इस बीमारी में शरीर के किसी भी हिस्से में छाले निकलने लगते हैं. स्किन जलने के बाद निकलने वाले छालों के मुकाबले इन छालों में दर्द कम होता है. यह छाले काफी बड़े होते हैं.

स्किन इंफेक्शन- डायबिटीज के मरीजों को स्किन इंफेक्शन की समस्या का भी सामना करना पड़ सकता है. डायबिटीज के कारण होने वाला यह स्किन इंफेक्शन शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकता है. 

स्किन का हार्ड होना- डायबिटीज होने पर आपके शरीर के कुछ हिस्सों की स्किन काफी हार्ड या सख्त होने लगती है जिससे मूवमेंट में काफी दिक्कत होती है. अगर डायबिटीज को काफी लंबे समय तक कंट्रोल नहीं किया जाता तो इससे उंगलियों की त्वचा पत्थर की तरह सख्त हो जाती है. कुछ मामलों में घुटने, कोहनी और टखने के आसपास की स्किन काफी ज्यादा सख्त हो जाती है. जिस कारण कभी-कभी आपको अपने हाथ-पैरों को मोड़ने या सीधा करने में दिक्कत होती है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें